Breaking News

Today Click 524

Total Click 283679

Date 18-12-18

ग्लोबलाईजेशन से वापसी

By Sabkikhabar :28-12-2017 08:19


डब्लूटीओ के बनने के पहले हर देश की अपनी पेटेंट व्यवस्था थी। 'पेटेंट' कानून में बौद्धिक सम्पदा का संरक्षण किया जाता है।  किसी व्यक्ति  द्वारा आविष्कार की गई वस्तु का दूसरा व्यक्ति  द्वारा डुप्लीकेट बनाने पर पेटेंट कानून में रोक रहती है। डब्लूटीओ के बनने के बाद हमारे पेटेंट कानून को बदल कर वैश्विक नियमों के अनुसार बनाया गया। पूर्व में हमें छूट थी कि दूसरे द्वारा किए गए आविष्कार का हम डुप्लीकेट  बना सकते थे यदि हम किसी दूसरी उत्पादन प्रक्रिया (प्रोसेस) से उसी माल को बनाए। डब्लूटीओ के बाद यह छूट समाप्त हो गई है। इसलिए डब्लूटीओ हमारे लिए हानिप्रद रहा है।

१९95 में विश्व व्यापार संगठन (डब्लूटीओ) का गठन हुआ था। उस समय भारत में डब्लूटीओ का भारी विरोध हुआ था- विशेषकर लेफ्ट पार्टियों एवं स्वदेशी जागरण मंच द्वारा। तमाम विद्वानों का आकलन था कि डब्लूटीओ से जुड़ने पर हमारे उद्योगों का सफाया हो जाएगा और हम आर्थिक दासता के नए दलदल में फंस जाएंगे। ये भय सही सिद्ध हुए हैं। बीते 20 सालों में भारत की यूपीए तथा एनडीए सरकारों ने डब्लूटीओ की छत्रछाया तले ग्लोबलाइजेशन को पुरजोर बढ़ाया है। लेकिन ग्लोबलाइजेशन से न हमें और न ही दुनिया के दूसरे लोगों को वांछित लाभ मिले हैं। अब इससे वापसी हो रही है। प्रमाण डब्लूटीओ की हाल में सम्पन्न हुई मंत्री-स्तरीय सभा का फुस्स होना है। वर्तमान सभा को समझने के लिए हमें कुछ पीछे जाना होगा।

डब्लूटीओ के बनने के पहले हर देश की अपनी पेटेंट व्यवस्था थी। 'पेटेंट' कानून में बौद्धिक सम्पदा का संरक्षण किया जाता है। किसी व्यक्ति द्वारा आविष्कार की गई वस्तु का दूसरा व्यक्ति द्वारा डुप्लीकेट बनाने पर पेटेंट कानून में रोक रहती है। डब्लूटीओ के बनने के बाद हमारे पेटेंट कानून को बदल कर वैश्विक नियमों के अनुसार बनाया गया। पूर्व में हमें छूट थी कि दूसरे द्वारा किए गए आविष्कार का हम डुप्लीकेट बना सकते थे यदि हम किसी दूसरी उत्पादन प्रक्रिया (प्रोसेस) से उसी माल को बनाए। डब्लूटीओ के बाद यह छूट समाप्त हो गई है। इसलिए डब्लूटीओ हमारे लिए हानिप्रद रहा है।

डब्लूटीओ के अंतर्गत दूसरी प्रमुख व्यवस्था उच्चतम आयात करो के निर्धारण की है। पूर्व में हर देश अपनी मर्जी के अनुसार किसी भी वस्तु पर मनचाही दर से आयात कर वसूल सकता था। जैसे हम आयातित कारों पर 200 प्रतिशत तक वसूल करते थे। डब्लूटीओ के अंतर्गत आयात करों की अधिकतम सीमा निर्धारित कर दी गई। इससे अपने देश में चीन का माल भारी मात्रा में प्रवेश करने करने लगा है और घरेलू उद्यमियों को नुकसान हुआ। डब्लूटीओ के इन नुकसानदेह प्रभावों का परिणाम है कि सब दुनिया के देश डब्लूटीओ का और विस्तार नहीं करना चाहते हैं।

इस समय डब्लूटीओ के विस्तार की कई संभावनाएं थीं। वर्तमान में डब्लूटीओ के दायरे में माल का व्यापार आता है जैसे गेहूं, कार तथा मशीनों का। सेवाओं का व्यापार डब्लूटीओ के बाहर है जैसे साफ्टवेयर, ट्रान्सलेशन, मेडिकल ट्रान्सक्रिप्शन, हेल्थ टूरिज्म, इत्यादि। डब्लूटीओ के विस्तार की दूसरी संभावना ई-कामर्स की जैसे आज आप चीन की किसी कंपनी को आनलाइन आर्डर देकर माल मंगवा सकते हैं। इस व्यापार को सुनियोजित करने के लिए कोई वैश्विक कानून नहीं है। हाल में हुई डब्लूटीओ की मंत्री स्तरीय वार्ता में इन विषयों पर चर्चा नहीं हुई जो कि बताता है कि दुनिया के लोग डब्लूटीओ से परेशान हो गए हैं और अब वैश्वीकरण से पीछे हट रहे हैं। 

वैश्वीकरण का विस्तार तथा इससे पीछे हटना इतिहास में बार-बार होता रहा है। अपने ही 400 वर्ष पुराने इतिहास का स्मरण करें। भारत पर मुगलों का शासन था। अरब सागर के दस्युओं द्वारा हमारे जहाजों को लूटा जा रहा था। ऐसे में ब्रिटिश व्यापारियों ने मुगल शासकों को प्रस्ताव दिया कि यदि उन्हें भारत में खुलकर व्यापार करने की छूट दी जाए तो शुल्क के रूप में वे भारतीय जहाजों को समुद्री सुरक्षा उपलब्ध करा देंगे।

 
ब्रिटिश व्यापारियों की नाविक सेना हमारी तुलना में ताकतवर थी और वे दस्युओं के सामने झुकते नहीं थे। हमारे मुगल शासकों ने यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। बस भारत का ग्लोबलाइजेशन हो गया। ब्रिटिश व्यापारियों ने अपने पैर पसारे। समय क्रम में हमारे तमाम राजाओं ने स्वेच्छा से ब्रिटिश लोगों को अपनी संप्रभुता दे दी। उन्होंने आकलन किया कि ब्रिटिश शासन के नीचे द्वितीय स्तर पर भागीदार बने रहना उनके लिए लाभदायक रहेगा। कमोबेश देश की जनता ने भी ब्रिटिश शासकों का स्वागत किया। राजस्थान के डूंगरपुर के आदिवासियों ने बताया कि घरेलू राजाओं के आतताई व्यवहार से बचने को वे अजमेर को ब्रिटिश प्रेजिडेंसी को भाग जाते थे।

आज डब्लूटीओ द्वारा ग्लोबलाइजेशन उसी प्रकार लागू किया जा रहा है जैसे ब्रिटिश शासकों द्वारा भारत में लागू किया गया था। ब्रिटिश माल को भारत में न्यून आयात कर पर प्रवेश करने की छूट दी गई थी जैसा कि वर्तमान में डब्लूटीओ के अन्तर्गत चीन के माल को भारत में न्यून आयातकर पर प्रवेश करने की छूट है। ब्रिटिश कंपनियों ने भारत में निवेश किया जैसा कि आज बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा किया जा रहा है।

भारत के घरेलू कानूनों को ब्रिटिश कानूनों के अनुसार बदला गया जैसे आज हमने अपने पेटेन्ट कानून के बदले डब्लूटीओ के अनुरूप बदल दिया है। समय क्रम में भारतीयों ने पाया कि उनके द्वारा स्वेच्छा से ब्रिटिश शासकों को हस्तान्तरित की गई स्वतंत्रता का प्रभाव विपरीत पड़ रहा है। तब देश ने लाजपत राय और महात्मा गांधी के नेतृत्व में उस ग्लोबलाइजेशन को चुनौती दी। पूरे देश में स्वतंत्रता का आन्दोलन छिड़ गया। हमारे राजाओं द्वारा ब्रिटिश शासकों के साथ की गई संधियों का कोई अर्थ नहीं रह गया। अंत में भारत ग्लोबलाइजेशन के फंदे से बाहर निकला जिसे हमारे शासकों ने स्वेच्छा से अपने गले में हीरे का हार समझ कर डाल लिया था। इसी प्रकार की ग्लोबलाइजेशन से वापसी आज डब्लूटीओ की मंत्री स्तरीय सभा में दिखती है।

अंतत: ग्लोबलाइजेशन तब टिकेगा जब किसी देश के लोगों को यह लाभप्रद दिखेगा। जब शासक जनता के हितों के विरूद्ध ग्लोबलाइजेशन को अपनाते है तो जनता उस देश के शासकों को उखाड़ फेंकती है जैसे हमारे शासकों द्वारा ब्रिटिश शासकों को सौंपी गई संप्रभुता को हमारी जनता ने उखाड़ फेंका था। हर हाल में अंतिम संप्रभुता जनता की होती है। अत: ग्लोबलाजेशन से डरने की जरूरत नहीं है। जरूरत इस बात की है कि शासकों द्वारा लागू किए गए ग्लोबलाइजेशन के लाभ हानि का स्वतंत्र आकलन करके जनता को बताया जाए जिस प्रकार लाजपत राय ने ब्रिटिश शासन का भारतीय अर्थव्यवस्था पर पड़ रहे प्रभाव का आकलन कर जनता को जागृत किया। देश के बुद्धिजीवियों की जिम्मेदारी बनती है कि ग्लोबलाइजेशन के लाभ हानि का सही ब्यौरा जनता को बताएं। उदाहरणत: आज हमारी सरकार चीन से आयात किए जा रहे माल के विरूद्ध कदम उठाने को तैयार नहीं है। किन्तु जनता कहने लगी है कि इसे रोका जाना चाहिए। 

आने वाले समय में हम ग्लोबलाइजेशन से पीछे हटेंगे चूंकि इससे आम आदमी के रोजगार का भक्षण हो रहा है। उसे चीन में बना सस्ता माल उपलब्ध है किन्तु उसे खरीदने के लिए जेब में पैसा नहीं है। ग्लोबलाइजेशन का लाभ आज हमारी बड़ी कम्पनियों और मध्यम वर्ग मात्र को हो रहा है। जैसे-जैसे जनता को यह वास्तविकता समझ में आएगी हमारे नेताओं को ग्लोबलाइजेशन से पीछे हटना ही होगा। इसी क्रम में हमें मेक इन इंडिया जैसे कार्यक्रमों की विफलता को शीघ्र स्वीकार कर अपने घरेलू उद्यमियों को बढ़ावा देना चाहिए।
 

Source:Agency