By: Sabkikhabar
30-06-2018 08:59

नेपाल एक सम्प्रभु देश है और वह अपनी विदेश नीति को किसी देश के मातहत होकर शायद ही आगे बढ़ाये पर कुछ भी ऐसा हुआ तो भारत के लिये चिंतित होना लाजमी है। सभी जानते हैं कि चीन के लिये नेपाल एक रणनीतिक ठिकाना मात्र है। हालांकि चीन के अंदर भी एक डर है। असल में नेपाल के भीतर भारी तादाद में तिब्बती भी रहते हैं और चीन ने तिब्बत पर अवैधानिक रूप से कब्जा किया हुआ है। फलस्वरूप उसे यह चिंता सताती रहती है कि नेपाल के हजारों तिब्बती ऐसा कोई आंदोलन न करें कि उसका असर तिब्बत पर पड़े। ऐसे में नेपाल के साथ उसका उठाया गया कदम दो तरफा होता है। 

सरल शब्दों में कहा जा सकता है कि अब राजनयिक नीतियां, आर्थिक अपरिहार्यताओं के तले सांस लेने लगी हैं। इसी के दायरे में इन दिनों नेपाल को चीन से सम्बंध बढ़ाने के तौर पर देखा जा सकता है। हालांकि ऐसे ही परिप्रेक्ष्य के साथ नेपाल का सम्बंध भारत से भी है और कई मायनों में कहीं अधिक ऐतिहासिक और सांस्कृतिक भी। चीन के छ: दिन के दौरे पर गये नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. ओली और चीन के बीच दोनों देषों को जोड़ने के लिये सड़क, रेल और हवाई मार्ग बनाने के बारे में समझौता हुआ और यह भरोसा जताया गया कि इससे एक नये युग की षुरूआत होगी। इतना ही नहीं ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से भी दोनों देशों के सम्बंध में सहमति हुई है। गौरतलब है कि ओली का चीन जाना कुछ हद तक भारत के लिए चिंता का विषय है। दरअसल चीन की नजर हमेशा नेपाल पर रही है और जब-जब नेपाल में ओली की सत्ता हुई तब-तब यह चिंता तुलनात्मक बढ़े हुए दर के साथ रही है। ओली के दौरे से वन बेल्ट, वन रोड़ के तहत राजनीतिक साझेदारियां बढ़ सकती हैं जिसका संदर्भ चीनी विदेश मंत्रालय दर्शा रहा है। जाहिर है यह भारत के लिये सही नहीं है। इस परियोजना को लेकर भारत का विरोध आज भी कायम है।

ऐसे दौरों एवं मुलाकातों से चीन और नेपाल के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान और मेल-जोल भी गहरे होंगे जिसका कूटनीतिक लाभ चीन अधिक उठायेगा और नेपाल का उपयोग वह कूटनीतिक संतुलन में भारत के प्रति कर सकता है। गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच नेपाल एक बफर स्टेट है। ऐसे में चीन किसी भी कीमत पर नेपाल के साथ दोस्ती करना चाहता है और यह काम केपी शर्मा ओली के प्रधानमंत्री रहने के समय कहीं अधिक आसान हो जाता है। 

केपी शर्मा ओली के हाथ में नेपाल की कमान दूसरी बार आई है जिनके बारे में यह कहा जाता है कि नेपाल को चीन के करीब ले जाने में उनकी दिलचस्पी रही है। इतना ही नहीं ओली जब दोबारा नेपाल के प्रधानमंत्री बने तो इसी साल मार्च के दूसरे सप्ताह में उन्होंने तत्कालीन पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शाहिद खाकन अब्बासी का अपने देश में स्वागत किया था। अब्बासी ओली की सत्ता संभालने के बाद नेपाल पहुंचने वाले किसी भी देश का पहला प्रधानमंत्री था। तब भी भारत और पाकिस्तान के सम्बंध बेपटरी थे और अब भी। भारत और नेपाल के मामले में यदि नेपाल को चीन की ओर झुके हुए परिप्रेक्ष्य में परखें तो माथे पर बल पड़ता है पर चीन तो यही सोचता है कि नफे-नुकसान के समीकरण से भारत को बाज आना चाहिए। देखा जाय तो नेपाल की अर्थव्यवस्था काफी हद तक भारत पर निर्भर है ऐसे में चीन की ओर उसका झुकाव एकतरफा नहीं हो सकता।

