By: Sabkikhabar
18-12-2017 07:08

खासतौर पर 2002 से गुजरात में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण का जो इतिहास रहा है, उसकी पृष्ठïभूमि में भाजपा के शीर्ष स्तर से इस तरह का प्रचार करने के अर्थ को आसानी से समझा जा सकता है। वास्तव में यह कहना भी गलत नहीं होगा कि इसी तरह के संभव ध्रुवीकरण की आशंका से मुख्य विपक्षी पार्टी, कांग्रेस अब तक अपने चुनाव प्रचार में इस संबंध में अतिरिक्त रूप से सचेत रही है कि उसे मुसलमानों के साथ नहीं जोड़ दिया जाए। राहुल गांधी के लिए 'हम भी हिंदूÓ छवि गढ़ने से लेकर, चुनाव प्रचार में मुसलमानों तथा खासतौर पर 2002 के मुस्लिमविरोधी नरसंहार का जिक्र तक न करने से लेकर, अहमद पटेल की नेतृत्व की दावेदारी के अति-तत्पर खंडन तक, सारे पैंतरे इसी के लिए अपनाए गए हैं। 

आखिरकार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी अवतार ने कूटनीतिक स्तर पर देश की भद्द पिटवा ही दी। पाकिस्तान के विदेश विभाग के प्रवक्ताओं को भारत को इसका ताना देने का मौका मिल ही गया कि वह अपने यहां के चुनाव में नाहक पाकिस्तान को न घसीटे; अपने चुनाव अपने बल-बूते पर ही लड़े। बेशक, सत्ताधारी पार्टी के प्रवक्ता और केंद्रीय विधिमंत्री, रविशंकर प्रसाद ने बिना देरी किए, इसका खंडन किया है कि सत्ताधारी पार्टी ने और वास्तव में खुद प्रधानमंत्री ने, गुजरात के चुनाव में पाकिस्तान को घसीटने की कोशिश की है। उन्होंने पाकिस्तान को चेताया है कि वह भारत को नसीहत देने की कोशिश न करे! लेकिन, इन खंडनों को भला कोई कैसे जरा सी भी गंभीरता से ले सकता है? सचाई यह है कि खुद रविशंकर प्रसाद भी अपनी लंबी किंतु उखड़ी-उखड़ी सी सफाई में कम से कम इससे इंकार नहीं कर पाए हैं कि गुजरात के दूसरे चरण के चुनाव के लिए अपनी एक के बाद एक, अनेक जनसभाओं में, प्रधानमंत्री मोदी ने काफी प्रत्यक्ष रूप से पाकिस्तान और पाकिस्तानी शासन पर, गुजरात के चुनाव में दखल देने और सत्ताधारी भाजपा तथा वास्तव में खुद प्रधानमंत्री के खिलाफ हस्तक्षेप करने के आरोप लगाए हैं। चूंकि सत्ताधारी पार्टी प्रधानमंत्री द्वारा ऐसे आरोप लगाए जाने से इंकार करने में असमर्थ है, इन आरोपों को सच सिद्घ करने से कम किसी भी खंडन से पाकिस्तान की आपत्ति का जवाब नहीं दिया जा सकता है। और भाजपा ठीक यही करने में असमर्थ है।

 इसकी वजह उस आयोजन की बुनियादी प्रकृति में है, जिसे पाकिस्तानी शासन के साथ कांग्रेस नेताओं की षडयंत्रकारी बैठक की तरह पेश कर के यह दिखाने की कोशिश की थी और गुजरात में उनके और उनकी पाटी्र्र के खिलाफ उनकी प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस ने पाकिस्तान के साथ साठगांठ कर ली है। प्रधानमंत्री ने षडयंत्र के अपने इस प्रचार के लिए जान-बूझकर, रात्रिभोज-सह कूटनीतिज्ञ मुलाकात के एक पूरी तरह से निजी आयोजन को, न सिर्फ एक षडयंत्री बैठक बना दिया बल्कि बैठक में हिस्सा लेने वालों की सूची में भी इस तरह काट-छांट कर दी, जिससे इसे गुप्त बैठक बनाने में आसानी हो। प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के घर पर हुई बैठक में पाकिस्तान के पूर्व-विदेश मंत्री तथा वर्तमान उच्चायुक्त के साथ, भारत के पूर्व-राष्टï्रपति तथा पूर्व-प्रधानमंत्री, मनमोहन सिंह शामिल हुए।

यह मानना मुश्किल है कि प्रधानमंत्री का खुफिया विभाग इतना निकम्मा है कि उक्त आयोजन में शामिल हुए अन्य लोगों के नामों के बारे में उसने प्रधानमंत्री को जानकारी ही नहीं दी। वर्ना इस आयोजन में पूर्व-सेनाध्यक्ष, जनरल दीपक कपूर से लेकर, जाने-माने पाकिस्तान विशेषज्ञ चिन्मय गरेखान समेत करीब दर्जन भर, पाकिस्तान के साथ संबंधों का अनुभव रखने वाले कूटनीतिज्ञों तथा पत्रकारों तक की उपस्थिति, इसके इरादों के बारे में दूर-दूर तक किसी भी संदेह की गुंजाइश नहीं छोड़ती है। हां! अगर पाकिस्तान के साथ संबंधों की चर्चा मात्र को षडयंत्र का अपराध बताया जा रहा हो तो बात दूसरी है। लेकिन, उस स्थिति में कांग्रेस के प्रवक्ता यह सवाल पूरी तरह से वाजिब है हो जाता कि अगर ऐसा ही है तब मोदी सरकार पाकिस्तान के उच्चायुक्त को वापस क्यों नहीं भेज देती है?

    प्रधानमंत्री ने अपनी जनसभाओं में यह आरोप लगाया कि उक्त गुप्त बैठक के अगले ही दिन, मणिशंकर अय्यर ने उन्हें 'नीच' कहा था! बहरहाल, प्रधानमंत्री उक्त बैठक को अय्यर की अपने संबंध में उक्त अपमानजनक टिप्पणी के साथ जोड़ने पर ही नहीं रुक गए। अय्यर की टिप्पणी को उनके क्षमा मांगने के बावजूद, खुद अपने यानी 'गुजरात-पुत्र' के अपमान से गुजरात के अपमान तक बनाकर भरपूर दुहने के बाद, उसे पाकिस्तान के साथ जोड़ने पर भी प्रधानमंत्री ने बस नहीं की। इससे आगे बढ़कर मोदी ने पाकिस्तान सेना के पूर्व महानिदेशक, अरशद रफीक की तथाकथित फेसबुक पोस्ट को इसके सबूत के तौर पर पेश किया कि पाकिस्तान, गुजरात के चुनाव में हस्तक्षेप कर रहा था। जनरल रफीक की फेसबुक पोस्ट में यह कहा बताया गया है कि वरिष्ठï कांग्रेस नेता अहमद पटेल को गुजरात का अगला मुख्यमंत्री होना चाहिए! यहां पहुंच कर पाकिस्तान के खिलाफ आरापों का असली मकसद साफ हो जाता है। इशारों में नहीं बल्कि खुद प्रधानमंत्री के मुंह से हम करीब-करीब साफ तौर पर यह कहा जाता हुआ सुन रहे थे कि पाकिस्तान, गुजरात में एक मुसलमान को मुख्यमंत्री बनवाने के लिए हस्तक्षेप कर रहा था।

 
पाकिस्तान और हिंदुस्तानी मुसलमानों का हिंदुत्ववादियों द्वारा इस तरह का समीकरण किया जाना, एक जाना-पहचाना पैंतरा है। गुजरात के चुनाव में इसका विस्तार, प्रमुख विपक्षी पार्टी, कांग्रेस तक किया जा रहा है, ताकि हिंदुओं को इस आधार पर गोलबंद किया जा सके कि कांग्रेस तो मुसलमान को गुजरात का मुख्यमंत्री बनाने जा रही है। याद रहे कि इससे पहले अहमदाबाद में इसी आशय के बैनर लगाए गए थे, जिनको भाजपा का गंदा खेल बताते हुए कांग्रेस ने इसका जोरदार तरीके से खंडन किया था कि अहमद पटेल उसके मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हैं या होंगे! उक्त बैनर वास्तव में किस ने लगाए थे इसकी जांच अब तक कहीं नहीं पहुुंची है। लेकिन, अब खुद प्रधानमंत्री इस प्रचार में कूद पड़े हैं। 

