नेपाल के चुनावी नतीजे : भारत के सामने नई चुनौती

15 December 2017

इतनी नजदीकियों के बावजूद आज नेपाल भारत के प्रति सशंकित रहता है और उसे लगता है कि भारत पर से वह अपनी निर्भरता समाप्त या कम करे। इसके लिए वह चीन से अपने संबंधों में प्रगाढ़ता लाने की कोशिश कर रहा है। कोई पड़ोसी देश अन्य देशों से अपने संबंध…

किसान नहीं, सरकार बचाए गाय को

14 December 2017

नई परिस्थिति में गाय तथा बैल दोनों ही किसान के लिए आर्थिक बोझ बन गए हैं। किसान के लिए टे्रक्टर, थ्रेशर, ट्यूबवेल ने बैल को अप्रासंगिक बना दिया है और भैंस ने गाय को अप्रासंगिक बना दिया है। अब गाय के संरक्षण का एक मात्र उद्देश्य अध्यात्मिक लाभ बचा रहता…

चाबहार बंदरगाह का आर्थिक-सामरिक महत्व

13 December 2017

भारत के लिए चाबहार से जुड़ाव इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि यह पाकिस्तान में चीन द्वारा चलने वाले ग्वादर बंदरगाह से सिर्फ  100 मीटर ही दूर है। गौरतलब है कि चीन इसे चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के जरिए बनवा रहा है। दरअसल चीन की मंशा इस बंदरगाह के जरिए एशिया में…

देश के नए बाप

12 December 2017

आरएसएस और भाजपा की महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू जैसे विराट व्यक्तित्वों वाले नेताओं से पुरानी खुन्नस रही है। इतिहास को बदलने की चाहे ये लोग कितनी ही कोशिश कर लें, इस तथ्य को वे चाह कर भी बदल नहीं सकते कि 30 जनवरी 1948 को गांधी की हत्या नाथूराम…

राहुल गांधी! कांग्रेस अध्यक्ष की चुनौतियां और मां का आदर्श

11 December 2017

राहुल गांधी एक नए अवतार में हैं। उन पर कांग्रेस अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी तब आ रही है, जब पार्टी विपक्ष में है, मीडिया और पूंजीपति साथ छोड़ चुके हैं, कट्टरपंथी राजनीति चरम पर है और उनका मुकाबला नरेंद्र मोदी जैसे हाल के दौर के उस चमत्कारी नेता से है,…

उप्र नगर निकाय चुनाव: जो जीता वही सिकंदर, मगर कैसा?

09 December 2017

बेशक, नगर निगमों के चुनाव में भाजपा की उल्लेखनीय जीत हुई है और ऐतिहासिक तथा अभूतपूर्व जैसे विशेषण इसी जीत को पूरे चुनाव पर फैलाने पर आधारित हैं। राज्य के कुल 16 नगर निगमों में से दो, अलीगढ़ तथा मेरठ को छोड़कर, बाकी सभी में नगर प्रमुख के पद पर…

अर्थव्यवस्था में नहीं आए अच्छे दिन

08 December 2017

वित्तमंत्री अरुण जेटली का कहना है कि भारत की अर्थव्यवस्था पिछले तीन सालों में काफी तेजी से बढ़ी है। उन्होंने बढ़ती महंगाई पर कांग्रेस के आरोपों को निराधार करार देते हुए यह भी कहा है कि आंकड़ों पर नजर डालें तो आम तौर पर महंगाई में गिरावट दर्ज की गई…

छुईमुई बन गया बरगद का वृक्ष

07 December 2017

यह संभव है कि इस कॉलम के छपने के पूर्व ही फिल्म पद्मावती प्रदर्शित हो जाए। यह भी उतना ही संभव है कि 1 दिसंबर की घोषित तिथि और आगे बढ़ा दी जाए। अनुमान होता है कि गुजरात के विधानसभा चुनाव सम्पन्न होने तक फिल्म को लेकर उठा विवाद किसी…