भारत के लिये यह बात असहज करने वाली होगी यदि वन बेल्ट, वन रोड़ परियोजना को नेपाल द्वारा समर्थन मिलता है। चीनी रेलवे का विस्तार हिमालय के जरिये नेपाल तक ले जाने की बात हो रही है। जो हर लिहाज से चीन के लिये ही बेहतर है। हालांकि नेपाल को यह भी डर होगा कि परियोजना में भारी खर्च होगा ऐसे में तजाकिस्तान, लाओस, मालदीव, किर्गिस्तान, पाकिस्तान समेत मंगोलिया व अन्य देषों की तरह कहीं वह भी चीन के कर्ज के बोझ के तले दब न जाये। ओली के बारे में यह भी स्पष्ट है कि नेपाल में चुनाव कुछ हद तक भारत विरोधी भावना के कारण ही जीते हैं जबकि भारत नेपाल को लेकर हमेशा बड़े भाई की भूमिका में रहा है ओर जरूरी आर्थिक मदद भी करता रहा है। प्रधानमंत्री मोदी पिछले दौरे में नेपाल के लिये एक और सहज काम किया कि उन्होंने दोनों देशों के बीच हुए 1950 के समझौते में नेपाल द्वारा संशोधन की चाह रखने को सकारात्मक लिया। हालांकि भारत की चाहत है कि महाकाली नदी का पानी यमुना को दिया जाय और शायद ओली के रहते यह सम्भव नहीं है। दो टूक यह भी है कि नेपाल भारत से दुष्मनी की बात नहीं करता परन्तु समय-समय पर भारत के खिलाफ चीनी कार्ड खेलता रहता है।

नेपाल एक सम्प्रभु देश है और वह अपनी विदेश नीति को किसी देश के मातहत होकर शायद ही आगे बढ़ाये पर कुछ भी ऐसा हुआ तो भारत के लिये चिंतित होना ला•ामी है। सभी जानते हैं कि चीन के लिये नेपाल एक रणनीतिक ठिकाना मात्र है। हालांकि चीन के अंदर भी एक डर है। असल में नेपाल के भीतर भारी तादाद में तिब्बती भी रहते हैं और चीन ने तिब्बत पर अवैधानिक रूप से कब्जा किया हुआ है। फलस्वरूप उसे यह चिंता सताती रहती है कि नेपाल के हजारों तिब्बती ऐसा कोई आंदोलन न करें कि उसका असर तिब्बत पर पड़े। ऐसे में नेपाल के साथ उसका उठाया गया कदम दो तरफा होता है। एक नेपाल में स्वयं का घुसपैठ करना, दूसरा भारत की दखल को नेपाल में कमजोर करना। केपी शर्मा ओली और चीन के बीच 14एमओयू और विनमय पत्रों पर हस्ताक्षर हुआ है जिसमें सीमा पार बिजली सम्पर्क का आधारभूत संरचना भी शामिल है। फिलहाल ओली की चीन यात्रा हर लिहाज से चीन और नेपाल के लिये ठीक हो सकती है पर यह भारत के लिये सचेत होने की घण्टी भी है।

इससे पहले ओली 2016 में चीन के साथ एक ट्रांजिट कारोबारी संधि पर हस्ताक्षर किये थे जिसके चलते सामानों को नेपाल लाने के लिये भारत पर निर्भरता कम करना था। प्रधानमंत्री मोदी बीते मई नेपाल की यात्रा पर थे और कसावट से भरा संवाद ओली के साथ किया था। गौरतलब है कि ओली पहली बार जब प्रधानमंत्री बने थे तब चीन की यात्रा पहले की थी। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर भारत की यात्रा पहले की पर इसका अर्थ यह नहीं कि उनका चीन के प्रति झुकाव कम है। निहित संदर्भ यह भी है कि 2016 में नेपाल के लगभग साढ़े पांच हजार छात्रों ने चीन के शैक्षणिक संस्थाओं में पढ़ाई की। बात इतनी ही नहीं है नेपाल में चीन का प्रभाव बढ़ाने की दृष्टि से वहां के 40 हजार छात्रों को मंडारिन सिखाई जा रही है जो चीन की भाषा है। ध्यानतव्य हो कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का पिछला चीनी दौरा हिन्दी और चीनी भाषा सीखने से भी जुड़ा था। सम्भव है कि भाषा आदान-प्रदान से उपादेयता में अन्तर आ सकता है पर इसकी आड़ में यदि अवसर खोजा जायेगा तो हर हाल में चीन ही लाभ में होगा।  

