By: Sabkikhabar
09-01-2018 06:12

भारतीयों की सबसे पसंदीदा मोटर सायकिल कौन सी है? बिना किसी सर्वे के लगभग हर भारतीय जवाब दे देगा, बुलेट यानी रॉयल एनफील्ड. मिड लेवल बाइक सेगमेंट में अकेली रॉयल एनफील्ड की हिस्सेदारी 76 प्रतिशत है. ये एकछत्र राज्य बुलेट की डिज़ाइन, क्वालिटी और दूसरी बातों से ज्यादा उससे जुड़े स्वैग के चलते है. जब बुलेट चले तो दुनिया रास्ता दे या बिल्ट लाइक ए गन जैसे विज्ञापनों ने बुलेट की लोकप्रियता जो बढ़ाई सो बढ़ाई, पुलिस अधिकारियों और सेना के अफसरों के बुलेट चलाने ने इस मोटरसाइकिल में अलग स्वैग जोड़ा.

मगर एक मोटरसाइकिल की प्राथमिक कसौटी अगर उसका इस्तेमाल, क्वालिटी और उसके मुकाबले कीमत रखी जाए तो निसंदेह ही रॉयल एनफील्ड पर सवाल खड़े होते है. अगर आप शौक और स्वैग के लिए एक रॉयल एनफील्ड चाहते हैं तो अलग बात है. अगर आप जरूरत के लिए बुलेट खरीदने का विचार बना रहे हैं या बुलेट आपकी पहली मोटरसाइकिल होने वाली है तो आपको इस ‘इंडियन बुल’ या देसी हार्लेडेविडसन की कमियों को जान लेना चाहिए.

भारी वजन

royal enfield

रॉयल एनफील्ड की सबसे बड़ी समस्या उसका वजन है. गाड़ी कम से कम 200 किलो की होगी. ये वजन इंजन का नहीं बल्कि बुलेट का क्लासिक लुक बनाए रखने के लिए होता है. बुलेट चलाने वाले कहते हैं कि ये गाड़ी को पहाड़ों पर चलाने में बेहतर बनाता है. पहली चीज़ तो पहाड़ और वजन का ये संबंध सही नहीं है. ऐसा है भी तो आप साल में कितने दिन बुलेट पर लद्दाख की सड़कों पर चलेंगे. वजन को लेकर बड़ी समस्या है, अगर गाड़ी खराब हो गई तो भगवान मालिक है.

हाईवे के लिए नहीं

royal enfield (2)

रॉयल एनफील्ड के चाहने वाले चाहे जो तर्क दें, एक्सप्रेस हाईवे पर भी रॉयल एनफील्ड 70 की स्पीड से ऊपर आरामदेह सवारी नहीं रह जाती. 350 सीसी की गाड़ी के लिए ये खराब बात है. ऊपर से बुलेट का वाइब्रेशन, मर्द को दर्द होता हो न होता हो बाइक चलाने वाले को जल्दी थकान जरूर होती है. नई बुलेट की सर्विस में भी समस्याएं हैं. अक्सर जो बुलेट स्पेशलिस्ट मैकेनिक मिलते हैं वो पुरानी बुलेट के जानकार होते हैं.

खराब क्वालिटी, कम माइलेज

royal enfield

बुलेट के खराब होने का रिस्क बहुत ज्यादा है. बीच हाइवे पर चेन खराब होने जैसे कई पहलू हैं जिनसे बाइकर्स दो चार होते रहते हैं. इसके साथ ही बुलेट के ब्रेकिंग सिस्टम पर भी बहुत भरोसा नहीं किया जा सकता. कोई भी रॉयल इनफील्ड 35 किलोमीटर से ज्यादा का एवरेज नहीं देती. जबकि इतनी पावर और स्पीड पैदा करने वाली तमाम दूसरी गाड़ियां देती हैं. बुलेट का पेट्रोल टैंक भी बहुत बड़ा नहीं होता ऐसे में लंबे सफर के लिए कई दूसरी गाड़ियां बेहतर हैं. ठंड के मौसम में आपने कितने लोगों को देर तक रॉयल एनफील्ड को किक मारते देखा है.

महंगी है

royal enfield (3)

बुलेट के साथ ये अच्छी बात भी है और खराब भी. इसका महंगा होना इसके स्वैग में बढ़ोत्तरी करता है. लेकिन अगर आप स्वैग के कद्रदान नहीं हैं तो 1 लाख के अंदर ऐसी कई बेहतर गाड़ियां खरीद सकते हैं जो आपको बढ़िया लुक के साथ-साथ बेहतर माइलेज और स्पीड दे सकती है. कीमत की ये बात बाइक खरीदने से लेकर सर्विस करवाने तक जारी रहती है.

कुल मिलाकर अगर आप रॉयल एनफील्ड क्लब या बुलेट बाइकर्स गैंग का हिस्सा बनने के लिए रॉयल एनफील्ड खरीदना चाहते हैं तो खरीदिए. अगर आप पैसों और फीचर के हिसाब से सोच रहे हैं तो दूसरे ऑप्शन और अपनी जरूरतों को समझिए.

Related News
64x64

भारतीय शेयर बाजार का नया रिकॉर्ड स्तर अगले 15 दिनों तक बजट 2018 की अहम आर्थिक घोषणाओं पर निर्भर है. आगामी बजट 2018 में वित्त मंत्री अरुण जेटली जैसे-जैसे संसद…

64x64

सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया में एफडीआई को मंजूरी के बाद केंद्र सरकार ने एयर इंडिया को बेचने की योजना तैयार कर ली है. प्रस्तावित मसौदे के तहत कंपनी को…

64x64

योग गुरू बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने मिलकर अब पतंजलि के प्रॉडक्ट्स को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करा दिया है। अब ग्राहक पतंजलि के प्रॉडक्ट अमेजन, फ्लिपकार्ट, पेटीएम मॉल,…

64x64

पेट्रोलियम पदार्थो की कीमतों में वृद्धि के चलते इन्हें जीएसटी के दायरे में लाने की कवायद तेज हो गई है। पेट्रोलियम मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा…

64x64

आज के वक़्त में नौकरी हर व्यक्ति के लिए जरूरी है फिर वह पार्ट टाइम हो या फुल टाइम हो। वैसे कुछ नौकरियां अस्थाई भी होती है जिनमें व्यक्ति कुछ…

64x64

ऑटो डेस्क। दोपहिया वाहन निर्माता केटीएम ने अपनी ड्यूक 390 बाइक भारत में लॉन्च कर दिया है। यह बाइक यूथ में सबसे पॉपुलर बाइक है। केटीएम ने इसे व्हाइट कलर…

64x64

नई दिल्ली । विनिवेश से पहले सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया के कमचारियों को दूसरे सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में भेजा जा सकता है। सरकार कर्मचारियों को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस)…

64x64

 वित्त मंत्रालय वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था में मुनाफाखोरी की शिकायत के फॉर्म को सरल बनाने की तैयारी कर रहा है। उपभोक्ताओं को ऐसी कंपनियों के खिलाफ शिकायत की…