By: Sabkikhabar
12-10-2017 07:07

दिल्ली मेट्रो की अहम कमेटियों में दिल्ली सरकार की भागीदारी नगण्य रही है। मेट्रो के प्रबंधन के लिए पिछले दो साल में हुई 15 बैठकों में से 14 में दिल्ली सरकार गैरहाजिर रही है। ये आरोप स्वराज इंडिया ने लगाए हैं। मेट्रो रेल में केंद्र और दिल्ली सरकार की 50-50 भागीदारी है। दिल्ली मेट्रो के प्रबंधन में दिल्ली सरकार की अहम भूमिका होती है।  16 सदस्यीय मेट्रो बोर्ड में भी मेट्रो के 6 पूणर्कालिक निदेशकों के अलावा केंद्र और दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर पांच-पांच निदेशक हैं। लेकिन दिल्ली मेट्रो की सालाना रिपोर्ट से मिली हैरान करने वाली एक जानकारी अत्यंत ही चिंताजनक है। इन तथ्यों से मेट्रो रेल के प्रति दिल्ली सरकार की गंभीरता उजागर होती है। स्वराज इंडिया के मुताबिक पिछले दो वित्त साल में दिल्ली मेट्रो के प्रबंधन के लिए बनी अहम कमेटियों की 15 बैठकें हुई हैं। इनमें से 14 बैठकों में दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि उपस्थित भी नहीं रहे हैं।
वित्त वर्ष 2015-16 में आॅडिट कमिटी, प्रॉपर्टी डेवलपमेंट कमिटी, रेमयुनेरेशन कमिटी और आॅपरेशन एवं मेंटेनेंस की कुल 8 बैठक हुई। इन महत्त्वपूर्ण बैठकों में से सिर्फ एक बैठक में दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि अपनी हाजरी लगा पाए। इसी तरह वर्ष 2016-17 में आॅडिट कमिटी, प्रोपर्टी डेवेलपमेंट और आॅपरेशन एवं मेंटेनेंस कमिटी की कुल 7 बैठक हुई हैं। दुर्भाग्य की बात है कि इनमें से एक भी बैठक में दिल्ली सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले अधिकारी उपस्थित नहीं थे। स्वराज इंडिया का आरोप है कि सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को दुरुस्त करने की चिंता तो दूर, अपने बेहतरीन कार्य प्रणाली के लिए मशहूर दिल्ली मेट्रो जैसे संस्थान को भी बर्बाद करने की योजना चल रही है। आम जनता को गुमराह करने के लिए मेट्रो हमें दे दो का नारा लगा रही है। हम चलाकर दिखाएंगे,जैसे फिल्मी डायलॉग मारने वाले मुख्यमंत्री का दिल्ली मेट्रो के प्रति रवैय्या अब उजागर हो गया है। अपने हिस्से का काम करने में अगर दिल्ली सरकार की इतनी खराब स्थिति और परिणाम है तो किस मुंह से मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली मेट्रो के बारे में आज बड़ी-बड़ी बातें करते हैं? स्वराज इंडिया का सवाल है कि क्या मेट्रो रेल पर ध्यान न देने का एक कारण राजधानी दिल्ली में ओला उबर को बढ़ावा देना है? आॅटो परमिट के मामले में भी यह दिखा कि दिल्ली सरकार 10 हजार आॅटो परमिट को किसी न किसी बहाने से लगातार रोकते रही। जब तक कि दिल्ली हाई कोर्ट सख्त नही हुई। क्या मेट्रो के प्रति ऐसा रवैया इसलिए है ताकि निजी परिवहन, फाइनेंसर्स और ओला उबर को फायदा हो?

Related News
64x64

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद जया बच्चन जल्द ही तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम सकती हैं। जया बच्चन का तीसरा राज्यसभा कार्यकाल अप्रैल में खत्म होने जा रहा…

64x64

हैदराबादः आज से हैदराबाद में सूचना प्रौद्योगिकी पर विश्व कांग्रेस (डब्ल्यूसीआईटी) के 22वें संस्करण का आगाज हुआ, पीएम मोदी वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से इसके उद्घाटन किया। डब्ल्यूसीआईटी सोमवार से…

64x64

रायपुर । छत्‍तीसगढ़ के सुकमा जिले में सुरक्षा बलों के साथ हुए मुठभेड़ में 20 से अधिक नक्‍सली मारे गए। इस बात की जानकारी नक्‍सल विरोधी अ‍भियान के विशेष महानिदेशक…

64x64

दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ रही नॉर्थ ईस्ट की स्टूडेंट को जान बचाने के लिए हमलावरों के सामने ‘हे... आई एम गर्ल’ कहना पड़ा। शुक्रवार देर रात मुखर्जी नगर इलाके में…

64x64

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल रात यहां पहुंचे जहां वह विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होंगे तथा जैन तीर्थ केंद्र श्रवण बेलगोला भी जाएंगे। 
मंदाकाली हवाई अड्डे पर उनका स्वागत राज्यपाल…

64x64

पटना । रेलवे भर्ती बोर्ड ने दसवीं कक्षा के साथ आइटीआइ पास अभ्यर्थियों के लिए बंपर वैकेंसी निकाली थी, जिसमें ग्रुप डी के अभ्यर्थियों के लिए अधिकतम उम्रसीमा 28 साल…

64x64

नई दिल्‍ली । कावेरी नदी के पानी के बंटवारे संबंधी सुप्रीम कोर्ट के आदेश ने कर्नाटक में कांग्रेस और मुख्यमंत्री सिद्धरमैया की पौ बारह कर दी है। सुप्रीम कोर्ट ने…

64x64

यूपी में हो रहे ताबड़तोड़ एनकाउंटर्स से सहमे अपराधियों का सरेंडर करने का सिलसिला शुरू हो गया है। योगी सरकार ने जिला पुलिस अध्यक्षों को अपराधियों को मार गिराने के…