लगभग तीन वर्ष पीछे चलें तो पता चलता है कि सितम्बर 2015 में नेपाल द्वारा नये संविधान के अंगीकृत किये जाने के फलस्वरूप भारत-नेपाल की बीच सम्बंध तनावग्रस्त हुए थे। गौरतलब है कि पौने तीन करोड़ की आबादी वाले नेपाल में सवा करोड़ मधेशी हैं जो उत्तर प्रदेश और बिहार मूल के हैं और नेपाल की तराई में रहते हैं। नये संविधान में इनके साथ भेदभाव किया गया था जिसे लेकर नेपाल के भीतर विरोध बढ़ा और आर्थिक नाकेबंदी हुई थी। तब उस वक्त सुशील कोइराला के बाद नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली थे। भारत से नेपाल में आपूर्ति पूरी तरह बंद हो गई थी। ऐसा मधेशियों ने नाकाबंदी के चलते किया था पर नेपाल ने पूरा दोष भारत पर मढ़ दिया था। इसी दौरान ओली ने चीन की ओर झुकने की चुनौती भी भारत को दी थी और चीन गये भी थे। इसमें कोई दुविधा नहीं कि भारत-नेपाल सम्बंध पर चीन की कूटनीति प्रभावी रही है।

प्रचण्ड और ओली जैसे सत्ताधारियों ने चीनी कार्ड भी खेला है। नेपाल में चीन के जमते पांव के दोषी नेपाल की सत्ता होती है पर माथे पर बल भारत के होता है। शान्ति और मैत्री संधि का अनुच्छेद 2 स्पष्ट करता है कि नेपाल और भारत की सरकारें अपने पड़ोसी के साथ किसी भी ऐसे टकराव की जानकारी एक-दूसरे को देंगी जिसका प्रभव उनके मैत्रीपूर्ण रिश्ते पर पड़ने वाला हो पर सच्चाई यह है कि कूटनीतिक और आर्थिक अपरिहार्यताओं ने इन्हें भी बौना किया है। 

Related News
64x64

 गंगा जी में जहां जो काम करने की जरूरत है, वहां वो काम नहीं होता है। आज गंगा जी का सारा पैसा स्मार्ट सिटी के तहत एसटीपी बनाने और घाटों…

64x64

नवाज शरीफ अपने विपरीत आए फैसले से भागना नहीं चाहते हैं। उन्होंने कहा है कि वह पाकिस्तान वापस जाएंगे और जेल की सजा का सामना करेंगे। लोकप्रिय बने रहने के…

64x64

पार्टी सर्वे में मप्र के आधे से ज्यादा भाजपा सांसद की परफार्मेँस खराब

 

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने विधानसभा चुनाव की तैयारियों की साथ-साथ लोकसभा चुनाव की जमावट शुरू कर…

64x64

जहां तक धर्म और मान्यताओं का सम्बन्ध है, इसका अवतरण विभिन्न युगों और कालों में होता रहा है। उसमें होने वाले परिवर्तन भी समाज की आवश्यकताओं पर निर्भर रहे हैं।…

64x64

घुप्प अंधेरे में, चारों ओर पानी से घिरी गुफा में, बिना सुविधाओं के 17 दिनों तक रहना कोई बच्चों का खेल नहीं है, लेकिन थाइलैंड के खिलाड़ी बच्चों और उनके…

64x64

देश में कमजोर, अल्पसंख्यकों, दलितों का एक बड़ा तबका लगातार खौफ के साए में जी रहा है। उनके खान-पान, पहनावे, शिक्षा, परंपराओं हर किसी पर टेढ़ी नजर रखी जा रही…

64x64

दिल्ली सरकार बनाम उपराज्यपाल मामले में लोकतंत्र के लिहाज से महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने साफ कर दिया है कि लोकतंत्र में चुनी हुई सरकार…

64x64

लोकतंत्र में राजतंत्र की घुसपैठ किस तरह से करवाई जा सकती है, इसकी मिसाल जनता दरबार जैसे आयोजनों में देखी जा सकती है। दरबार शब्द किसी नजरिए से लोकतांत्रिक शब्द…