By: Sabkikhabar
12-03-2018 06:11

मुंबई। महाराष्ट्र में लगभग 35,000 किसानों की रैली मुंबई पहुंच चुकी है। मंगलवार को नासिक से 25,000 किसान अपनी मांग लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिलने के लिए मुंबई के लिए निकले थे। लगभग 35,000 किसान मुंबई के आजाद मैदान में प्रदर्शन कर रहे हैं। मुंबई की ट्रैफिक पुलिस का कहना है कि शहर में जाम से निपटने के लिए उन्हें पूरे इंतजाम कर लिए हैं और एडवाइजरी भी जारी कर दी गई है। शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

'जीवन या मृत्यु का मामला है'
अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में किसान, आदिवासी सोमवार को विधानसभा का घेराव करेंगे। किसानों की मांग है कि उन्हें कर्ज में छूट दी जाए और आदिवासी जमीन को किसानों के नाम किया जाए, जिन्हें वो सालों से जोतते आए हैं। रैली में मौजूद आदिवासियों का कहना है कि ये उनके लिए जीवन या मृत्यु का मामला है। अखिल भारतीय किसान सभा के अध्यरक्ष अशोक धावले ने कहा है कि ये प्रदर्शन एकदम शांतिपूर्ण तरीके से होगा।

'शांतिपूर्ण तरीके से करेंगे प्रदर्शन'
उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शन से मुंबई को किसी भी तरह की परेशानी का सामन नहीं करना पड़ेगा। 'हमने 25,000 लोगों से शुरुआत की थी और आज हम 50,000 पर पहुंच गए हैं। ये आंकड़ा कल और बढ़ेगा लेकिन इससे किसी को कोई परेशानी नहीं होगी। हम अपनी रैली सुबह 11 बजे से शुरू करेंगे ताकि 10वीं बोर्ड में बैठ रहे छात्रों को इससे कोई परेशानी न हो।' धावले ने बताया कि महाराष्ट्र के मंत्री गिरिश महाजन ने रविवार को उनसे मुलाकात की और कहा कि वो उनकी मांगे मुख्यमंत्री तक पहुंचाएंगे। शिव सेना नेता आदित्य ठाकरे ने भी रविवार को किसानों से मुलाकात की।

180 किलोमीटर पैदल चलकर मुंबई पहुंचे किसान
किसानों का ये कारवां मंगलवार को नासिक से मुंबई के लिए निकला था। 180 किलोमीटर का सफर पैदल चलकर आखिर उन्होंने रविवार को राजधानी में कदम रखा। सभा के जनरल सेक्रेटरी अजित नावले ने कहा कि उनकी मुख्य मांग पूर्ण कर्ज माफी और स्वामिनाथन कमिटि रिपोर्ट का परिपालन करना है, जिसमें कहा गया है कि किसानों को कॉस्ट ऑफ प्रोडक्शन से डेढ़ गुना अधिक पैसा मिलना चाहिए। किसान रैली में अधिकतर किसानों की मुख्यमंत्री से मांग है कि जमीन को उनके नाम कर दिया जाए ताकि वो अपना और परिवार का गुजारा कर सकें।

किसानों को मिला कई पार्टियों का समर्थन
किसान रैली को कांग्रेस, एनसीपी, शिवसेना और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का समर्थन मिला हुआ है। शिव सेना के वरिष्ठ नेता एकनाथ शिंदे ने भी शुक्रवार को किसानों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि वो यहां सरकार में मंत्री के तौर पर नहीं, बल्कि पार्टी के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे का संदेश लेकर आए हैं। सभा के जनरल सेक्रेटरी नावले ने कहा कि सेना ने केवल समर्थन दिया है। 'हम उनकी मौजूदगी का स्वागत कते हैं लेकिन वो सरकार के एक आदमी है। सिर्फ समर्थन सही नहीं है। आप खुद को शेर कहते हैं। किसानों के हक में अपने पंजों का इस्तेमाल आखिर कब करेंगे?'
 

Related News
64x64
नदी में मिला युवक का शव हत्या की आशंका...... ....... ....... ....... ........ ... राजू तोमर, ब्यूरो बांदा...... ...... ....... ....... हमीरपुर जिले के पंधरी गांव निवासी महेश (35) पुत्र…
64x64
शार्ट सर्किट से शादी से पहले घर में लगी आग, नकदी जेवर खाक ......... ...... ...... ....... राजू तोमर, ब्यूरो बांदा...... ........... ....... .......... बांदा-- मर्का थाना क्षेत्र के साड़ा…
64x64

पठानकोट। यहां एयरफोर्स स्‍टेशन के पास तीन हथियारबंद संदिग्‍ध देखे गए हैं। इससे हड़कंप मच गया है। ये संदिग्‍ध पठानकोट एयरबेस से लगते ढाकी में देख गए हैं। इसके बाद…

64x64

सीबीआई जज बीएच लोया की मौत मामले में एसआईटी जांच वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया. याचिकाकर्ताओं को कड़ी फटकार लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि…

64x64

शिमला। वर्तमान में चल रहे शादी-ब्याह के सीजन के दौरान आज अक्षय तृतीया के दिन देश भर में सोने की जमकर खरीदारी हुई। लोगों ने शहरों, गावों एवं कस्बों तक…

64x64

लंदन: ब्रिटेन दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 'भारत की बात, सबके साथ' कार्यक्रम में शरीक हुए. पीएम मोदी भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित किया. यह कार्यक्रम लंदन के…

64x64

सुरत। गुजरात के एक हीरा व्यापारी का बेटा भव्य शाह सांसारिक मोह त्याग कर आज से जैन भिक्षु बनने जा रहा है। उसके इस फैसले से परिवार के लोग बहुत…

64x64

नई दिल्ली/जयपुर। राजस्थान में सत्तारूढ़ भाजपा की दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर हुई करारी हार के ढाई माह बाद आखिर राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष अशोक परनामी को पद…