Breaking News

Today Click 859

Total Click 252074

Date 16-11-18

बुराड़ी कांड: कराला के तांत्रिक के पास आता-जाता था भाटिया परिवार

By Sabkikhabar :11-07-2018 05:58


बुराड़ी में भाटिया परिवार के 11 सदस्यों की मौत के मामले में जितनी अफवाहें और चर्चाएं चली हैं, शायद ही किसी अन्य मामले में चली हों। कई कयासों को पुलिस जांच के बाद गलत करार दे चुकी है। ऐसे में क्राइम ब्रांच किसी को गुनहगार न मानकर पूरे मामले का 'पटाक्षेप' करने की ओर बढ़ रही है। हालांकि आज सामने आई एक चिट्ठी ने फिर सनसनी पैदा कर दी है जिसमें चिट्ठी लिखने वाले ने इस पूरे प्रकरण में एक तांत्रिक का नाम लिख दिया है। 
इस शख्स का कहना है कि वह खुद इस परिवार को जानता है और उसने परिवार के लोगों को उस तांत्रिक के पास आते-जाते देखा है। पुलिस कमिश्नर को संबोधित यह खत 'सान्ध्य टाइम्स' को भी भेजा गया है। हालांकि इस बारे में जब जॉइंट सीपी आलोक कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि ऐसी कोई चिट्ठी उनके पास नहीं आई है इसलिए इस पर किसी तरह की टिप्पणी करना सही नहीं होगा। 
खुद को आदर्श नागरिक बताते हुए खत लिखने वाले ने बुराड़ी कांड के पीछे कराला के एक तांत्रिक का सीधा हाथ बताया है। अपना नाम गुप्त रखने का अनुरोध करते हुए उसने लिखा है, 'भाटिया परिवार कराला स्थित एक तांत्रिक के पास जाता रहा है, जो एक मंदिर में बैठता है। उसकी पत्नी भी तंत्र-मंत्र करती है, वे किसी को मारने या परेशान करने के बदले पैसे लेते हैं। मैंने खुद भाटिया परिवार को उस तांत्रिक के पास आते-जाते देखा है।' यह खत भेजने वाले ने खुद को कराला का निवासी बताया है। 

खत लिखने का मकसद उस तांत्रिक का भंडाफोड़ करना और भाटिया परिवार की मौत का सच सामने लाना बताया है। खत कमिश्नर के नाम लिखा गया है, लेकिन इसकी कॉपी पोस्ट के जरिए सान्ध्य टाइम्स को भी भेजी गई है। इस संवाददाता ने क्राइम ब्रांच के जॉइंट सीपी आलोक कुमार और डीसीपी जॉय टिर्की को इस बारे में अवगत करवाया। जॉइंट सीपी ने कहा कि पुलिस को ऐसा कोई पत्र नहीं मिला है, न ही जांच में किसी तांत्रिक का नाम सामने आया है।
बुराड़ी केस को लेकर क्या कहते हैं मनोचिकित्सक?

कानून के जानकारों का कहना है कि हो सकता है कि यह लेटर उस तांत्रिक को फंसाने के लिए भेजा गया हो। चूंकि मामला गंभीर है, इसलिए ऐसी किसी भी जानकारी पर पुलिस को छानबीन करनी चाहिए। क्राइम ब्रांच ने जिस तरह से 'सामूहिक आत्महत्या' के पीछे ललित के मानसिक रोग, उन्हें पिता की आत्मा दिखाई देने और वट पूजा वाली कहानियों को बल दिया है, उससे लगता है कि पुलिस 11 मौतों के मामले का पटाक्षेप करना चाहती है। हालांकि वह बातें आम लोगों के गले नहीं उतर रही हैं। उसकी वजह से तरह-तरह की कहानियां फैल रही हैं।

Source:Agency