By: Sabkikhabar
10-07-2018 08:07

कभी तत्कालीन मुख्यमंत्रियों के लिए 'मनहूस' साबित होता रहा नोएडा अब यूपी सीएम योगी के लिए वरदान साबित हो रहा है। योगी आदित्यनाथ तकरीबन आधा दर्जन बार नोएडा आ चुके हैं और अरबों की योजनाओं का उद्घाटन-शुभारंभ कर चुके हैं, लेकिन न तो उनकी कुर्सी पर फर्क पड़ा और न कुछ बुरा हुआ, यह है योगी का कमाल। सोच से अाधुनिक योगी आदित्यनाथ ने नोएडा आने के अंधविश्वास को पीछे छोड़ते हुए मायावती और मुलायम सिंह से बहुत आगे निकल गए हैं।

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जो नोएडा के अंधविश्वास को अब भी सीने से लगाए हुए हैं, योगी के सामने ठहरते ही नहीं। योगी जहां आधुनिक सोच की बात करते हैं, वहीं समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव नोएडा को लेकर लकीर के फकीर बने हुए हैं और गाहे-बगाहे नोएडा के अंधविश्वास की बातें करते हैं।

वहीं बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि नोएडा को लेकर पीएम और सीएम का इतनी दफा दौरा हुआ हो। पीएम ने स्टार्टअप योजना, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का भी नोएडा से ही शुभारंभ किया था, जबकि इससे पहले 'मनहूस नोएडा' में सीएम-पीएम आने से डरते रहे हैं। 

पीएम आए चार बार तो सीएम योगी नोएडा आए पांच बार

बता दें कि लंबे समय तक नोएडा के बारे में माना जाता रहा है कि इस शहर में प्रदेश का तत्कालीन सीएम आ जाए तो उसकी कुर्सी चली जाती है। इसके ठीक उलट योगी ने इस अंधविश्वास पर चोट करते हुए नोएडा शहर के पांच दौरे कर सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। तकरीबन 6 महीने के दौरान योगी पांच बार नोएडा आए। वहीं, पीएम नरेंद्र मोदी ने भी चार साल में चार बार नोएडा आकर ऐसा काम कर दिया, जो प्रदेश के इतिहास पहले कभी नहीं हुआ।

यहां पर बता दें कि पिछले 30 साल से अधिक समय से खासतौर से बसपा और सपा के शासन के दौरान इस तरह का अंधविश्वास फैलाया जाता रहा है कि यूपी के मुख्यमंत्री का नोएडा आना अशुभ है। ऐसे में कोई सीएम नोएडा आने की हिम्मत नहीं जुटा पाया और यह महज इत्तेफाक है कि जो तत्कालीन सीएम आया उसकी कुर्सी चली गई।

वहीं, सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस अंधविश्वास पर ध्यान नहीं दिया और सबसे पहले वह 23 दिसंबर 2017 को नोएडा पहुंचे और बॉटेनिकल गार्डन से कालजी मजेंडा मेट्रो लाइन के उद्घाटन की तैयारी का जायजा लिया। फिर दो दिन बाद ही यानी 25 दिसंबर 2017 को पीएम मेट्रो का उद्घाटन करने पहुंचे तो योगी भी मौजूद रहे। यानी तीन दिन के अंदर दो बार सीएम ने आकर सभी बातों को पीछे छोड़ दिया। यह भी कह गए कि वह बार-बार नोएडा आएंगे। इसके बाद पिछले सप्ताह सिंचाई विभाग ओखला में उन्होंने अधिकारियों के साथ बैठक ली थी। इसके बाद 8 जुलाई को समीक्षा की और फिर 9 जुलाई को वह पांचवीं बार सैमसंग कंपनी के उद्घाटन के अवसर पर पहुंचे।

विश्वनाथ प्रताप सिंह

1982 में तत्कालीन यूपी के सीएम विश्वनाथ प्रताप सिंह नोएडा में वीवी गिरी श्रम संस्थान का उद्घाटन करने आए थे। उसके बाद वह मुख्यमंत्री पद से हट गए। हालांकि, यह अलग बात है कि वे बाद में देश के प्रधानमंत्री भी बने।

