Breaking News

Today Click 251

Total Click 448628

Date 19-04-19

नई सरकार तय करेगी भविष्य, रिलीज टलने से MP में इतना नुकसान

By Sabkikhabar :12-04-2019 08:46


भोपाल। प्रधानमंत्री मोदी की जीवन पर बनी फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' ( Modi Biopic) को लेकर वितरकों, सिनेमाघर संचालकों और दर्शकों में खासा उत्साह था। फिल्म में मोदी का किरदार निभा रहे विवेक ओबेरॉय ने रिलीज होने से पहले दर्शकों के बीच फिल्म को लेकर जिस तरह उत्सुकता पैदा की थी, फिल्म की डिमांड को देखते हुए वे अपने मकसद में कामयाब भी रहे। लेकिन, इस उत्साह और उत्सुकता पर फिल्म पर लगी रोक ने पानी फेर दिया।

फिल्म से अच्छे बिजनेस की उम्मीद लगा बैठे वितरकों का मानना है कि अब फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' का भविष्य नई सरकार से ही तय होगा। मोदी प्रधानमंत्री बने तो फिल्म की डिमांड होगी और नहीं बने तो उसका असर अलग होगा। करीब 20 करोड़ की लो-बजट फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' 12 अप्रैल को पूरे देश में रिलीज होना थी। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर विवेक ओबेरॉय स्टारर यह फिल्म रिलीज की तारीख आते ही विवाद में आ गई थी। दो दिन पहले 10 अप्रैल को अंतत: केंद्रीय चुनाव आयोग ने आचार संहिता तक फिल्म रिलीज करने पर रोक लगा दी। हालांकि इससे पहले नौ अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट द्वारा आपत्ति पर सुनवाई से इनकार करने और केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) यानी सेंसर बोर्ड से मंजूरी मिलने पर वितरकों के पास सिनेमाघर संचालकों और मल्टी प्लेक्स कंपनियों की जमकर डिमांड पहुंच गई थी।

अकेले मध्य भारत से वितरकों के पास 80 सिनेमाघरों ने फिल्म प्रदर्शन का अनुबंध एक दिन में कर लिया था, इनमें 40 मल्टीप्लेक्स थे। वहीं पूरे मध्य प्रदेश की बात करें तो यह संख्या 300 के आसपास पहुंच गई थी। सेंसर बोर्ड की मंजूरी मिलते ही बुक माय शो एप पर एडवांस बुकिंग ओपन होते ही महज दो घंटे में बड़ी संख्या में दर्शकों ने टिकट बुक कर दी थी। लेकिन जैसे ही चुनाव आयोग का आदेश आया, बुकिंग प्लान वापस ले लिया गया। मध्य भारत फिल्म एसोसिएशन के ओपी गोयल बताते हैं कि ऐसी मांग बड़े बजट, बड़े स्टारर की फिल्मों के साथ बनती है जिनका दर्शकों को बेहद उत्सुकता से इंतजार रहता है।

वहीं सिने सर्किट एसोसिएशन के जितेंद्र जैन का मानना है कि फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' को लेकर दर्शकों में उत्सुकता और ट्रेड में उम्मीद का कारण नरेंद्र मोदी का वर्तमान में प्रधानमंत्री होना भी है। यह माहौल फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' की अगली रिलीज डेट तक भी बना रहेगा, यह नई सरकार से ही तय होगा। बहरहाल यह जरूर है कि फिल्म की डिमांड को देखते हुए रोक से जहां ट्रेड को निश्चित ही करोड़ों का नुकसान हुआ है, वहीं दर्शक भी निराश हुए हैं।


सलिए फ्लॉप हुई थी एक्सीडेंटल प्राइममिनिस्टर

वितरकों का मानना है दर्शक वर्तमान आधारित विषयों को जयादा पसंद करता है। एक्सीडेंटल प्राइममिनिस्टर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर आधारित थी, इसलिए भरपूर प्रोमो के बाद भी फ्लाप हो गई। फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी" वर्तमान प्रधानमंत्री मोदी पर केंद्रित है इसलिए अभी उसकी अच्छी डिमांड बनी थी।
 

Source:Agency