Breaking News

Today Click 1897

Total Click 119478

Date 14-08-18

असम में 2 युवकों की हत्या के मामले मे 16 गिरफ्तार,हजारों ने किया विरोध

By Sabkikhabar :11-06-2018 07:19


असम के कार्बी आंगलांग जिले में दो लोगों की पीट - पीटकर हत्या के सिलसिले में 16 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी को सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाह फैलाने वालों पर नजर रखने की जिम्मेदारी दी गई है. असम के पुलिस महानिदेशक  कुलधर सैकिया ने कहा कि जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाला व्यक्ति भी शामिल है. उसने अफवाह फैलायी थी कि बच्चा चोर असम में घुस चुके हैं. सैकिया ने बताया कि अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश अग्रवाल जांच की निगरानी कर रहे हैं वहीं एडीजीपी हरमीत सिंह को सोशल मीडिया की अफवाहों पर कड़ी नजर रखने की जिम्मेदारी दी गई है.

उन्होंने लोगों से अपील की कि सोशल मीडिया की अफवाहों पर ध्यान नहीं दें और अगर वे इस तरह का कोई पोस्ट देखते हैं तो तुरंत पुलिस को सूचित करें. डीजीपी ने कहा कि पुलिस ने कुछ टेलीफोन नंबर जारी किए हैं जिनके माध्यम से लोग उनसे संपर्क कर सकते हैं. वे नजदीकी थाने, पुलिस अधीक्षक या गुवाहाटी में पुलिस मुख्यालय को भी सूचित कर सकते हैं.
यह पूछने पर कि नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स के दूसरे मसौदा के 30 जून को प्रकाशित होने से पहले क्या बाहरी ताकतें अफवाह फैला रही हैं तो डीजीपी ने कहा कि इस समय कुछ भी कहना संभव नहीं है लेकिन जांच में हर बिंदु को शामिल किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि राज्य के  संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है और किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए विशेष गश्त की जा रही है और खासकर साप्ताहिक रविवार बाजार में गश्त बढ़ा दी गई है. गौरतलब है कि असम के कार्बी आंगलांग जिले में पिकनिक मनाकर लौट रहे दो लोगों को ग्रामीणों ने बच्चा चोर होने के संदेह में पीट - पीटकर हत्या कर दी. पुलिस ने इस जघन्य घटना के लिए सोशल मीडिया पर दहशत फैलाने का आरोप लगाया था.
गिरफ्तार लोगों को आईपीसी की धारा 302/34 के तहत मामला दर्ज किया गया है, और पूछताछ चल रही है. राज्य भर के लोगों ने निलुतपाल और अभिजीत के लिए न्याय की मांग की सड़कों पर आए. रविवार दोपहर गुवाहाटी की सड़कों पर हजारों लोग इस घटना की निंदा करते हुए और अपराधियों के लिए सख्त सजा की मांग की. प्रदर्शनकारियों में से एक ने कहा,"हम असम में रहने वाले विभिन्न समुदाय हैं, और एक-दूसरे के बीच कोई असुरक्षा नहीं होनी चाहिए. उन्होंने हमारे दो भाइयों को मार डाला, उनकी कोई गलती नहीं थी. यदि न्याय पूरा नहीं मिला तो विरोध प्रदर्शन बढ़ जाएगा. "  (भाषा इनपुट के साथ)

Source:Agency