Breaking News

Today Click 112

Total Click 184979

Date 26-09-18

दिल्‍ली-NCR में सांस लेना मुश्किल, एयर क्वालिटी 'खतरनाक' स्‍तर के पार

By Sabkikhabar :14-06-2018 07:58


नई दिल्ली: राजस्थान में चल रही धूल की आंधी की वजह से दिल्ली में सांस लेना मुश्किल हो गया है. अहम बात ये है कि दिल्ली में बीते तीन महीने में एक भी दिन अच्छी एयर क्वालिटी की नहीं रही है और राजस्‍थान में चल रही धूल की आंधी की वजह से दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण का स्‍तर बढ़ गया है. दिल्ली में हवा और प्रदूषण का स्तर बुधवार को ख़तरनाक रहा. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक, बुधवार को   PM 10 दिल्ली में 824 तक चला गया. वहीं दिल्ली-एनसीआर में पीएम 10 बुधवार को 778 के पार गया. दिल्ली में कई जगहों पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार गया. आनंद विहार में एयर क्वालिटी इंडेक्स 891 पहुंचा गया, जबकि 500 अंकों तक आते-आते ये सीवियर- यानी ख़तरनाक हो उठता है. इसकी वजह राजस्थान में धूल भरी आंधी रही. इसकी वजह से राजस्थान से यूपी तक प्रदूषण स्तर सीवियर यानी ख़तरनाक हो गया और 500 अंकों के पार हो गया. ये हालात अगले तीन दिन तक ऐसे ही बने रहेंगे. दिल्ली में बुधवार को न्यूनतम तापमान 34 डिग्री रहा. इस मौसम का सबसे गर्म दिन रहा और बारिश से पहले राहत की उम्मीद नहीं, जो शायद 17 जून तक हो.

एयर क्वालिटी इंडेक्स 
- 50 के नीचे हो तो अच्छा
- 51-100 के बीच संतोषजनक
- 101 से 200 के बीच ठीक-ठाक
- 201 से 300 के बीच ख़राब
- 300 से 400 के बीच बहुत ख़राब
- 400 से 500 के बीच काफ़ी ख़राब मानी जाती है. यानी दिल्ली में बुधवार को मौसम के लिहाज से काफ़ी ख़राब रहा.

अधिकारियों ने बताया कि पूर्वात्तर में लगातार हो रही बारिश से बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है. असम, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में हजारों लोग बेघर हो गए हैं. केरल में दो और लोगों की मौत के साथ बारिश से संबंधित घटनाओं में मरने वालों की संख्या 23 हो गई है.

पूर्वोत्तर में भारी बारिश के कारण अकेले त्रिपुरा में ही 24 घंटे में 3500 परिवार बेघर हो गए. अधिकारियों ने बताया कि बुधवार को सुबह से पश्चिमी त्रिपुरा के सदर उप क्षेत्र में 500 से अधिक परिवारों के मकान बाढ़ में डूब जाने के कारण उन्हें छह राहत शिविरों में ले जाया गया. राज्य आपातकालीन अभियान केंद्र (एसईओसी) की रिपोर्ट के अनुसार 3500 परिवारों को 89 राहत शिविरों में ले जाया गया है.

यह भी पढ़ें : खराब गुणवत्ता वाली हवा से शहरों की तरह ही ग्रामीण इलाकों में भी लोग प्रभावित : अध्ययन

अधिकारियों के मुताबिक मणिपुर में 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश के कारण इम्फाल घाटी में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई. वहीं पूर्वी इम्फाल, पश्चिमी इम्फाल, थौबल और बिष्णुपुर लगभग डूब गए. सामान्य प्रशासन विभाग ने सरकारी कार्यालयों और शैक्षणिक संस्थानों को बंद रखने की घोषणा कर दी.

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की रिपोर्ट के अनुसार लगातार हो रही बारिश के कारण असम के 222 गांवों में 1,48,912 लोग प्रभावित हुए हैं. नाधर क्षेत्र में लोंगाई नदी से पानी बाहर आने के कारण करीमगंज की बराक घाटी सबसे अधिक प्रभावित हुई है. राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल ने जिले से 124 लोगों को निकाला है. अधिकारियों ने 71 राहत शिविर सक्रिय कर दिए हैं. मौसम विभाग ने मेघालय और असम में और बारिश होने के साथ ही नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के अलग-अलग इलाकों में भारी बारिश होने का पूर्वानुमान लगाया है.

टिप्पणियां उत्तरी भारत में तेज गर्मी जारी है. मौसम विभाग ने कहा है कि पंजाब में लू चलना बुदवार को भी जारी रहा. पटियाला में तापमान सामान्य से सात डिग्री अधिक 46.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. यह पटियाला का इस मौसम का सबसे गर्म दिन था. मौसम विभाग ने बताया कि राजस्थान का चुरू सबसे प्रदश में सबसे गर्म रहा जहां न्यूनतम तापमान 42.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

Source:Agency