By: Sabkikhabar
08-01-2018 05:59

अंग्रेजी शिक्षा संस्कृति हर हमला कर रही है और हमारे देश के नौनिहालों को देश के खिलाफ भड़का रही है, यह सोचते हुए ईरान ने अपने यहां इस विदेशी भाषा को पढ़ाए जाने पर रोक लगा दी है.

ईरान में जारी विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए वहां की सरकार डर गई है, और अपने स्तर पर आगे ऐसा न हो इसलिए उसने स्कूलों में अंगेजी पढ़ाने पर रोक लगा दिया है.

इस्लामिक नेताओं ने किया था विरोध

यह फैसला उस समय आया जब कई इस्लामिक नेताओं ने आगाह किया कि शुरुआती शिक्षा के दौरान अंग्रेजी भाषा पढ़ाए जाने से उनके देश में पाश्चात्य "सांस्कृतिक घुसपैठ" हो रहा है. ईरान के एक वरिष्ठ शिक्षा अधिकारी ने बताया कि इस्लामिक नेताओं के इस बयान के बाद प्राइमरी स्तर पर अंग्रेजी पढ़ाने जाने पर रोक लगा दी गई है.

उच्च स्तरीय शिक्षा समिति के प्रमुख मेहदी नाविद-अधम ने कहा, "सरकारी या गैर-सरकारी स्कूलों के आधिकारिक पाठ्यक्रम में अंग्रेजी पढ़ाया जाना अब नियम के खिलाफ होगा. प्राइमरी स्तर पर ऐसी शिक्षा दिए जाने से शुरुआती स्तर पर छात्र ईरानी संस्कृति को दूर होते जाएंगे."

ईरान के स्कूलों में अभी तक अंग्रेजी शिक्षा की शुरुआत 12 से 14 साल के बीच हुआ करती थी, लेकिन कुछ प्राइमरी स्कूल बेहद कम उम्र में ही अंग्रेजी शिक्षा की शुरुआत कर देते थे. मिडिल स्कूल के कुछ बच्चे अपने स्कूल में पढ़ाई करने के बाद किसी निजी भाषा संस्थान में अंग्रेजी की पढ़ाई किया करते थे, जबकि संपन्न घरों के ज्यादातर बच्चे गैर-सरकारी स्कूलों में अंग्रेजी शिक्षा हासिल किया करते थे.

'संस्कृति पर हमला'

ईरान के इस्लामिक नेता लगातार अंग्रेजी शिक्षा को ईरान की संस्कृति पर हमला बताते रहे हैं. और शीर्ष नेता अयातुल्लाह अली खमैनी भी 2016 में नर्सरी स्कूलों में बच्चों को अंग्रेजी शिक्षा दिए जाने के बढ़ते क्रेज पर नाराजगी जता चुके हैं.

हालांकि यह साफ नहीं हो सका है कि इस फैसले के पीछे ईरान में धार्मिक नेताओं और सरकार के खिलाफ पिछले एक हफ्ते से जारी विरोध-प्रदर्शन जिम्मेदार हैं या नहीं. ईरान के रिवोल्यूशनरी गॉर्ड्स की ओर से कहा गया कि देश में अशांति के लिए विदेशी शक्तियां जिम्मेदार हैं.

ईरानी अधिकारियों का कहना है कि हाल में जारी विरोध-प्रदर्शनों में 22 लोग मारे जा चुके हैं, जबकि 80 जिलों और ग्रामीण क्षेत्रों में फैल चुके प्रदर्शन पर अंकुश लगाने के लिए 1 हजार से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. माना जा रहा है कि ईरान में हजारों युवा और कामकाजी लोग बढ़ती बेरोजगारी और महंगाई के अलावा अमीर-गरीब में बढ़ती खाई के कारण सड़कों पर उतरे हैं.

ईरान का दावा है कि उसके देश में हो रहे प्रदर्शन के पीछे अमेरिका, ब्रिटेनस इजराइल, सऊदी अरब जैसे देशों का हाथ है. ऐसे प्रदर्शनों पर रोक लगाने के लिए सरकार ने पॉपुलर इंस्ट्राग्राम और टेलीग्राम जैसी सोशल मीडिया साइटों पर रोक लगा दी है. हालांकि फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर 2009 से ही बैन लगा हुआ है.

Related News
64x64

वॉशिंगटन : अमेरिकी विदेश विभाग ने पाकिस्तान के आम चुनाव में आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) से जुड़े लोगों के हिस्सा लेने पर चिंता जताई. डॉन न्यूज के मुताबिक, पाकिस्तान के…

64x64

यंगून : म्यांमार के संकटग्रस्त रखाइन प्रांत की अंतरराष्ट्रीय सलाहकार परिषद के एक प्रमुख सदस्य ने इस्तीफा दे दिया और कहा कि आंग सान सू की द्वारा नियुक्त बोर्ड के…

64x64

नई दिल्ली: पाकिस्तान के प्रमुख अंग्रेजी अखबार 'डॉन' के शनिवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के प्रमुख इमरान…

64x64

वॉशिंगटन: व्हाइट हाउस का कहना है कि वह रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की पूर्वी यूक्रेन में जनमत संग्रह की मांग का समर्थन करने पर विचार नहीं कर रहा. अमेरिकी राष्ट्रपति…

64x64

इंटरनैशनल डेस्कः  फ्रांस की मशहूर विमान निर्माता कंपनी एयरबस ने 21 साल पहले ए300-600 एसटी विमान बनाकर दुनिया को हैरान कर दिया था। इसके आकार के कारण यह सबसे दुर्लभतम…

64x64

वॉशिंगटन : लंबे इंतजार और बार - बार तारीख तय करने की जद्दोजहद के बाद अंतत : अमेरिका और भारत के बीच पहली 2+2 वार्ता छह सितंबर को नयी दिल्ली…

64x64

लंदनः ब्रिटेन की सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी ने 2020 में लंदन मेयर पद की उम्मीदवारी के लिए 10 संभावित नामों को अंतिम रूप दिया है और इसमें दो भारतवंशी भी हैं…

64x64

वॉशिंगटन : अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने आज कहा कि इंसान की धार्मिक स्वतंत्रता के बुनियादी अधिकार को लेकर चीन का रवैया ठीक नहीं है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय अगले…