    खासतौर पर 2002 से गुजरात में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण का जो इतिहास रहा है, उसकी पृष्ठïभूमि में भाजपा के शीर्ष स्तर से इस तरह का प्रचार करने के अर्थ को आसानी से समझा जा सकता है। वास्तव में यह कहना भी गलत नहीं होगा कि इसी तरह के संभव ध्रुवीकरण की आशंका से मुख्य विपक्षी पार्टी, कांग्रेस अब तक अपने चुनाव प्रचार में इस संबंध में अतिरिक्त रूप से सचेत रही है कि उसे मुसलमानों के साथ नहीं जोड़ दिया जाए।

राहुल गांधी के लिए 'हम भी हिंदू' छवि गढ़ने से लेकर, चुनाव प्रचार में मुसलमानों तथा खासतौर पर 2002 के मुस्लिमविरोधी नरसंहार का जिक्र तक न करने से लेकर, अहमद पटेल की नेतृत्व की दावेदारी के अति-तत्पर खंडन तक, सारे पैंतरे इसी के लिए अपनाए गए हैं। लेकिन, अब साफ-साफ दिखाई दे रहा है कि कांगे्रस के ये सारे बचाव उपाय नाकाफी साबित होने जा रहे हैं। शुरूआती चरण से ही नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा ने अपना चुनाव प्रचार गुजरात के विकास के मुद्दे को छोड़कर, मुसलमानहीन-गुजराती अस्मिता, गुजराती गौरव आदि की ओर ज्यादा से ज्यादा मोड़ना शुरू कर दिया था।

चुनाव प्रचार के मध्यभाग तक आते-आते सोमनाथ, राहुल के मंदिरों में जाने तथा अयोध्या में राम मंदिर तथा राम में आस्था तक के सवाल उछालने के जरिए, हिंदू होने के नाम पर गुजरातियों के ध्रुवीकरण की कोशिशें शुरू हो गयीं। और गुजरात में मतदान का पहला चरण हो जाने के बाद, जिसमें खासतौर पर पाटीदारों की बगावत ने भाजपा की चिंताएं बढ़ा दी हैं, अब पाकिस्तान और मुसलमान के समीकरण के जरिए, बहुसंख्यक सांप्रदायिकता के नारों का खुला खेल शुरू हो गया है। इसके चक्कर में अगर दुनिया भर में भारत की भद्द पिटती है तो भाजपा की बला से। गुजरात की जीत के लिए उसकी नजरों में कोई भी कीमत थोड़ी है। 
 

Related News
64x64

आखिर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई जज लोया की मौत को ‘नैचरल डेथ’ करार देते हुए इस मामले में आगे किसी भी तरह की जांच को अनावश्यक बता दिया। कोर्ट ने…

64x64

पिछले कुछ वर्षों से, सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा भारत के प्रथम प्रधानमंत्री और आधुनिक भारत के निर्माता जवाहरलाल नेहरू की विरासत को नज़रंदाज़ और कमजोर करने के अनवरत…

64x64

अगर राजनेताओं के अभिनय, संवाद अदायगी, मंच प्रस्तुति, वेशभूषा इन सबके लिए आस्कर जैसा कोई पुरस्कार होता तो निश्चित ही भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लगातार चार सालों तक उसे…

64x64

सामाजिक दृष्टि से भी बिटकॉइन हानिप्रद है। बड़े कम्प्यूटरों में भारी मात्रा में बिजली की बर्बादी केवल एक आर्टिफिशियल पहेली को हल करने में लगाई जाती है। जैसे हमने एक…

64x64

हमारी जांच एजेंसियां किस कदर लाचार, पंगु और अनुपयोगी हो चुकी हैं, इसका ताजा नमूना मक्का मस्जिद धमाका मामले में देखने मिला है। 18 मई 2007 को हैदराबाद की इस…

64x64

शनिवार सुबह सीरिया में अजान की आवाज मिसाइलों के शोर के साथ सुनाई दी। अमेरिका ने एक बार फिर विश्व का रहनुमा बनते हुए तथाकथित शांति पाठ और दुष्टों का…

64x64

जैसे-जैसे हिन्दू राष्ट्रवाद की आवाज बुलंद होती जा रही है उसके समक्ष यह समस्या भी उत्पन्न हो रही है कि वह दलितों की सामाजिक न्याय पाने की महत्वाकांक्षा से कैसे…

64x64

कांग्रेस और भाजपा के बीच 2019 के चुनावी मुकाबले से पहले उपवास का मुकाबला शुरु हो गया है। जिसमें पहला दांव कांग्रेस खेल चुकी है और अब भाजपा अपना दांव…