By: Sabkikhabar
11-01-2018 06:59

नई दिल्ली। वर्ष 2016 में जब केंद्र सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया तो उसके बाद इसकी वजह से कई लोगों के रोजगार चले गए, उद्योग, छोटे व्यापार पर इसका काफी असर पड़ा। लेकिन आखिरकार नोटबंदी से लोगों को एक फायदा हुआ है और इसकी पुष्टि नाइट फ्रैंक की रिपोर्ट ने की है। रिपोर्ट के अनुसार घर की कीमतों में कमी की बड़ी वजह नोटबंदी, जीएसटी और रियल स्टेट रेग्युलेशन एक्ट है। पिछले वर्ष इन बड़े फैसलों की वजह से घरों की कीमतों में कमी आई है। नाईट फ्रैंक रिपोर्ट के अनुसार घर की कीमतों में हर शहर में तकरीबन 3 फीसदी की कमी आई है, वहीं पुणे में यह कमी 7 फीसदी है, मुंबई में 5 फीसदी है। दिल्ली एनसीआर की बात करें तो यहां घर के दाम छह साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गए हैं, इसके साथ ही 2 फीसदी दामों में और कमी हुई है।

मांग में कमी
घरों की कीमतों में कमी की बड़ी वजह है इसकी मांग में कमी, बेंगलुरू, दिल्ली एनसीआर और चेन्नई में घरों की मांग 26 फीसदी, 6 फीसदी और 20 फीसदी कम हुई है। वहीं मुंबई और पुणे में कुछ हद तक मांग में बढ़ोतरी आई है। इसकी वजह रिपोर्ट में यह बताई गई है कि रेरा का महाराष्ट्र में सही से क्रियान्वयन किया गया है, जिसकी वजह से मुंबई और पुणे में बिक्री 3 फीसदी और 5 फीसदी बढ़ी है।

सस्ते घर अधिक बन रहे हैं
बिक्री में कमी की वजह से ही घरों की कीमतों में कमी दर्ज की गई है। दिल्ली एनसीआर और बेंगलुरू में नए घरों के प्रोजेक्ट के लॉच में 56 फीसदी और 41 फीसदी की कमी आई है, इसकी वजह से रियल स्टेट सेक्टर को काफी नुकसान हुआ है। एनसीआर में 6 फीसदी बिक्री कम हुई है, जिसकी वजह से 37653 घरों की कीमत में 2 फीसदी कमी आई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि नए प्रोजेक्ट में सस्ते घरों की सख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है, वर्ष 2016 में यह 53 फीसदी थी जबकि 2017 में यह 83 फीसदी पहुंच गई है। इससे साफ है कि डेवलेपर्स 50 लाख के अंदर के घर अधिक बना रहे हैं। इसकी बड़ी वजह यह है कि केंद्र सरकार सस्ते घरों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लोन दे रही है।

पिछले साल काफी कम लॉच हुए प्रोजेक्ट
नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन शिशिर बजाज का कहना है कि अगर 2010 से रियल स्टेट की तुलना करें तो 2017 के अंत तक यह काफी खराब रही है, रियल स्टेट में काफी गिरावट दर्ज की गई है, लेकिन नोटबंदी के बाद इसमे कुछ हद तक बढ़ोतरी हुई है। 2010 में कुल 4.80 अपार्टमेंट लॉच किए गए थे, जबकि 2017 में इसकी संख्या सिर्फ 1.03 लाख है। यही नहीं 2010 में घरों की बिक्री की संख्या 3.61 लाख थी, जोकि 2017 में घटकर 2.28 लाख हो गई है।
 

Related News
64x64

नई दिल्ली। मशहूर अभिनेता प्रकाश राज ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े की हिंसा करने वालों पर उनके नरम रवैये को…

64x64

इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने गुरुवार को मुंबई में बॉलीवुड की नामचीन हस्तियों से मुलाकात की। खासतौर से महानायक अमिताभ बच्चन से मिलकर नेतन्याहू काफी खुश दिखे। पीएम नेतन्याहू से…

64x64

जम्मू: जम्मू-कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा एक बार फिर पाकिस्तान की ओर से बिना किसी उकसावे के संघर्षविराम का उल्लंघन किया जा रहा है. पाकिस्तान की ओर से जबरदस्त फायरिंग की…

64x64

तिरुअनंतपुरम । केरल में दिल को दहला देने वाली घटना सामने आई है। दरअसल, एक महिला ने अपने 14 साल के बेटे की गला घोंटकर हत्‍या कर दी।

पुलिस ने…

64x64

आधार स्कीम का विरोध करने वालों ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में दलील दी कि सरकार उन्हें संवेदनशील बायोमेट्रिक्स को ऐसी अनजान प्राइवेट फर्मों को देने को नहीं कह सकती…

64x64

मुंबईः मुंबई के कमला मिल्स कंपाउंड के रेस्टोरेंट में लगी आग मामले में बीएमसी ने शुक्रवार (19 जनवरी) को अपनी रिपोर्ट सौंपी है. बीएमसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है…

64x64

पूर्व दूरसंचार मंत्री एंदीमुथु राजा ने 2जी स्पेक्ट्रम मामले में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिं​ह की स्पष्ट चुप्पी पर सवाल उठाए हैं। राजा का कहना है कि मनमोहन उस दूरसंचार नीति…

64x64

नई दिल्ली। देश के तीन पूर्वोत्तर राज्यों में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज गया है। चुनाव आयोग ने मेघालय, त्रिपुरा और नागालैंड में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर…