By: Sabkikhabar
12-01-2018 08:25

नई दिल्‍ली (एजेंसी/जेएनएन)। न्‍यायपालिका के इतिहास में पहली बार शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के जज सार्वजनिक तौर पर मीडिया के सामने आए। सुप्रीम कोर्ट के चार जज जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस मदन लोकुर, जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस रंजन गोगोई ने मीडिया से बात कर सुप्रीम कोर्ट के प्रशासन पर आरोप लगाया। जस्‍टिस चेलमेश्‍वर के घर प्रेस कांफ्रेंस आयोजित की गयी। जस्‍टिस चेलमेश्‍वर ने कहा, ‘प्रेस कांफ्रेंस को बुलाने का निर्णय हमें मजबूरी में लेना पड़ा है।‘ जज ने मीडिया से मुखातिब हो अपना पक्ष रखा और कहा कि उनके पास मीडिया के सामने आने के अलावा दूसरा रास्‍ता नहीं बचा था। उन्‍होंने आगे कहा, ‘देश का लोकतंत्र खतरे में है। सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक से काम नहीं कर रहा है। चीफ जस्‍टिस पर अब देश को फैसला करना होगा।‘

सीजेआई से की थी गड़बड़ियों की शिकायत: जज

मीडिया से बात करते हुए नंबर दो के जज माने जाने वाले जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा, 'करीब दो महीने पहले हम चारों जजों ने चीफ जस्टिस को पत्र लिखा और उनसे मुलाकात की। हमने उनसे बताया कि जो कुछ भी हो रहा है, वह सही नहीं है। सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक से नहीं चल रहा है।' जस्‍टिस ने आगे कहा, सीजेआई से अनियमितताओं पर बात की थी। कई गड़बड़ियों की शिकायत की। हम नहीं चाहते की 20 सालों में हमपर कोई आरोप लगे। न्‍यायपालिका की निष्‍ठा पर सवाल उठाए जा रहे हैं। लेकिन सीजेआई ने कोई कार्रवाई नहीं की।

CJI पर महाभियोग चले या नहीं: जज

चेलमेश्वर ने कहा कि हमारे पत्र पर अब राष्ट्र को विचार करना है कि सीजेआई के खिलाफ महाभियोग चलाया जाना चाहिए या नहीं। सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन सही से नहीं चल रहा है। बीते कुछ महीनों से काफी गलत चीजें हो रही हैं।

20 साल बाद न उठे सवाल: जस्टिस चेलमेश्वर

जस्टिस चेलमेश्वर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा कि हम वह पत्र सार्वजनिक करेंगे, जिससे पूरी बात स्पष्ट हो जाए। चेलमेश्वर ने कहा, '20 साल बाद कोई यह न कहे कि हमने अपनी आत्मा बेच दी है। इसलिए हमने मीडिया से बात करने का फैसला किया।' उन्‍होंने कहा कि भारत समेत किसी भी देश में लोकतंत्र को बरकरार रखने के लिए यह जरूरी है कि सुप्रीम कोर्ट जैसी संस्था सही ढंग से काम करे।  

जजों के चेहरे पर था दर्द: एडवोकेट तुलसी

सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जजों के द्वारा सुप्रीम कोर्ट प्रशासन पर आरोप लगाए जाने की घटना पर आश्‍चर्य व्‍यक्‍त करते हुए एडवोकेट केटीएस तुलसी ने इनकी वकालत की। तुलसी ने कहा, इस तरीके को अपनाने के पीछे जजों की बड़ी मजबूरी रही होगी। जब वे बोल रहे थे तब उनके चेहरे पर दर्द स्‍पष्‍ट तौर पर देखा जा सकता था।

Related News
64x64

गुजरात के माहीसागर जिले में डायनासोर का अंडा मिला है. जिले के बालासिनोर राइली को पहले ही दुनिया के सबसे बड़े डायनासोर हैचरी के रूप में जाना जाता है. अब,…

64x64

सेना के अधिकारी और कारगिल के हीरो अब वर्चुअल मैदान पर युद्ध लड़ रहे हैं। उन्होंने हालही में पाकिस्तान और चीन के हैकर्स द्वारा उनके सिस्टम को ब्रेक करने की…

64x64

सेना में आधुनिकीकरण पर लगातार जोर देने के बीच रूस से 39 हजार करोड़ डॉलर की एस-400 त्रिउंफ डिफेंस मिसाइल सिस्टम डील जल्द फाइनल हो सकती है। इस डील के…

64x64

फिल्म 'पद्मावत' के विरोध में रविवार को दिन के करीब 3 बजे बाइक और कार में सवार 200 से ज्यादा लोगों ने 'जय राजपूताना' का नारा लगाते हुए डीएनडी टोल…

64x64

झांसी। बात उन दिनों की है जब पिता झांसी के एक विद्यालय में प्राइमरी टीचर हुआ करते थे। संसाधनों की कमी थी पर इरादे बुलंद थे। बात हो रही है…

64x64

नई दिल्ली: देश के उत्तरी भागों में जबर्दस्त ठंड का दौर जारी रहा और आज लद्दाख क्षेत्र के दो जिलों समेत जम्मू कश्मीर के 15 जिलों के लिए हिमस्खलन की…

64x64

मध्य प्रदेश में पिछले 14 सालों से सत्तारूढ़ बीजेपी को शनिवार को उस वक्त जोरदार झटका लगा जब कांग्रेस ने छह में से चार म्युनिसिपैलिटीज (नगर पालिका) में जीत हासिल…

64x64

पटना : बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराब के बाद अब दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाया हुआ है. इसी कड़ी में आज रविवार (21…