By: Sabkikhabar
18-05-2018 08:26

पेइचिंग। चीन के पश्चिमी इलाके में खास तरह के शिविर चल रहे हैं जिनमें रखे गए मुस्लिमों को अपने धार्मिक विचार त्यागकर चीनी नीति और तौर-तरीकों और कम्युनिज्म का पाठ पढ़ाया जा रहा है। यहां लोगों को न सिर्फ खुद की और अपने परिजनों की आलोचना करनी होती है बल्कि चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी का शुक्रिया भी अदा करना होता है।  
 
कुछ दिन पहले ही खबर आई थी कि चीन ने अपने यहां की मुस्लिम आबादी को दोबारा शिक्षित करने के लिए कैंप खोले हैं और अब इस कैंप में रहे एक मुस्लिम ने अपनी आपबीती सुनाई है, जिसे जानकर मुस्लिमों की दयनीय स्थिति का पता चलता है।   
 
कायरत समरकंद नाम के एक मुस्लिम कहते हैं कि उनका एकमात्र अपराध यह था कि वह मुस्लिम हैं और पड़ोसी देश कजाखस्तान गए। सिर्फ इसी आधार पर उन्हें हिरासत में ले लिया गया, तीन दिन तक कड़े सवाल-जवाब किए गए और फिर नवंबर में चीन के शिनजियांग में 3 महीने के लिए ‘रीएजुकेशन कैंप’ में भेज दिया गया।>  
 
एक इंटरव्यू में समरकंद ने कहा कि इस कैंप में उन्हें लगातार बेइज्जती का सामना करना पड़ा और उनका ब्रेनवॉश करने की कोशिश की गई। उन्हें हर दिन घटों-घंटों कम्युनिस्ट पार्टी का प्रॉपेगैंडा पढ़ने को मजबूर किया गया। इतने से भी नहीं बन पड़ा तो हर दिन राष्ट्रपति शी चिनफिंग को शुक्रिया कहने वाले और उनकी लंबी उम्र की कामना वाले नारे लगवाए गए।
 
समरकंद ने बताया, ‘जो इन नियमों का पालन नहीं करते थे या पालन करने से मना कर देते थे, बहस करत थे या फिर पढ़ाई के लिए देरी से आते थे, उनके हाथों और पैरों में तकरीबन 12 घंटों के लिए बेड़ियां बांध दी जाती थी।’ इसके अलावा नियमों का पालन न करने वालों का मुंह पानी में डाल दिया जाता था।>  
 
मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में यूरोपियन स्कूल ऑफ कल्चर ऐंड थियॉलजी इन कोर्नटल के आद्रियान जेंज़ ने कहा है कि चीन के इन रीएजुकेशन कैंप में कई हजार मुस्लिमों को रखा गया है। चीन के शिनजियांग प्रांत में करीब 1 करोड़ 10 लाख मुस्लिम हैं और इसकी कुल आबादी 2 करोड़ 10 लाख है। इनमें से एक बड़ी संख्या को हिरासत में ले लिया गया है, जिनमें अधिकतर युवा पुरुष हैं।  
 
समरकंद ने बताया कि करामागे गांव के एक कैंप में ही करीब 5 हजार 700 लोगों को बंदी बनाकर रखा गया है। इनमें लगभग सभी लोग कजख या उईगुर समुदाय के हैं। इतना ही नहीं, करीब 200 लोग धार्मिक चरमपंथ को बढ़ावा देने के मामलों में संदिग्ध हैं। उन्होंने बताया कि उनके साथ रह रहे कई लोगों ने आत्महत्या कर ली।
 
रीएजुकेशन कैंप में रहे एक अन्य शख्स ऊमर बेकाली ने बताया, इन कैंपों में घटिया गुणवत्ता वाला खाना दिया जाता है, मांस लगभग न के बराबर होता है और फूड पॉइजनिंग बेहद आम हो गया है। यहां रहने वालों को कई बार सजा के तौर पर पोर्क खाने तक को विवश किया जाता है जो इस्लाम में हराम है और धार्मिक चरमपंथ को बढ़ावा देने के आरोपियों को शराब तक पिलाई जाती है।
 
 
बेकाली कजख मूल के हैं और शिनजियांग प्रांत की एक टूरिजम कंपनी में काम करते थे। मार्च 2017 में उन्हें हिरासत में लिया गया। 4 दिन तक पूछताछ के दौरान उन्हें सोने नहीं दिया गया। इसके बाद 7 महीने उन्हें पुलिस सेल और फिर 20 दिन इस रीएजुकेशन कैंप में रखा गया। इस दौरान उन्हें वकील तक से संपर्क नहीं करने दिया गया। बता दें कि दोनों समरकंद और बेकाली अब कजाखस्तान में रहते हैं और दोनों ने ही फोन पर इंटरव्यू के दौरान यह सब बताया।
 

Related News
64x64

वर्चस्व ब्रेकिंग - 

अर्जुनसिंह की पत्नी ने बेटे के खिलाफ घरेलू हिंसा की शिकायत की। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल सिंह पर लगाए गंभीर आरोप। भोपाल कोर्ट…

64x64
रीवा से आ रही सेमरिया की और अनियमित होकर पलटी वोलेरो, बाल बाल बचे वाहन सवार ............................................................................. कुबेर कचेर, ब्यूरो चीफ सीधी .................................................................................. सीधी -- सेमरिया निवासी महेश नामदेव के…
64x64

भोपाल। प्रदेश में नियमों को दरकिनार कर आवासीय कॉलोनियों में भूखंड का उपयोग परिवर्तन करने के मामलों से निपटने के लिए सरकार अलग से नियम बनाएगी। नए पट्टा नवीनीकरण नियम…

64x64

 मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक महिला की हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है. आशंका है कि पति ने ही बेरहमी से महिला का कत्ल कर दिया. पोस्टमार्टम…

64x64

 भोपाल। प्रदेश में नियमित और पदोन्नति के रिक्त पदों पर संविदा नियुक्ति मिलेगी। ऐसी हर नियुक्ति के लिए कैबिनेट की मंजूरी लेनी होगी। प्रस्तावों का परीक्षण सामान्य प्रशासन विभाग की…

64x64

दिल्ली: कैमरा निर्माता कंपनी GoPro ने भारत में अपना नया कैमरा पेश किया है. कंपनी द्वारा भारत में इसकी कीमत 60,000 रुपये रखीं गई है. यह कैमरा  360 डिग्री वीडियो…

64x64

मॉस्को. रूस में सोमवार को व्लादिमीर पुतिन चौथी बार राष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी संभालेंगे। लेकिन इसके पहले ही उनका विरोध भी शुरू हो चुका है। हजारों लोगों ने पुतिन के…