By: Sabkikhabar
05-01-2018 07:13

वित्त मंत्रालय ने सरकारी बैंकों के लिए पुनर्पूंजीकरण बॉन्ड जारी करने के वास्ते संसद से इस वित्त वर्ष के दौरान 80 हजार करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च करने की अनुमति मांगी है। सरकार ने इन बैंकों के लिए एक लाख 35 हजार करोड़ रुपये के पुनपूर्जींकरण बॉन्ड जारी करने की योजना बनाई है। वरिष्ठï सरकारी अधिकारियों ने बताया कि प्रस्तावित पुनर्पूंजीकरण बॉन्ड का गैर सांविधिक नकदी अनुपात (एसएलआर) का दर्जा होगा और इनकी द्वितीयक बाजारों में खरीद फरोख्त नहीं की जाएगी। इस साल 31 मार्च से पहले बैंकों में 80 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।


वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्य सभा में कहा, 'इसके पीछे सरकार की मंशा यह है कि विकास को समर्थन देने की बैंकों की क्षमता प्रभावित न हो। पिछली सरकार के दौरान सरकारी बैंकों के बेतरतीब ढंग से कर्ज देने के कारण बैंकों की आर्थिक विकास को समर्थन देने की क्षमता प्रभावित हुई है। इससे निजी निवेश भी प्रभावित हुआ है।' सरकार ने 2017-18 के लिए पूरक अनुदान मांगों की तीसरी किस्त के रूप में 80 हजार करोड़ रुपए मांगे हैं। वित्त मंत्रालय के एक दस्तावेज में कहा कि सरकारी प्रतिभूतियों के जरिये सरकारी बैंकों के पुनर्पूंजीकरण के लिए अतिरिक्त खर्च के रूप में यह मांग की गई है। इस अतिरिक्त खर्च की भरपाई बैंकों को प्रतिभूति जारी करने से मिलने वाले 80 हजार करोड़ रुपये से होगी। इस तरह सरकार की कोई नकदी खर्च नहीं होगी।

सरकार बैंकों को जितनी राशि के बॉन्ड जारी करेगी, बैंकों में उतनी ही राशि के बराबर हिस्सेदारी लेगी। राजकोषीय घाटे की गणना करते समय इन बॉन्डों को शामिल नहीं किया जाएगा जिससे पहले से दबाव झेल रहे राजकोषीय घाटे पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा। एसएलआर जमाओं का एक हिस्सा होता है जिसे बैंकों को सरकार प्रतिभूतियों में निवेश करना होता है। एसएलआर का दर्जा मिलने से बॉन्ड की द्वितीयक बाजार में खरीद फरोख्त की जा सकती है।


सरकार इस वित्त वर्ष और अगले वित्त वर्ष के दौरान एक लाख 35 हजार करोड़ रुपये के पुनर्पूंजीकरण बॉन्ड जारी करेगी। यह सरकारी बैंकों की दो लाख 11 हजार करोड़ रुपये की पुनर्पूंजीकरण योजना का हिस्सा है। पुनर्पूंजीकरण बॉन्ड के अलावा सरकार की इस वर्ष 180 अरब रुपये और अगले वर्ष 580 अरब रुपये बाजार से जुटाने की योजना है।सरकार ने इस योजना के बारे में अभी कोई घोषणा नहीं की है लेकिन कुछ मानकों के आधार पर बैंकों को पुनर्पूंजीकरण बॉन्ड आवंटित किए जाएंगे। ऐसी संभावना है कि कमजोर बैंकों को केवल प्रावधान की जरूरतों के लिए पूंजी दी जाएगी जबकि मजबूत बैंकों को आगे कर्ज देने के लिए भी पूंजी मुहैया की जाएगी।

किस बैंक को कितनी पूंजी मिलेगी, यह इस बात पर निर्भर करेगी कि उसने फंसे हुए कर्ज की समस्या से निपटने के लिए क्या कदम उठाए हैं, दिवालिया कानून में भेजे गए मामलों की क्या प्रगति है और उनके प्रावधान कितने कारगर हैं। जैसा कि बिज़नेस स्टैंडर्ड ने पहले बताया था कि बैंकों को दिवालिया कानून के तहत राष्ट्रीय कंपनी कानून पंचाट में भेजे गए मामलों के अलावा अपने फंसे कर्ज का एक छोटा सा हिस्सा बट्टïे खाते में डालना पड़ सकता है। देश के बैंकों का कुल फंसा कर्ज मार्च 2015 के 2 लाख 75 हजार करऌोड़ रुपये की तुलना में जून 2017 में बढ़कर 7 लाख 33 हजार करोड़ रुपये पहुंच चुका था।
 

Related News
64x64

भारतीय शेयर बाजार का नया रिकॉर्ड स्तर अगले 15 दिनों तक बजट 2018 की अहम आर्थिक घोषणाओं पर निर्भर है. आगामी बजट 2018 में वित्त मंत्री अरुण जेटली जैसे-जैसे संसद…

64x64

सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया में एफडीआई को मंजूरी के बाद केंद्र सरकार ने एयर इंडिया को बेचने की योजना तैयार कर ली है. प्रस्तावित मसौदे के तहत कंपनी को…

64x64

योग गुरू बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने मिलकर अब पतंजलि के प्रॉडक्ट्स को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करा दिया है। अब ग्राहक पतंजलि के प्रॉडक्ट अमेजन, फ्लिपकार्ट, पेटीएम मॉल,…

64x64

पेट्रोलियम पदार्थो की कीमतों में वृद्धि के चलते इन्हें जीएसटी के दायरे में लाने की कवायद तेज हो गई है। पेट्रोलियम मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा…

64x64

आज के वक़्त में नौकरी हर व्यक्ति के लिए जरूरी है फिर वह पार्ट टाइम हो या फुल टाइम हो। वैसे कुछ नौकरियां अस्थाई भी होती है जिनमें व्यक्ति कुछ…

64x64

ऑटो डेस्क। दोपहिया वाहन निर्माता केटीएम ने अपनी ड्यूक 390 बाइक भारत में लॉन्च कर दिया है। यह बाइक यूथ में सबसे पॉपुलर बाइक है। केटीएम ने इसे व्हाइट कलर…

64x64

नई दिल्ली । विनिवेश से पहले सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया के कमचारियों को दूसरे सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में भेजा जा सकता है। सरकार कर्मचारियों को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस)…

64x64

 वित्त मंत्रालय वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था में मुनाफाखोरी की शिकायत के फॉर्म को सरल बनाने की तैयारी कर रहा है। उपभोक्ताओं को ऐसी कंपनियों के खिलाफ शिकायत की…