By: Sabkikhabar
16-05-2018 06:30

चीन के एक प्रांत ने भारत में दीक्षा प्राप्त करने वाले तिब्बत के बौद्ध भिक्षुओं की अपने क्षेत्र में एंट्री पर रोक लगा दी है। चीन + को आशंका है कि गलत शिक्षा लेकर आए ये बौद्ध भिक्षु अलगाववादी विचारों को चीन में भी प्रोत्साहन दे सकते हैं। राज्य मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ऐसी आशंका है कि इन बौद्ध भिक्षुओं को गलत शिक्षा दी जाती है, जिसके कारण इनके प्रवेश पर पाबंदी लगाई जा रही है। 

सिचुआन प्रांत के लिटयांग काउंटी में यह बैन लगाया है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, भारत में गलत तरह से शिक्षित किए गए इन बौद्ध भिक्षुओं के प्रवेश पर पाबंदी लगाई जा रही है। लिटयांग प्रांत के पारंपरिक और धार्मिक अफेयर्स ब्यूरो के एक अधिकारी ने अखबार को बताया, 'हर साल काउंटी की तरफ से देशभक्ति की क्लास लगाई जाती है। इनमें सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करनेवाले को अवॉर्ड भी दिया जाता है। यह अवॉर्ड तिब्बतियन बुद्धिस्ट स्टडीज इन इंडिया का सबसे बड़ा अवॉर्ड होता है।' 

अधिकारी ने यह भी कहा कि इस बार क्लास में अनुपयुक्त व्यवहार करनेवालों पर नजर रखी जाएगी। किसी भी छात्र ने अगर अलगाववादी विचारों को लेकर कोई संकेत दिए तो हमारी उन पर कड़ी नजर रहेगी। चीन के धार्मिक मामलों से जुड़ी कमिटी के पूर्व मुखिया झु वाइकुआन ने कहा, 'कुछ गुरुओं को विदेशों में 14वें दलाई लामा के समूह से बौद्ध धर्म की शिक्षा मिली होती है। दलाई लामा को हम एक अलगाववादी नेता के तौर पर देखते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इन धर्मगुरुओं पर कड़ी निगरानी रखी जाए ताकि यह स्थायनीय धर्मगुरुओं के साथ मिलकर अलगावावदी गतिविधियों को अंजाम न दे सकें।' 

चीन दलाई लामा + को एक‍ ऐसे अलगाववादी नेता के तौर पर देखता है जो चीन विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं और हमेशा तिब्बेत की आजादी की बात करते हैं। दलाई लामा चीन के आरोपों को मानने से इनकार करते रहे हैं और वह फिलहाल भारत की शरण में हैं। दलाई लामा और उनके शिष्य कहते हैं कि वह सिर्फ तिब्बत के लिए स्वतंत्र दर्जे की मांग करते हैं। 

Related News
64x64

कैराना उपचुनाव में बड़े-बड़े उलटफेर हो रहे हैं. वोटर कन्फ्यूज है कि आखिरकार ये हो क्या रहा है, किसके साथ कौन है? गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव के माहौल और कैराना…

64x64

भारतीय रेलवे द्वारा गुरुवार को जारी की गई देश के सबसे गंदे 10 रेलवे स्टेशनों में यूपी के चार स्टेशन शामिल हैं. टॉप 10 की सूची में कानपुर सेंट्रल देश…

64x64

मोदी सरकार पहले की तुलना में अब कम लोकप्रिय है लेकिन 2019 के महामुकाबले के लिए नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद के लिए वोटरों की पसंद के मामले में भारी बढ़त…

64x64

शेयर बाज़ार में एक कहावत है कि यहां हर किसी का वक़्त आता है. कभी बाज़ी तेज़डियों (बुल रन) के हाथ लगती है तो कभी शिकंजा मंदड़ियों (बीयर रन) का…

64x64

मेट्रो की मजेंटा लाइन मंगलवार यानी 29 मई से पूरी तरह ऑपरेशनल होने जा रही है। इससे केवल दिल्ली नहीं, बल्कि एनसीआर के लोगों को भी काफी फायदा मिलने वाला…

64x64

नई दिल्ली: हाल ही में निपाह वायरस के आंतक से न सिर्फ लोग सदमे में हैं, बल्कि इस वायरस की चपेट में आने से अब तक करीब 12 लोगों की…

64x64

विश्वास मत पर मतदान से एक दिन पहले कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर ने आज कहा कि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने एच डी कुमारस्वामी के पूरे 5 साल मुख्यमंत्री बने…

64x64

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नीदरलैंड के पीएम मार्क रट ने आपसी बातचीत के बाद संयुक्त बयान जारी किया। इस दौरान दोनों देशों ने एक-दूसरे को परस्पर सहयोग…