By: Sabkikhabar
10-03-2018 07:29

राज्य शासन के संस्कृति एवं पुरातत्व संचालनालय द्वारा महंत घासीदास संग्रहालय के प्रेक्षागृह में आयोजित प्राचीन, अभिलेख, पुरालिपि, मुद्राशास्त्र और प्रतिमाशास्त्र पर केन्द्रित कार्यशाला के दूसरे दिन आज नागपुर से आए प्रोफेसर डॉ. चन्द्रशेखर गुप्त ने सिक्कों की उत्पत्ति पर प्रकाश डालते हुए मध्यभारत के प्राचीन सिक्कों की विशेषताओं के विषय में जानकारी दी। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण अभिलेख शाखा नागपुर के पूर्व निदेशक डॉ. जी.एस. ख्वाजा ने मध्यकालीन सिक्कों खासकर सल्तन और मुगल सिक्कों की खासियत और उनसे ज्ञात इतिहास के रोचक पहलुओं के बारे में बताया। वहीं प्रोफेसर डॉ. एल.एस. निगम ने छत्तीसगढ़ के सिक्कों और रिपोसे कॉइन्स की विशेषताओं से परिचित कराया। संचालक संस्कृति एवं पुरातत्व ने आमंत्रित विद्वानों का आभार प्रकट करते हुए उन्हें प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।

Related News
64x64

रायपुर। गढ़चिरौली में पुलिस के जवानों तक नक्सलियों की एक भी गोली नहीं पहुंच पाई। इस लिहाज से अब तक की यह सबसे महत्वपूर्ण सफलता कही जा रही है। अब…

64x64

नगरीय प्रशासन, उद्योग, वाणिज्यक कर, आबकारी मंत्री श्री अमर अग्रवाल ने आज अपने निवाास में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत शहरी क्षेत्र की महिलाओं को निःशुल्क एल.पी.जी.…

64x64

रायपुर। पुस्तकों के अस्तित्व को बचाने के लिए यूनिस्को ने 23 अप्रैल के दिन को पुस्तक दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। किसी इंसान के जीवन में…

64x64

छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल द्वारा 22 अप्रैल विश्व पृथ्वी दिवस के अवसर पर नो-प्लास्टिक पर सघन जन-जागरूकता अभियान शुरू किया गया है। इसके अन्तर्गत 22 अप्रैल को रायपुर के मैरिन…

64x64

रायपुर। शहर में बनने वाले फ्लाईओवर के नीचे बेजा कब्जा पर अंकुश लगाने के लिए पीडब्ल्यूडी ने अब ग्रीन कॉरिडोर का कॉन्सेप्ट प्लान किया है। इसके तहत हर ब्रिज के…

64x64

ग्राम स्वराज अभियान के तहत केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय आज सारंगढ़ विकासखण्ड के ग्राम दहिदा में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। अपने उद्बोधन में केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री श्री…

64x64

रायपुर। 'हमने पहली बार देखा कि इंसान की तरह रोबोट को भी नचा सकते हैं। इंसान की तरह उससे सभी काम करा सकते हैं। जैसे चलवाना हो, स्विच ऑफ करवाना…

64x64

रायपुर। कम आय वालों को स्वरोजगार करने के लिए पिछले दो सालों में अंत्यावसायी सहकारी वित्त निगम ने छह करोड़ रुपए के लोन बांट दिए, लेकिन वसूलने में फिसड्डी रहे।…