Breaking News

Today Click 698

Total Click 205473

Date 16-10-18

बिना किसी रिसर्च के RBI ने लगाया बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करंसियों पर बैन

By Sabkikhabar :13-06-2018 08:24


रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बैंकों और दूसरी रेग्युलेटेड एजेंसियों को बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करंसी में डील करने पर जो रोक लगाई थी, उसके लिए पब्लिक कंसल्टेशन या इंडिपेंडेंट रिसर्च को आधार नहीं बनाया गया था। आरबीआई से राइट टु इंफर्मेशन (RTI) ऐक्ट के जरिए पूछे गए सवाल के जवाब से यह जानकारी मिली है। एक स्टार्टअप कंसल्टेंट वरुण सेठी के 9 अप्रैल को दायर आरटीआई आवेदन के जवाब में आरबीआई ने बताया है कि उसके पास वर्चुअल करंसी को लेकर कोई अंदरूनी कमिटी भी नहीं है। हालांकि, रिजर्व बैंक 2 अलग-अलग समितियों से जुड़ा रहा है, जिन्हें देश में वर्चुअल करंसी की स्टडी के लिए वित्त मंत्रालय ने बनाया था। 
आरटीआई आवेदन में पूछा गया था कि क्या वर्चुअल करंसी को समझने के लिए रेग्युलेटर ने कोई समिति बनाई थी, इसका जवाब उसने ना में दिया है। इकनॉमिक टाइम्स ने भी आरटीआई के जवाब की कॉपी देखी है। blockchainlawyer.in के संस्थापक और वकील सेठी ने बताया, 'रिजर्व बैंक ने स्पष्ट तौर पर बताया है कि उसने अप्रैल में वर्चुअल करंसी पर पाबंदी लगाने के लिए कोई रिसर्च या कंसल्टेशन नहीं किया था। उसने यह भी कहा है कि ब्लॉकचेन के कॉन्सेप्ट की पड़ताल के लिए कोई समिति नहीं बनाई गई थी।' इस खबर के लिए रिजर्व बैंक से ईमेल से पूछे गए सवालों का जवाब भी खबर लिखे जाने तक नहीं मिला था। 

बता दें कि इस साल 15 अप्रैल को आरबीआई ने एक नोटिस के जरिए बैंकों, ई-वॉलिट और पेमेंट गेटवे प्रवाइडर्स के वर्चुअल करंसी में डील करने पर रोक लगाई थी। इससे भारत में काम करने वाले क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों और वर्चुअल करंसी में डील करने वाले बिजनस के लिए सपॉर्ट खत्म हो गया था। इसके बाद बैंकों ने इन एक्सचेंजों और ट्रेडर्स पर उनके खातों से वर्चुअल करंसी में ट्रेडिंग रोकने के लिए दबाव डाला। एक्सचेंजों ने रिजर्व बैंक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की है, जिस पर 20 जुलाई को सुनवाई होनी है। याचिका में कहा गया है कि स्टेकहोल्डर्स से बातचीत किए बगैर और बिना आधार के वर्चुअल करंसी पर बैन लगाया गया। खेतान ऐंड कंपनी में असोसिएट पार्टनर रेशमी देशपांडे ने कहा, 'आरबीआई के आरटीआई के जवाब से सुप्रीम कोर्ट में हमारा पक्ष मजबूत होगा।' लॉ फर्म सुप्रीम कोर्ट में एक याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व कर रही है। 

Source:Agency