25 साल पहले हिंदुस्तान का दिल टूटा था

06 December 2017

हिंदुस्तान की गंगा-जमुनी तहजीब में 25 साल पहले एक कलंक लगा था। एक ऐसा दाग, जिसे शायद ही कभी मिटाया जा सके। 6 दिसम्बर 1992 को न्यायपालिका, कार्यपालिका, विधायिका, लोकतंत्र के इन तीन स्तंभों की नींव हिलाते हुए, संविधान को मुंह चिढ़ाते हुए ऐतिहासिक बाबरी मस्जिद तोड़ दी गईर् थी।…

गांधी-सैम पित्रोदा आर्थिक विकास मॉडल

05 December 2017

सैम पित्रोदा की सलाह पर सरकार ने पेयजल, टीकाकरण, साक्षरता, तिलहन, दूर संचार एवं दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में मिशन स्थापित करके  विकास कार्य  प्रारंभ किया । राजीव गांधी - सैम पित्रोदा का मिशन मोड एप्रोच इतना अधिक लोकप्रिय हुआ है कि कांग्रेस और गांधी परिवार के कटु आलोचक वर्तमान…

हादिया की मर्जी का सवाल

03 December 2017

केरल की हादिया अब न मां-बाप के साथ रहेंगी, न अपने पति के साथ, बल्कि वे तमिलनाडु के सलेम में होम्योपैथिक कालेज के हास्टल में रह कर अपनी पढ़ाई पूरी करेंगी। उनके अभिभावक कालेज के डीन होंगे। यह फैसला सोमवार को सर्वोच्च न्यायालय ने दिया। इससे पहले चली लंबी सुनवाई…

चुनाव लड़ रहे हैं, या धर्मयुद्ध?

02 December 2017

पोप को भारत, बांग्लादेश, और म्यांमार आना था, जिसकी घोषणा 2 अक्टूबर 2016 को एक प्रेस कांफ्रेंस में कर दी गई थी। पोप अब 2018 में भारत आएंगे। क्या इस स्थगन की वजह गुजरात चुनाव है? प्रत्यक्ष रूप से बैटिकन कहने से इंकार करता है, मगर गांधीनगर में आर्च बिशप…

राहुल के सामने चुनौतियां

30 November 2017

राहुल गांधी की सबसे बड़ी चुनौती गुजरात का आगामी चुनाव है। वास्तव में, यह सत्तारूढ़ भाजपा समेत सभी राजनीतिक पार्टियों के लिए महत्वपूर्ण चुनाव है। राज्य विधान सभा के चुनाव राहुल गंाधी के अलावा प्रधानमंत्री मोदी तथा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के लिए भी अग्नि परीक्षा हैं। यह पक्का करने…

विश्व बैंक की कारोबार सुगमता रिपोर्ट

28 November 2017

सवाल उठता है कि विश्व बैंक की वर्तमान रिपोर्ट का नाम डूइंग बिजनेस 2018, रिफार्मिंग टू क्रिएट जॉब्स है किन्तु  रिपोर्ट में रोजगार सृजन न तो संकेतांक के रूप में दिखाई देता है न ही किसी देश की रैंकिंग को प्रभावित करता नजर आता है। कारोबार की सुगमता से किस…

अयोध्या : इन प्रवृत्तियों के रहते कैसे होगा समझौता?

18 November 2017

लोकतंत्र में सहमति व स्वीकृति को बड़ा गुण माना जाता है, लेकिन अयोध्या मामले में इनके केन्द्र क्या होंगे और इसके प्रयासों में शामिल होने वालों का चयन किस प्रक्रिया, विधि और मान्यता के अनुसार होगा? इन सवालों का जवाब दिया जाना इसलिए जरूरी है कि कोई भी निर्णय भविष्य…

एअर इंडिया के साथ बैंकों का निजीकरण कीजिए

17 November 2017

यह तथ्य सही है कि सार्वजनिक इकाइयों में दलितों को आगे बढ़ने का अवसर मिला है। परन्तु दलितों को आगे बढ़ाने में सार्वजनिक इकाइयां ही घाटे में आ जाएं तो यह नाव को ओवरलोड करके डूबाने जैसा हुआ। इसी उद्देश्यों को हासिल करने के दूसरे उपाय उपलब्ध है जैसे जो…

नेहरू बनाम पटेल

16 November 2017

यह स्पष्ट है कि नरेन्द्र मोदी की जो राजनैतिक महत्वाकांक्षा है उसमें लालकृष्ण अडवानी के लिए कोई जगह नहीं है। वे कभी वाजपेयी जी के अनन्य सहयोगी रहे होंगे, आज उनकी उपयोगिता शून्य है। मुरली मनोहर जोशी और शांताकुमार जैसे वरिष्ठ नेता भी हाशिए पर हैं। इसी तरह एक ओर…

जम्मू-कश्मीर : सिर्फ वार्ताकार नियुक्त करने से क्या होगा?

15 November 2017

कहने की जरूरत नहीं है कि गुजरात में जहां भाजपा को आने वाले चुनाव में बहुत गंभीर चुनौती का सामना करना पड़ रहा है और 'विकास पुरुष' की नरेंद्र मोदी की छवि की चमक धुंधली पड़ चुकी है, संघ-भाजपा जोड़ी बढ़ते पैमाने पर सांप्रदायिक चेहरे को चमकाने वाले अपने जाने-पहचाने…

विदेशों में जमा कालाधन वापस लाने के दावे कितने सफल

14 November 2017

विदेशों में जमा कालेधन पर बहुत बोलने वाले कुछ तत्वों की एक कमी यह है कि अपने देश में जमा  कालेधन के बारे में नहीं बोलते हैं, जबकि यह विदेशों से वापस प्राप्त हो सकने वाले कालेधन से भी अधिक है। सच तो यह है कि विदेशों में कालेधन के…

हर सांस के साथ फेफड़ों में घुलता जहर, जिम्मेदार हम स्वयं

13 November 2017

प्रकृति से खिलवाड़ करने का नतीजा दिल्ली से वाराणसी तक देश की हवा में घुल कर आसमान पर कालिख के रूप में छा गया है। नेशनल अकेडमी ऑफ साइंसेज में हाल ही में प्रकाशित शोध में वैज्ञानिकों ने इसके लिए बढ़ती आबादी और अमीर लोगों द्वारा अपने भौतिक आराम के…

अतीत का साम्प्रदायिकीकरण: 'पद्मावती' फिल्म यूनिट पर हमला

11 November 2017

वर्तमान समय में इस तथ्य को भुलाकर, राजाओं द्वारा किए गए युद्धों को सांप्रदायिक चश्मे से देखा जा रहा है। यह बताया जा रहा है कि राजपूतों ने मुस्लिम आक्रांताओं के खिलाफ बहादुरी से युद्ध किया और 'अपनी महिलाओं' के सम्मान की रक्षा की। इन महिलाओं ने मुस्लिम राजाओं के…

पत्रकारिता के बुनियादी सवालों पर नए विचार की ज़रुरत

10 November 2017

संविधान में लिखा है  कि 'अभिव्यक्ति की आजादी के अधिकार के प्रयोग पर भारत की प्रभुता और अखंडता, राज्य की सुरक्षा, विदेशी राज्यों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों, लोक व्यवस्था, शिष्टाचार या सदाचार  के हितों में अथवा न्यायालय-अवमानना, मानहानि या अपराध-उद्दीपन के संबंध में युक्तियुक्त निर्बंधन जहां तक कोई विद्यमान विधि…

