By: Sabkikhabar
07-01-2018 07:19

मामला नियमितीकरण आदेश वितरित का
आमला नगर पालिका में काम कर रहे हैं। दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को नियमित कर आदेश दिए गए बताया जाता है। कि कुल 48 कर्मचारियों को नियमित किया गया है नियमितीकरण आदेश देने के लिए नगर पालिका द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमें कुछ खास लोगों को ही बुलाया गया था किसी को ख़ास तो किसी को आम कर दिया गया है बताया जाता है। भाजपा पार्षद बसंतपुर उडुकले, लिखीराम साहू, सुरेखा वराटे,सरस्वती बछले, कांग्रेसी पार्षद सुषमा राहुल ढूंढे को कार्यक्रम में आमंत्रित तो किया ही नहीं लेकिन पार्षद होने के नाते नियमितीकरण आदेश वितरित करना और पूरी प्रक्रिया की जानकारी इन पार्षदों को नहीं है इस विषय में पार्षद सुषमा राहुल डंडे से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि नगर पालिका में अध्यक्ष और सीएमओ की मनमानी चल रही है। वह स्वयं निर्णय लेते हैं । वैसे ही काम किया जा रहा है । हमारे जैसे जनप्रतिनिधियों को विश्वास में ना लेकर निर्णय लिए जा रहे हैं।  नियमितीकरण आदेश का मामला हो या परिषद की बैठक का मामला हो के निर्माण कार्य का मामला सभी कार्यक्रमों के निर्णय अनुसार ही किया जा रहा है 48 दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को नियमित किया गया इसकी जानकारी हमें नहीं जहां तक बात कार्यक्रम आयोजित करने की वह कार्यक्रम भाजपा कार्यकर्ताओं और उनके चाहते पार्षदों का कार्यक्रम था हमेशा नगर पालिका में ऐसा ही होता रहा है अपने चहेते पार्षदों और भाजपा के जनप्रतिनिधि कार्यकर्ताओं को आमंत्रित किया जाता है और कार्यक्रम आयोजित किया जाता है वैसे तो शासकीय आदेश वितरित का मामला था लेकिन नपा अधिकारी द्वारा इस कार्यक्रम को राजनीतिक कार्यक्रम बना दिया गया है इस विषय में जब भाजपा पार्षद बसंत  उडुकले से चर्चा की गई तो उन्होंने बताया कि नगर पालिका में वर्तमान में क्या हो रहा है इसकी जानकारी हमें नहीं रहती है। क्योंकि नपाध्यक्ष सीएमओ के बीच ही निर्णय ले कर सब काम किए जा रहे हैं। जहां तक बात है । दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की नियमितीकरण कार्यक्रम की हमें नहीं बुलाया गया है इसका क्या कारण है यह तो नपाध्यक्ष या मुख्य नगरपालिका अधिकारी ही बता सकते हैं।

Related News
64x64

आखिर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जज लोया की मौत को ‘नैचरल डेथ’ करार देते हुए इस मामले में आगे किसी भी तरह की जांच को अनावश्यक बता दिया। कोर्ट ने…

64x64

पिछले कुछ वर्षों से, सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा भारत के प्रथम प्रधानमंत्री और आधुनिक भारत के निर्माता जवाहरलाल नेहरू की विरासत को नज़रंदाज़ और कमजोर करने के अनवरत…

64x64

अगर राजनेताओं के अभिनय, संवाद अदायगी, मंच प्रस्तुति, वेशभूषा इन सबके लिए आस्कर जैसा कोई पुरस्कार होता तो निश्चित ही भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लगातार चार सालों तक उसे…

64x64

सामाजिक दृष्टि से भी बिटकॉइन हानिप्रद है। बड़े कम्प्यूटरों में भारी मात्रा में बिजली की बर्बादी केवल एक आर्टिफिशियल पहेली को हल करने में लगाई जाती है। जैसे हमने एक…

64x64

हमारी जांच एजेंसियां किस कदर लाचार, पंगु और अनुपयोगी हो चुकी हैं, इसका ताजा नमूना मक्का मस्जिद धमाका मामले में देखने मिला है। 18 मई 2007 को हैदराबाद की इस…

64x64

शनिवार सुबह सीरिया में अजान की आवाज मिसाइलों के शोर के साथ सुनाई दी। अमेरिका ने एक बार फिर विश्व का रहनुमा बनते हुए तथाकथित शांति पाठ और दुष्टों का…

64x64

जैसे-जैसे हिन्दू राष्ट्रवाद की आवाज बुलंद होती जा रही है उसके समक्ष यह समस्या भी उत्पन्न हो रही है कि वह दलितों की सामाजिक न्याय पाने की महत्वाकांक्षा से कैसे…

64x64

कांग्रेस और भाजपा के बीच 2019 के चुनावी मुकाबले से पहले उपवास का मुकाबला शुरु हो गया है। जिसमें पहला दांव कांग्रेस खेल चुकी है और अब भाजपा अपना दांव…