By: Sabkikhabar
22-03-2018 08:11

भोपाल। अब स्कूल की फीस नहीं चुकाने पर प्रबंधन विद्यार्थी को न तो परीक्षा देने से रोक सकता है और न ही अंकसूची देने से मना कर सकता है। ऐसा करने पर प्रबंधन के खिलाफ जुवेनाइल जस्टिस एक्ट 2015 (किशोर न्याय अधिकार अधिनियम) के तहत कार्रवाई की जा सकेगी।

मानव अधिकार आयोग की सिफारिश पर शासन ऐसे मामलों में सख्ती बरतने की तैयारी कर रहा है। इस कानून में गैरजमानती धाराओं में कार्रवाई होती है। इसमें प्रताड़ना का आरोप सही पाए जाने पर आरोपित को जेल और आर्थिक दंड देना पड़ेगा।

इस संबंध में इसी हफ्ते निर्देश जारी हो सकते हैं, जो मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल सहित सीबीएसई आईसीएसई बोर्ड से संबद्ध स्कूलों पर लागू होंगे।

आयोग और पुलिस में होगी शिकायत : ऐसे मामलों में विद्यार्थीअभिभावक बाल अधिकार संरक्षण आयोग और पुलिस से शिकायत कर सकते हैं।
 

Related News
64x64

भोपाल । राजधानी के बिट्टन मार्केट स्थित हकीम होटल में गुरुवार को एक ग्राहक को बटर पनीर मसाला के साथ हड्डियां परोसने की शिकायत मिली है। इसकी शिकायत उसने तुरंत…

64x64

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सिंगरौली के सरई में तेंदूपत्ता संग्राहक एवं श्रमिक सम्मेलन में वन क्लिक से 2 लाख 40 हजार तेंदूपत्ता संग्राहकों के बैंक खाते में सीधे…

64x64

राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज सीहोर जिले के ग्राम झरखेड़ा में पाटीदार समाज द्वारा आयोजित सामूहिक विवाह कार्यक्रम में नव-दम्पत्तियों को आशीर्वाद दिया। समारोह में 49 युवक-युवतियों के विवाह…

64x64

भोपाल। बेटी का घर विदेश में बसाने के लिए भारतीय माता-पिता एनआरआई दूल्हा पसंद करते हैं। इसके लिए वे शादी में लाखों रुपए पानी की तरह भी बहाते हैं, लेकिन…

64x64

भोपाल । दतिया के रहने वाले छह साल के मासूम आशीष (बदला नाम) को ऐसा कैंसर हुआ जो एक करोड़ में एक को होता है। उसके जबड़े में फाइब्रोसारकोमा कैंसर…

64x64

भोपाल । गोविंदपुरा स्थित नटराज शादी हाल में बुधवार रात बारात लगते समय गोली लगने से वीडियो ग्राफर सौरभ मीना की मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है।…

64x64

भोपाल । वीआईपी रोड स्थित अखाड़ा वाली मस्जिद में गुरुवार को दिन दहाड़े मस्जिद के मुअज्जिन की गला रेतकर हत्या कर दी गई। घटना का पता चलते ही लोगों की…

64x64
भोपाल। सिविल सर्विस डे पर सीएम शिवराज सिंह चौहान का बयान...मुख्यमंत्री मंत्री चुनाव लड़ते है जीतते हैं और घोषणा करते हैं...लेकिन योजना बनाने से लेकर उन्हें जमीन पर उतरना अधिकारियों…