दूसरे विचारों का सम्मान जरूरी

09 November 2017

 वित्त मंत्रालय गलती करे तो रिजर्व बैंक सम्हाल लेता था। रिजर्व बैंक गलती करे तो वित्त मंत्रालय सम्हाल लेता था। लेकिन रिजर्व बैंक का यह स्वातंत्र्य सरकार को पसंद नहीं आया। इसलिए सरकार ने मुद्रा नीति के निर्धारण को 'मानेटरी पालिसी कमेटीÓ बनाई। इस कमेटी में तीन सदस्य सरकार द्वारा…

चुनाव गुजरात में और दांव पर 2019

08 November 2017

आज की तारीख में कोई सियासी नजूमी भी यह पेशगोई करने का खतरा मोल नहीं ले सकता कि 2019 में ऊंट किस करवट बैठेगा।  जिंदगी की तरह सियासत में भी हालत बदलते देर नहीं लगती।  2013 से पहले कोई नहीं कह सकता था कि नरेंद्र मोदी भाजपा के केंद्र में…

पुराने नोटों की बंदी की पहली बरसी

07 November 2017

प्रारंभ में प्रधानमंत्रीजी ने नकदी से पीड़ित लोगों को भरोसा दिलाते हुए कहा था कि थोड़े दिन यह दर्द सह लीजिए मैं  कालेधन को समाप्त करके कालाधन मुक्त भारत कर दूंगा ताकि नया भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाया जा सके।  किंतु 31 दिसंबर तक रिजर्व बैंक के पास 500 रुपए तथा…

ऐसे दांव पर लगीं मजदूरों की जानें!

06 November 2017

पता नहीं अब एनटीपीसी किस बात की जांच करायेगा! सीएमडी गुरदीप सिंह तो अभी से इस नतीजे पर पहुंचे हुए हैं कि ऊंचाहार में 'अनहोनी' हुई, जबकि यह बात वहां दंतकथा बन गई है कि उन्होंने ही 'सरकार' की नजर में चढ़ने और प्रधानमंत्री को उद्घाटन के लिए बुलाकर वाहवाही…

लो फिर से आया चुनावी मौसम

05 November 2017

फिर आ गया चुनाव का मौसम. लो फिर आ गयी सर्वे की बहार. लो फिर आ गये कयास लगानेवाले, काला जादू दिखानेवाले. फिर शुरू हो गयी चाय, छांछ, कॉफी, पेग पर चुनावी चर्चा.

अपने पूर्व जन्म में मैं भी इस चर्चा में हिस्सा लिया करता था. कोशिश करता था कि…

'ईश्वर के देश' को ध्रुवीकृत करने की हिन्दुत्ववादी कोशिश

04 November 2017

केरल एक ऐसा राज्य है जहां तीनों प्रमुख धार्मिक समुदायों के सदस्यों की बड़ी आबादी है। वहां हिन्दुओं, मुसलमानों और ईसाईयों तीनों की खासी जनसंख्या है। भारत में ईसाई सबसे पहले केरल के मलाबार तट पर पहुंचे। सेंट थॉमस 52 ईस्वी में केरल आए और उसके बाद से केरल में…

ग्लैमर की चाहत : देश की हकीकत

02 November 2017

भारत की कोई लड़की मिस वर्ल्ड बने या सुपरमॉडल, यह उसकी निजी पसंद, अभिलाषा, परिश्रम का परिणाम है। जैसे बछेंद्री पाल या संतोष यादव की एवरेस्ट विजय पर हमें गर्व होता है, वैसे ही देश की इन लड़कियों की कड़ी स्पर्धा में सफलता पर भी हम प्रसन्नता व्यक्त कर सकते…

किसके प्रधानमंत्री हैं मोदीजी?

01 November 2017

यह महज संयोग है कि सरदार पटेल की जयंती और इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि एक ही तारीख को पड़ती है। जैसे महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री की जयंती भी एक ही तारीख को होती है। इतिहास के इन महापुरुषों के प्रति भारतीय जनता हमेशा ही कृतज्ञ रही है और…