By: Sabkikhabar
08-06-2018 08:05

जेद्दाह. सऊदी अरब में प्रिंस सलमान के ‘विजन 2030’ के तहत महिलाओं के अधिकार और आजादी का दायरा बढ़ाने की कोशिशों की बातें की जा रही है। हालांकि, इसी बीच यहां के जेद्दाह शहर में रखा गया एक फैशन शो सोशल मीडिया पर मजाक का मुद्दा बन गया है। दरअसल, इसमें डिजाइनर कपड़ों के प्रदर्शन के लिए महिला मॉडल्स के बजाय ड्रोन्स का इस्तेमाल किया गया। इस शो का एक वीडियो हाल ही में ट्विटर पर डाला गया है, इसमें कपड़े टांगे ड्रोन्स को सैकड़ों लोगों के बीच हॉल में उड़ते दिखाया गया है। वीडियो के सामने आने के बाद से ही लोगों ने इस पर कई कमेंट्स किए हैं।

रमजान के दौरान ड्रोन्स का इस्तेमाल ही बेहतर

- बीबीसी अरबी को दिए इंटरव्यू में फैशन शो के एक ऑर्गनाइजर अली नबील अकबर ने कहा कि खाड़ी देश में इस तरह का शो अपने आप में पहला था। इसकी तैयारी में दो हफ्ते का समय लगा।
- अली ने कहा कि ड्रोन से कपड़े दिखाने का उनका फैसला काफी अच्छा था, क्योंकि रमजान के महीने में यही सबसे बेहतर था। इसके लिए ऑर्गनाइजर्स को काफी सोचना भी पड़ा था।

देश के पहले फैशन शो में भी हुआ था विवाद
- बता दें कि सऊदी अरब के इतिहास में इसी साल पहली बार फैशन शो का आयोजन किया गया था। हालांकि, इसमें भी कड़े नियमों की वजह से विवाद हुआ था। शो के लिए आईं मॉडल्स को सिर्फ महिला दर्शकों के सामने ही कैटवॉक करने की इजाजत थी। इसके अलावा ड्रेस के साइज और डिजाइन को लेकर भी कुछ मानक बनाए गए थे।

महिलाओं के कपड़ों पर भी हैं देश में कई नियम
- सऊदी अरब में पारंपरिक तौर पर महिलाओं के कपड़े पहनने को लेकर कई तरह के नियम हैं। सार्वजनिक जगहों पर महिलाओं को यहां खुद को अबाया से ढकना पड़ता है। कई महिलाएं खुद को ढकने के लिए हिजाब या फिर नकाब का भी इस्तेमाल करती हैं। हालांकि, देश की फैशन सिटी होने की वजह से जद्दाह में इन नियमों की छूट है।

कुछ कड़े नियमों में दी गई छूट
- सऊदी अरब के किंग सलमान के बेटे प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के क्राउन प्रिंस बनने के बाद से ही देश में बदलावों का दौर जारी है। यहां महिलाओं पर लागू कई कड़े नियमों में या तो छूट दी गई है या उन्हें खत्म कर दिया गया। - महिलाओं पर लगे ड्राइविंग बैन को भी अब सऊदी शासन ने खत्म कर दिया है। हाल ही में इसके लिए ड्राइविंग लाइसेंस जारी करना भी शुरू किया गया है। यानी महिलाएं अब आजादी के साथ सड़कों पर कार चला सकेंगी। 
- इसके अलावा उन्हें खुद अपनी मर्जी से अपना बिजनेस शुरू करने और उसे चलाने का हक भी दिया गया है। इससे पहले महिलाओं को इस काम के लिए अपने पति या दूसरे पुरुष संबंधियों की इजाजत लेनी पड़ती थी।


विजन 2030 का असर
- सऊदी अरब की गिनती दुनिया के सबसे कट्टरपंथी देश के तौर पर होती है, जहां महिलाओं के लिए पाबंदियां बहुत ज्यादा और सख्त हैं। 
- बता दें कि क्राउन प्रिंस सलमान के उदार इस्लाम अपनाने के फैसले से पहले सऊदी इकलौता ऐसा देश था जहां महिलाओं की ड्राइविंग पर रोक थी और स्टेडियम में उनका प्रवेश बंद थी।
- हालांकि, विजन 2030 के तहत देश में सामाजिक और आर्थिक सुधार किए जा रहे हैं। इसी वजह से यहां ज्यादातर पाबंदियों और नियम-कायदों में ढील दी जा रही है।
 

Related News
64x64

इंटरनैशनल डेस्कः रविवार 24 जून सऊदी अरब के लिए एेेताहासिक दिन माना जाएगा। क्योंकि कल से सड़कों पर नई सुबह दिखाई दिखाई देगी। दरअसल, इस रविवार यानि कल से सऊदी…

64x64

लंदनः लंदन के व्यस्त चेयरिंग क्रॉस रेलवे स्टेशन पर बम होने का झूठा दावा करके दहशत फैलाने के आरोपी एक व्यक्ति को आज हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने…

64x64

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ ने शुक्रवार को आल इंडिया मुस्लिम लीग (एपीएमएल) के प्रमुख के पद से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने इस्तीफा सुप्रीम कोर्ट द्वारा…

64x64

इंटरनैशनल डेस्कः अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के खिलाफ राष्ट्रीय आपात (नेशनल इमरजेंसी) की अवधि आज एक और साल के लिए बढ़ा दी। उन्होंने कहा कि उत्तर…

64x64

जकार्ता : इंडोनिशया के स्टार बक्स कैफे में हुए फिदायीन हमले की साजिश रचने के मामले में मौलाना अमान अब्दुर रहमान को स्थानीय कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई है.…

64x64

नई दिल्ली: पाकिस्तान में 25 जुलाई को होने वाले आम चुनाव के लिए जमात-उद-दावा ने पाकिस्तान भर में उम्मीदवार खड़े किए हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन 265 उम्मीवारों में…

64x64

इस्लामाबादः पाकिस्तान ने आज पुष्टि की कि तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान (टी टी पी) का सरगना मुल्ला फजलुल्ला अफगानिस्तान के कुनार प्रांत में मारा गया है। उसने इसे  महत्वपूर्ण  घटनाक्रम…

64x64

सिडनी : अमेरिका के भूगर्भ वैज्ञानिकों ने बताया कि वनूआतू में शुक्रवार को 6.1 तीव्रता का भूकंप आया, लेकिन तत्काल क्षति की कोई खबर नहीं है. यूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने…