By: Sabkikhabar
07-07-2018 08:31

रिलायंस इंडस्ट्रीज की नींव धीरूभाई अंबानी ने रखी. 2002 में आज ही के दिन स्ट्रॉक के चलते उनका निधन हो गया था. आइए जानते हैं कैसे की उन्होंने अपने बिजनेस शुरुआत की.

धीरूभाई अंबानी की सफलता की कहानी कुछ ऐसी है कि उनकी शुरुआती सैलरी 300 रुपये थी. लेकिन अपनी मेहनत के दम पर देखते ही देखते वह करोड़ों के मालिक बन गए. बिजनेस की दुनिया के बेताज बादशाह के पद चिन्हों पर चलकर ही आज मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी सफल बिजनेसमैन की कतार में खड़े हो गए हैं.

जन्म

धीरूभाई अंबानी गुजरात के छोटे से गांव चोरवाड़ के रहने वाले थे. उनका जन्म 28 दिसंबर 1933 को सौराष्ट्र के जूनागढ़ जिले में हुआ था. उनका पूरा नाम धीरजलाल हीराचंद अंबानी था. उनके पिता स्कूल में शिक्षक थे. घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, जिसके बाद उन्होंने हाईस्कूल की पढ़ाई खत्म करने के बाद ही छोटे-मोटे काम शुरू कर दिए. लेकिन इससे परिवार का काम नहीं चल पाता था.

...जब मिली नौकरी

उनकी उम्र 17 साल थी. पैसे कमाने के लिए वो साल 1949 में अपने भाई रमणिकलाल के पास यमन चले गए. जहां उन्हें एक पेट्रोल पंप पर 300 रुपये प्रति माह सैलरी की नौकरी मिल गई. कंपनी का नाम था 'ए. बेस्सी एंड कंपनी'. कंपनी ने धीरूभाई के काम को देखते हुए उन्हें फिलिंग स्टेशन में मैनेजर बना दिया गया.

1 मेज, 3 कुर्सी, 2 सहयोगियों के साथ धीरूभाई ने शुरू किया था ऑफिस

कुछ साल यहां नौकरी करने के बाद धीरूभाई साल 1954 में देश वापस चले आए. यमन में रहते हुए ही धीरूभाई ने बड़ा आदमी बनने का सपना देखा था. इसलिए घर लौटने के बाद 500 रुपये लेकर मुंबई के लिए रवाना हो गए.

जब आया का एक आइडिया

धीरूभाई अंबानी बाजार के बारे में बखूबी जानने लगे थे.  और उन्हें समझ में आ गया था कि भारत में पोलिस्टर की मांग सबसे ज्यादा है और विदेशों में भारतीय मसालों की. जिसके बाद बिजनेस का आइडिया उन्हें यहीं से आया.

उन्होंने दिमाग लगाया और एक कंपनी रिलायंस कॉमर्स कॉरपोरेशन की शुरुआत की, जिसने भारत के मसाले विदेशों में और विदेश का पोलिस्टर भारत में बेचने की शुरुआत कर दी.

1 मेज, 3 कुर्सी, 2 सहयोगी

अपने ऑफिस के लिए धीरूभाई ने 350 वर्ग फुट का कमरा, एक मेज, तीन कुर्सी, दो सहयोगी और एक टेलिफोन के साथ की थी. वह दुनिया के सबसे सफलतम लोगों में से एक धीरूभाई अंबानी की दिनचर्या तय भी होती थी. वह कभी भी 10 घंटे से ज्यादा काम नहीं करते थे.

देश के सबसे अमीर व्यक्ति

2000 के दौरान ही अंबानी देश के सबसे रईस व्‍यक्ति बनकर उभरें. मीडिया रिपोर्टे के अनुसार जब उनकी मौत हुई तब तक रिलायंस 62 हजार करोड़ की कंपनी बन चुकी थी. उनका निधन 6 जुलाई, 2002 को हुआ था.
 

Related News
64x64

होंडा कार इंडिया ने न्यू जेनरेशन होंडा अमेज कार की कुल 7,290 यूनिट्स को रिकॉल किया है। कंपनी इन कारों में ईपीएस यानी इलेक्ट्रिक असिस्ट पावर स्टीयरिंग सेंसर हार्नेस की…

64x64

आधुनिक इतिहास के सबसे अमीर शख्स जेफ बेजोस लगातार सफलता के नये आयाम छू रहे हैं. बेजोस जहां 151 अरब डॉलर की संपत्त‍ि के साथ दुनिया के सबसे अमीर शख्स…

64x64

राष्ट्रीय कंपनी कानून अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने शुक्रवार को कर्ज में डूबी भूषण पावर एंड स्टील (बीपीएसएल) के कर्जदाताओं को बैठक करने की मंजूरी दे दी। न्यायाधिकरण ने कर्जदाताओं को…

64x64

यह भारतवासियों के लिए खुशी की बात है कि भारत फ्रांस को पछाड़कर आर्थिक रूप से दुनिया की छठी ताकत बन गया है। इसके पहले हम सातवें स्थान पर थे।…

64x64

बजाज आॅटो देश के सबसे लोकप्रिय स्कूटर होंडा ऐक्टिवा को टक्कर देने के पूरे मूड में है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बजाज चेतक स्कूटर को भारत में फिर से वापस…

64x64

पेप्सीको, कोका कोला और बिस्लरी जैसी टॉप कोल्ड ड्रिंक्स कंपनियां अब अपनी प्लास्टिक की बोतलों को ग्राहक से खरीद लेंगी। कंपनियों ने अपनी प्लास्टिक की बोतलों पर बायबैक वैल्यू भी…

64x64

बुधवार को आई बड़ी गिरावट के बाद लौटी खरीदारी के चलते सोने की कीमतों में मामूली तेजी दर्ज की गई हैं. देश की राजधानी दिल्ली में गुरुवार को सोने का…

64x64

नई दिल्‍ली। ब्लूमबर्ग बि‍लि‍नि‍यर्स इंडेक्‍स के मुताबिक, बीते सोमवार को जेफ बेजोस की नेटवर्थ 150 अरब डॉलर (करीब 10.27 लाख करोड़ रुपए) हो गई है। करीब 36 घंटे की समर…