By: Sabkikhabar
23-04-2018 06:56

आखिर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जज लोया की मौत को ‘नैचरल डेथ’ करार देते हुए इस मामले में आगे किसी भी तरह की जांच को अनावश्यक बता दिया। कोर्ट ने इस केस से जुड़ी सारी याचिकाओं को खारिज करते हुए कहा कि इनके पीछे न्यायपालिका की छवि बिगाड़ने की साजिश थी।

सीबीआई जज बी एच लोया की 2014 में हुई मौत के तीन साल बाद मीडिया में आई कुछ रिपोर्टों के चलते यह मामला नए सिरे से चर्चा में आया था। चूंकि मौत के पहले वह गुजरात के सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे, जिसमें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी आरोपी थे, इसलिए इस पूरे मामले का एक राजनीतिक पहलू भी था। मीडिया रिपोर्टों और उन पर आधारित याचिकाओं का कथा-सूत्र यह था कि शाह को क्लीन चिट देने के लिए तैयार न होने की कीमत जज लोया को चुकानी पड़ी। बहरहाल, अब हमारे देश का सर्वोच्च न्यायिक विवेक सभी पहलुओं और उपलब्ध साक्ष्यों पर गौर करने के बाद इस नतीजे पर पहुंचा है कि जज लोया की मौत को संदिग्ध मानने का कोई कारण नहीं है, तो यह बात यहीं खत्म हो जानी चाहिए।

इसके बाद जो चीज बची रह जाती है, वह है साजिश का सवाल। जब खुद सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाओं के पीछे साजिश की आशंका जताई है तो इसे हल्के में नहीं लिया जा सकता। ध्यान देने की बात है कि जज लोया की मौत को लेकर संदेह का शिकार हुए लोगों में विख्यात और प्रतिष्ठित वकीलों के अलावा सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जज भी शामिल रहे हैं। चार सीनियर जजों की बहुचर्चित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक माननीय न्यायमूर्ति ने माना था कि सुप्रीम कोर्ट के विवादित मसलों में जज लोया का मामला भी शामिल है। ऐसे में इस प्रश्न को अनुत्तरित नहीं छोड़ा जा सकता कि याचिका दायर करने वालों ने किस तरह की साजिश की थी, और इसके पीछे किसको क्या फायदा या नुकसान पहुंचाने का इरादा काम कर रहा था। सुप्रीम कोर्ट की राय के मुताबिक संबंधित लोगों पर अवमानना का मुकदमा भी चलना चाहिए और हर हाल में यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि साजिश की कोई परत छुपी न रह जाए।
 

Related News
64x64

भारतीय जनता पार्टी ने पीडीपी से अपना संबंध विच्छेद कर लिया और महबूबा मुफ्ती की सरकार का पतन हो गया। इस अलगाव से किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिए, क्योंकि…

64x64

नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की चौथी बैठक रविवार को संपन्न हुई। प्रधानमंत्री के साथ 24 मुख्यमंत्री जिस बैठक में शामिल हों, उसमें देश के कई जरूरी मुद्दों पर नीतियां,…

64x64

बेशक, इन चार सालों में नवउदारवादी नीतियों के बुलडोजर तले राज्यों के अधिकारों को और खोखला किए जाने के सिलसिले को नयी ऊंचाई पर पहुंचा दिया गया है। इसका सबसे…

64x64

न शराब, न सिगरेट तंबाकू और न ही किसी तरह का वायरल पीलिया (हेपेटाइटिस) संक्रमण, फिर भी दर्दे-जिगर। जिगर की जकड़न और कैंसर भी, अर्ध चिकित्सकीय भाषा में लिवर (यकृत)…

64x64

भीमा कोरेगांव हिंसा के बाद दलित अस्मिता का उठा सवाल अब माओवादियों की नीयत और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा के सवाल में बदल चुका है। इस साल की शुरुआत…

64x64

काश कि देश के किसान योग गुरु और व्यापारी रामदेव की तरह होते। फिर न उन्हें अपनी मांगों के लिए सड़क पर उतरना पड़ता। न आत्महत्या करनी पड़ती। न गोली…

64x64

आज पेट्रोलियम मंत्री कह रहे हैं कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें सरकार के नियंत्रणाधीन नहीं हैं और उनकी कीमतों में इजाफे और डॉलर व रुपये की विनिमय…

64x64

उत्तर प्रदेश में कैराना और नूरपुर के चुनाव में न तो मोदी का जादू चला और न ही स्टार प्रचारक बने योगी का ही जादू चल सका। दोनों ही सीटें…