By: Sabkikhabar
13-06-2018 08:51

रायपुर। नक्सल प्रभावित मध्य भारत में शांति के लिए रायपुर के तिल्दा में आयोजित तीन दिवसीय विकल्प संगम दो नतीजों पर समाप्त हुआ। पहला यह तक मध्यस्थ सरकार के प्रतिनिधि के रूप में नक्सल नेताओं से बातचीत को आगे बढ़े, जिसमें तमाम शंकाएं भी सामने आईं। दूसरा विकल्प आदिवासी स्वशासन की स्थापना का दिया गया, जिसमें नगा और बोडो आंदोलनों के बाद शांति के फार्मूले को अपनाने की सलाह दी गई।

क्या है आदिवासी स्वशासन

बोडोलैंड की तर्ज पर नक्सल प्रभावित क्षेत्र भी मूल रूप से आदिवासी क्षेत्र हैं। बोडोलैंड में शांति के लिए आदिवासी स्वशासन प्रणाली लागू की गई है। इसमें जल, जंगल, जमीन पर हक के लिए बोडो ऑटोनॉमस काउंसिल का गठन किया गया है। इस काउंसिल को स्थानीय मुद्दों और समस्याओं पर स्वनिर्णय का अधिकार मिला है। ऐसी ही व्यवस्था छत्तीसगढ़ के बस्तर और दंडकारण्य समेत नक्सल प्रभावित राज्यों में लागू करने की राय बुद्धिजीवियों ने दी है।

संसाधनों का प्रबंधन सही हो

नक्सलियों व सरकार के बीच कई नाजुक मौकों पर मध्यस्थ रहे प्रोफेसर डॉ. हरगोपाल, गोंडी में मोबाइल समाचार सर्विस चलाने वाले शुभ्रांशु चौधरी व सर्वआदिवासी समाज के सचिव बीएस रावटे कहते हैं कि संसाधनों का उचित बंटवारा और प्रबंधन होना चाहिए। आदिवासियों को यह अधिकार हो कि वे अपने जीवन के बारे में फैसले ले सकें। मोहल्ला और ग्राम सभाओं को ताकत दी जानी चाहिए।

सोचना होगा हिंसा करना है या समाज बदलना

वक्ताओं ने कहा कि माओवादी भी सोचें कि उनका उद्देश्य क्या है। वे हिंसा करना चाहते हैं या समाज बदलना चाहते हैं। समाज बदलना है तो उन्हें बातचीत की प्रक्रिया में आना होगा। भूमि सुधार जैसे मुद्दों पर बात होनी चाहिए। सर्व आदिवासी समाज ने कहा कि यह बात भी हो कि जेलों में आम आदिवासी क्यों बंद हैं।
 

Related News
64x64

रायपुर। प्री-एग्रीकल्चर टेस्ट यानी पीएटी-2018 के परिणाम का इंतजार कर रहे छात्रों को और इंतजार नहीं करना होगा। दावा आपत्ति के बाद परीक्षा के परिणाम संभवतः बुधवार 27 जून तक…

64x64

राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा छत्तीसगढ़ में अब तक नौ लाख 58 हजार से ज्यादा सूखा पीड़ित किसानों को 568 करोड़ 67 लाख रूपए का मुआवजा दिया जा चुका…

64x64

बीजापुर । छत्तीसगढ़ में पुलिसकर्मियों के परिवारों का आंदोलन जोर पकड़ते जा रहा है। विपक्षी दलों के बाद अब नक्सलियों ने भी पुलिस आंदोलन को समर्थन देने का ऐलान किया…

64x64

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज वीरांगना महारानी दुर्गावती के शहादत दिवस पर राजधानी रायपुर के तेलीबांधा तालाब के पास केनाल रोड पर स्थित वीरांगना रानी दुर्गावती की प्रतिमा पर…

64x64

रायपुर। पुलिस कर्मियों के आंदोलन को लेकर सोशल मीडिया में भड़काऊ पोस्ट अपलोड करने के मामले में खमतराई पुलिस ने बिलासपुर के बर्खास्त सिपाही राकेश यादव के खिलाफ राजद्रोह का…

64x64

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल के सांख्यिकीय आंकड़ों पर तैयार वर्ष 2015, वर्ष 2016 और वर्ष 2017 की हेल्थ इनफॉरमेशन…

64x64

रायपुर। मानसून ने सही समय पर केरल में दस्तक दी, आठ जून को यह छत्तीसगढ़ भी पहुंच गया और 11 जून को रायपुर में पहली बारिश हुई। लेकिन इसके बाद…

64x64

राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन से आज यहां राजभवन में छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष श्री के. आर. पिस्दा ने सौजन्य भेंट की। इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव…