Breaking News

Today Click 1496

Total Click 212954

Date 22-10-18

अस्पताल में डॉक्टर ने तांत्रिक से करवाया महिला का इलाज, मौत

By Sabkikhabar :14-03-2018 07:29


पुणे से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है जिसमें जब इलाज नहीं कर पाने पर एक डॉक्टर तांत्रिक बाबा को अस्पताल में ही ले आया. यहां एक MBBS डॉक्टर तांत्रिक बाबा को ही अस्पताल में ले आया. ये बाबा जींस और टी- शर्ट पहनकर पुणे के जाने माने दीनानाथ अस्पताल के ICU वॉर्ड में पहुंचा. इतना ही नहीं ये डॉक्टर तांत्रिक का पूजापाठ का सामान उठा कर लाया.

इस मामले का एक वीडियो भी वायरल हो गया है जिसमें साफ दिखाई दे रहा है कि तांत्रिक महिला मरीज को मंत्र और जाप करवाता है और मंत्र के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले पूजा के फूल, पत्ते इत्यादि वस्तुएं डॉक्टर के हाथ में थमाता है. इस दौरान वहां दो नर्स भी मौजूद थी.

तांत्रिक के भरोसे इलाज

24 वर्षीय संध्या सोनवणे के इलाज के लिए तांत्रिक से मंत्रोच्चार करवाया गया. संध्या के घरवालों के मुताबिक, संध्या सोनवणे के सीने में ट्यूमर हो गया था. इलाज के लिए पुणे ले स्वारगेट इलाके में डॉ. सतीश चौहान के अस्पताल में भर्ती किया गया जहां संध्या का ऑपरेशन भी हुआ. बाद में अचानक संध्या की तबियत बिगड़ने लगी तो डॉ. सतीश चौहान ने मरीज को 21 फरवरी को दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल में भर्ती करवाया जहां मरीज को ICU स्पेशल रूम में 24 घंटे निगरानी में इलाज होने लगा.

मरीज के भाई महेश जगताप के मुताबिक, डॉक्टर सतीश ने उनकी बहन के ऑपरेशन में यह कहकर देरी की कि शाम 6 से 7 का समय राहु का होता है और ये समय बहुत अशुभ होता है इसलिए ऑपरेशन रात 8 बजे के बाद किया जाएगा. जब दीनानाथ अस्पताल में इलाज हो रहा था और संध्या को कुछ दिन होश नहीं आया तो डॉक्टर सतीश भी अस्पताल में नहीं आ रहे थे और जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि 2 दिन कोई भी उनसे नहीं मिल सकता क्योंकि वो पूजा- पाठ और ध्यान (मैडिटेशन) कर रहे हैं ताकि मरीज जल्दी ठीक हो जाए.

महेश ने आजतक को बताया कि एक दिन अचानक डॉ. सतीश अपने साथ एक तांत्रिक बाबा को दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल ले आये और तांत्रिक द्वारा मंत्रोच्चार करके पूजा पाठ करके मरीज को ठीक करने की कोशिश करने लगे. सोमवार तड़के मरीज ने दम तोड़ दिया. मरीज के परिजनों ने समाज सेवक सचिन तावरे की मदद से ये मामला उजागर किया है. सचिन तावरे ने डॉक्टर सतीश चौहान पर आरोप लगाया कि उसने तावरे को मुंह बंद रखने के लिए मोटी रकम देने की बात कही.

दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल के PRO के मुताबिक अस्पताल जादू टोना और तांत्रिक बाबा जैसी बातों पर विश्वास नहीं करता ना ही ऐसी अंधविश्वास वाली चीजों को बढ़ावा देता है, लेकिन अगर ऐसा हुआ है तो अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टर और मैनेजमेंट यह निर्णय लेंगे कि इस मामले में क्या कार्रवाई करनी है.  

अन्ध श्रद्धा निर्मूलन समिति की नंदिनी जाधव ने इस बारे में अलंकार पुलिस स्टेशन में लिखित शिकायत दी है ताकि पुलिस डॉ. सतीश चौहान के खिलाफ तथा लापरवाही के लिए दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल के सुरक्षाकर्मी और वहां मौजूद नर्सों के खिलाफ मामला दर्ज करे.
 

Source:Agency