Breaking News

Today Click 327

Total Click 378199

Date 20-02-19

योगेंद्र के समर्थन मे आए केजरी, कहा-बदले की राजनीति बंद करे मोदी सरकार

By Sabkikhabar :12-07-2018 08:35


आयकर विभाग ने हरियाणा के रेवाड़ी में स्वराज इंडिया के प्रमुख योगेंद्र यादव से जुड़े एक अस्पताल समूह के विभिन्न परिसरों से करीब 22 लाख रुपये नकद बरामद किए. बुधवार को की गई छापेमारी के बाद योगेंद्र यादव ने इसको लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा किया था. अब योगेंद्र के समर्थन में उनके पूर्व साथी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी आ गए हैं.

इससे पहले यह सूचना मिली थी कि अस्पताल समूह ने गहने खरीदने के लिए नीरव मोदी की फर्म को नकद भुगतान किया था. हालांकि, स्वराज इंडिया के प्रमुख यादव ने आरोप लगाया है कि उनकी बहन के अस्पताल पर छापेमारी सिर्फ उन्हें 'डराने' और 'चुप' कराने के लिए की जा रही है क्योंकि उन्होंने हरियाणा में किसानों को उनकी फसलों का वाजिब दाम दिलाने के लिए मुहिम शुरू की है.

अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार सुबह ट्वीट किया कि मैं योगेंद्र यादव के घर IT जैसी एजेंसियों का दुरुपयोग कर छापे मरवाने की निंदा करता हूं. मोदी सरकार को इस तरह की राजनीति बंद करनी चाहिए.

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल ने प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव को आम आदमी पार्टी से निकाल दिया था, जिसके बाद योगेंद्र लगातार कई मौके पर केजरीवाल की आलोचना करते दिखे हैं. हाल ही में उन्होंने एक ट्वीट भी किया था, जिसे बाद में वापस ले लिया था. इस अलगाव के बाद ये पहली बार ही है जब केजरीवाल इस तरह यादव के समर्थन में आए हैं.

आपको बता दें कि बुधवार को अस्पताल पर हुई कार्रवाई के बाद अधिकारियों ने बताया कि टैक्स विभाग ने कलावती अस्पताल और कमला नर्सिंग होम, इसके मुख्य साझेदार डॉ. गौतम यादव और अन्य के निवास परिसरों की तलाशी ली.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, तीन परिसरों की तलाशी आयकर विभाग की हरियाणा जांच शाखा की टीमों द्वारा की जा रही है. करीब 40 कर अधिकारियों और पुलिसकर्मियों की टीम ने यह कार्रवाई की. समझा जाता है कि गौतम यादव योंगेंद्र यादव की बहन डॉ. नीलम यादव के बेटे हैं.

अधिकारियों के अनुसार कर विभाग ने नीरव मोदी ग्रुप से मिली सूचनाओं के आधार यह कार्रवाई की है. नीरव मोदी दो अरब रुपये के पीएनबी धोखाधड़ी मामले में फरार चल रहा है. पाया गया है कि गौतम यादव ने हीरा कारोबारी की कंपनी से गहने खरीदने के लिए साढ़े छह लाख रुपये में से सवा तीन लाख रुपये का नकद भुगतान किया था. उन्होंने बताया कि तलाशी के दायरे में डॉ. नरेंद्र सिंह यादव भी रहे और यादव परिवार के यहां से 22 लाख रुपये नकद मिले. एक अधिकारी ने कहा, किसी भी व्यक्ति के हाथों में वर्तमान नकद सीमा दो लाख रुपये है और 22 लाख रुपये की इस नकद राशि के स्रोत की जांच की जा रही है.

यादव ने ट्विटर पर लगाया था आरोप

यादव ने दिन में ट्विटर के माध्यम से आरोप लगाया था कि मोदी सरकार उन्हें ‘‘डराने’’ के लिए छापेमारी के माध्यम से उनके परिवार को ‘‘निशाना’’ बना रही है. यादव ने ट्वीट किया था, दिल्ली से आयी 100 से ज्यादा लोगों की टीम ने आज सुबह 11 बजे अस्पताल पर छापेमारी की. सभी डॉक्टरों (मेरी बहन, बहनोई और भांजे सहित) को उनके कमरों मे बंद कर दिया गया. नवजात शिशुओं के आईसीयू सहित पूरे अस्पताल को सील कर दिया गया, यह डराने की स्पष्ट कोशिश है. मोदी जी आप मुझे चुप नहीं करा सकते हैं.
 

Source:Agency