Breaking News

Today Click 661

Total Click 451942

Date 22-04-19

राहुल गांधी के #अबआपकीबारी ट्वीट ने 'आप' को चौंकाया

By Sabkikhabar :16-04-2019 07:39


ऐसा शायद पहली बार है, जब साथ चुनाव लड़ा जाए या नहीं, इस पर दो पार्टियों के सबसे बड़े नेता ट्विटर पर बात करें। दिल्ली में गठबंधन पर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (AAP) के बीच सोमवार को ऐसा ही हुआ। सबको चौंकाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया - ‘कांग्रेस और AAP के बीच दिल्ली में गठबंधन का मतलब होगा बीजेपी की पूरी तरह हार। इसे तय करने के लिए कांग्रेस दिल्ली में चार सीटें AAP को देने के लिए तैयार है। लेकिन केजरीवाल जी ने एक और यू-टर्न ले लिया है! हमारे दरवाजे अब भी खुले हैं, लेकिन वक्त तेजी से खत्म हो रहा है।’ राहुल ने हैशटैग भी लगाया, #अब AAP की बारी। यानी राहुल ने गेंद सीधे AAP के पाले में डाल दी, साथ ही संदेश भी दिया कि कांग्रेस सिर्फ दिल्ली में अलायंस चाहती है और यह नहीं हुआ तो जिम्मेदारी AAP पर जाए। 
थोडी देर बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जवाबी ट्वीट किया। उन्होंने राहुल से पूछा, कौन सा यू-टर्न, अभी तो बातचीत चल रही थी। आपका ट्वीट दिखाता है कि गठबंधन आपकी इच्छा नहीं, मात्र दिखावा है। सीएम ने लिखा, मुझे दुख है कि आप बयानबाजी कर रहे हैं, आज देश को मोदी-शाह के खतरे से बचाना अहम है। दुर्भाग्य है कि आप यूपी और अन्य राज्यों में भी मोदीविरोधी वोट बांटकर मोदीजी की मदद कर रहे हैं। 

दोनों पार्टियों से जुड़े सूत्र कहते हैं कि इस सोशल मीडिया बहस का मतलब यह नहीं है कि अलायंस नहीं हो रहा, लेकिन कांग्रेस ने इससे AAP पर जवाबी दबाव बनाने की कोशिश की है। हो सकता है दोनों पार्टियां इस बारे में जल्द किसी एक राय पर पहुंच जाएं। 

आप के प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने राहुल गांधी के ट्वीट पर सवाल किया कि राहुल गांधी 18 सीटों पर बीजेपी को हराने के लिए दिलचस्पी क्यों नही दिखा रहे हैं? कांग्रेस ने 4 सीट का दरवाजा खोला है तो हमने दिल्ली, हरियाणा और चंडीगढ़ में 18 सीट पर बीजेपी को हराने के लिए दरवाजा खोल रखा है। राय ने कहा कि पूरा देश चाहता है कि देश से तानाशाही को हटाने के लिए संविधान व लोकतंत्र बचाने के लिए पूरा विपक्ष एकजुट हो। उन्होंने कहा कि मसला सीटों का नहीं बल्कि देश बचाने का है। राय ने फिर दोहराया कि बीजेपी को हटाने और लोकतंत्र को बचाने को लेकर अगर कांग्रेस संजीदा है तो आम आदमी पार्टी आज भी 18 सीटों पर बात करने को तैयार है। 

वहीं आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने भी ट्वीट के जरिए कहा कि पंजाब में आप के 4 सांसद, 20 विधायक हैं लेकिन कांग्रेस एक भी सीट नहीं देना चाहती। हरियाणा में जहां कांग्रेस का एक सांसद है, वहां भी कांग्रेस एक सीट नहीं देना चाहती। दिल्ली में जहां कांग्रेस के 0 एमएलए और 0 एमपी हैं, वहां पर कांग्रेस हमसे 3 सीट चाहती है, क्या ऐसे होता है समझौता? 

सीनियर कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने भी ट्विटर पर लिखा। उन्होंने लिखा, हम रिकॉर्ड को पूरे तरीके से साफ-साफ रखना चाहते हैं। दिल्ली प्रदेश यूनिट के विरोध के बावजूद कांग्रेस प्रेजिडेंट राहुल गांधी ने मनाया कि पार्टी दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन करे। लेकिन वे(आप) हरियाणा में सीट्स पर जोर देते रहे। हमारा प्रस्ताव अब भी है...बॉल उनके पाले में है। 

Source:Agency