वीर बहादुर सिंह

बात 1988 की है। इस साल यूपी के मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह फिल्म सिटी स्थित एक स्टूडियो में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने आए। वहां से उन्होंने कालिंदी कुंज पार्क का भी उद्घाटन किया था। कुछ माह बाद ही उन्हें झटका लगा। वह मुख्यमंत्री पद से हट गए।

नारायण दत्त तिवारी

वीर बहादुर सिंह के बाद नारायण दत्त तिवारी यूपी के मुख्यमंत्री बने। वह भी नोएडा के सेक्टर 12 स्थित नेहरू पार्क का उद्घाटन करने वर्ष 1989 में आए थे। उसके कुछ समय बाद उऩकी भी मुख्यमंत्री पद सकी कुर्सी जाती रही।

मुलायम सिंह यादव

वर्ष 1994 में नोएडा के सेक्टर 40 स्थित खेतान पब्लिक स्कूल का उद्घाटन करने तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव आए थे। हैरानी की बात है कि मुलायम सिंह यादव ने मंच से कहा भी था कि मैं इस मिथक को तोड़ कर जाऊंगा कि जो मुख्यमंत्री नोएडा आता है उसकी कुर्सी चली जाती है। उसका कथन उल्टा साबित हुआ और उसके कुछ माह बाद ही वह मुख्यमंत्री पद से हट गए। इसका असर भी रहा और इसके बाद 6 सालों तक कोई नोएडा आया ही नहीं।

मायावती

मुलायम के बाद नोएडा का मिथक तोड़ने का साहस मायावती ने जरूर दिखाया। यह अलग बात है कि वह मुख्यमंत्री रहने के दौरान चार बार नोएडा गईं और हर बार उन्हें कुर्सी गंवानी पड़ी। इसी कड़ी में 2011 में भी मायावती नोएडा आईं थी, लेकिन 2012 के चुनाव में उनकी सत्ता छिन गई।

अखिलेश यादव

मुलायम सिंह और मायावती की तुलना में अखिलेश यादव ने साहस जुटाना तो दूर उन्होंने बतौर सीएम नोएडा की योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन लखनऊ से किया। हद तो तब हो गई जब राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री के नोएडा जाने पर उनकी अगवानी के लिए खुद न जाकर उन्होंने मंत्री भेजे।
 

Related News
64x64

मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष की ओर से पेश अविश्वास प्रस्ताव शुक्रवार को 199 वोटों के बड़े अंतर से गिर गया। लोकसभा में 11 घंटे की तीखी और नाटकीय बहस…

64x64

राजस्थान के अलवर में गो तस्करी  के आरोप में एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई. घटना रामगढ़ थाना क्षेत्र के लालवंडी गांव की है. मृतक का नाम अकबर…

64x64

नई दिल्ली/शाहजहांपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शाहजहांपुर में किसान रैली को संबोधित करते हुए कहा कि 'मैं यहां अपना वादा पूरा करने आया हूं. पहले की सरकारों ने कभी किसानों…

64x64

हरियाणा के फतेहाबाद जिले के टोहाना में बाबा बालकनाथ मंदिर के पुजारी अमरपुरी उर्फ बिल्लू का एक विडियो वायरल हुआ है, जिसमें वह महिलाओं के साथ आपत्तिजनक हालत में दिख…

64x64

पटना: लोकसभा में नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर हो रही बहस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण और खासकर भाषण के बाद उनके 'आंख मारने'…

64x64

फेसबुक ओन्ड मैसेजिंग एप कंपनी व्हाट्सएप ने भारत में अपने 200 मिलियन यूजर्स के लिए बड़ा बदलाव किया है. व्हाट्सएप पर फैल रही अफवाहों के कारण देश में बढती मॉब…

64x64

नई दिल्ली: जिस बात की सबको उम्मीद थी और जिस बात को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुरू से आश्वस्त थे, आखिर वही बात सच भी हुई. मोदी सरकार ने अपने…

64x64

नई दिल्‍ली: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने लोकसभा में बीजेपी सरकार के खिलाफ आए अविश्‍वास प्रस्‍ताव के गिरने के बाद कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी की जमकर तारीफ की है. 'सामना'…