Today Click 242

Total Click 180623

Date 23-09-18

मनोरंजन

देश

 

खेल

 

वीडियो

संपादकीय

क्या एक बार फिर होगा एससी/एसटी एक्ट में बदलाव?

इलाहाबाद हाई कोर्ट के इस फैसले के बाद एससी/एसटी एक्ट में संसद द्वारा किए गए बदलाव के सुप्रीम कोर्ट में टिक पाने को लेकर सवालिया निशान खड़ा हो गया है। संसद द्वारा कानून में किए गए संशोधन क बाद उसे सुप्रीम कोर्ट मे चुनौती दी गई है और कोर्ट ने उस याचिका को सुनवाई के लिए स्वीकार भी कर लिया…

विस्तार से देखें

भारत बंद में विपक्षी एकता

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर भाजपा के तमाम बड़े नेता अपने कार्यकर्ताओं को यही समझाते रहते हैं कि विपक्ष का महागठबंधन नहीं होगा, विपक्षी दलों में कोई एकता नहीं है, भाजपा का 50 सालों तक कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता, मोदीजी अजेय हैं, भाजपा अटल है और न जाने क्या-क्या। अभी दो दिनों की…

विस्तार से देखें

अनुशासन और असहमति का फर्क

संघ अपनी कट्टर हिंदुत्व की विचारधारा के साथ-साथ अनुशासन के लिए भी जाना जाता है। संघ के पथसंचालन या अन्य आयोजनों में उसके कार्यकर्ताओं का अनुशासन देखते ही बनता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी संघ की शिक्षा-दीक्षा में रचे-पगे हैं, इसलिए उनमें भी अनुशासन कूट-कूट कर भरा है। लेकिन देश में इस वक्त संघतंत्र नहीं लोकतंत्र ही कायम है। इस…

विस्तार से देखें

भविष्य की डरावनी सूरत

कल यानी मंगलवार को जिस तरह से पुणे क्राइम ब्रांच की टीम ने देश भर के अलग-अलग जगहों पर छापे मारी की और सामाजिक कार्यकर्ताओं की देश भर से गिरफ्तारियां हुईं, यह इस बात का प्रमाण है, देश में अब फासीवादी चेहरे के ऊपर लगा मुखौटा उतर चुका है और तानाशाही मानसिकता खुलकर अपना रूप दिखाने लगी हैं। दरअसल, इस…

विस्तार से देखें

पुराने भारत को खत्म करके बनेगा न्यू इंडिया?

पिछले 4 सालों से प्रधानमंत्री मोदी यूपीए सरकार को कोसते आये हैं, और लालकिले से अपने इस कार्यकाल के अंतिम सम्बोधन में भी उन्होंने यही किया। 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले के इस सम्बोधन में मोदीजी ने चुनावी बिसात बिछा दी। एक ओर उन्होंने अपनी सरकार के लिए सौ में एक सौ दस अंकों जैसा रिपोर्ट कार्ड पेश किया…

विस्तार से देखें

ये मुल्क किसका है!

फिल्म बताती है कि ये पूर्वाग्रह, भिन्नताओं के आधार पर लोगों को 'हम' और 'वे' में बांटे जाने की जमीन पर पनपते हैं और हम वास्तविक, जीते-जागते और इसलिए, कई चीजों में समान किंतु कई और चीजों में अलग-अलग इंसानों को, स्टीरियोटाइप्स में घटाकर देखने लगते हैं। यह सिलसिला 'वे' के दानवीकरण तक जाता है। इसे पलटते हुए, फिल्म ध्यान…

विस्तार से देखें

क्या असम के प्रवासी देश की सुरक्षा के लिए खतरा है?

अब तक भारत एक बड़े दिल वाला देश रहा है। हमने कभी शरणागत को नहीं ठुकराया। हमने तमिल-भाषी श्रीलंका निवासियों को गले लगाया और तिब्बत के बौद्धों को सम्मान से रखा। अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आने  वाले हिन्दुओं को शरणार्थी और मुसलमानों को घुसपैठिया बताना अमानवीय है। अगर एनआरसी का अंतिम मसौदा तैयार भी हो गया तो इससे हमें क्या…

विस्तार से देखें

करुणानिधि : दूरदृष्टि संपन्न नेता

डीएमके प्रमुख करुणानिधि के निधन के साथ ही भारतीय और तमिल राजनीति का एक महत्वपूर्ण अध्याय खत्म हो गया। 17 बरस की किशोरावस्था से उनकी राजनीतिक सक्रियता प्रारंभ हुई, जो जीवन के अंतिम दौर तक कायम रही। बीते दो-तीन बरसों में ही अस्वस्थता और बढ़ती आयु के कारण वे सक्रिय राजनीति से दूर रहे, लेकिन इससे उनकी लोकप्रियता या जनता…

विस्तार से देखें