By: Sabkikhabar
12-10-2017 07:07

दिल्ली मेट्रो की अहम कमेटियों में दिल्ली सरकार की भागीदारी नगण्य रही है। मेट्रो के प्रबंधन के लिए पिछले दो साल में हुई 15 बैठकों में से 14 में दिल्ली सरकार गैरहाजिर रही है। ये आरोप स्वराज इंडिया ने लगाए हैं। मेट्रो रेल में केंद्र और दिल्ली सरकार की 50-50 भागीदारी है। दिल्ली मेट्रो के प्रबंधन में दिल्ली सरकार की अहम भूमिका होती है।  16 सदस्यीय मेट्रो बोर्ड में भी मेट्रो के 6 पूणर्कालिक निदेशकों के अलावा केंद्र और दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर पांच-पांच निदेशक हैं। लेकिन दिल्ली मेट्रो की सालाना रिपोर्ट से मिली हैरान करने वाली एक जानकारी अत्यंत ही चिंताजनक है। इन तथ्यों से मेट्रो रेल के प्रति दिल्ली सरकार की गंभीरता उजागर होती है। स्वराज इंडिया के मुताबिक पिछले दो वित्त साल में दिल्ली मेट्रो के प्रबंधन के लिए बनी अहम कमेटियों की 15 बैठकें हुई हैं। इनमें से 14 बैठकों में दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि उपस्थित भी नहीं रहे हैं।
वित्त वर्ष 2015-16 में आॅडिट कमिटी, प्रॉपर्टी डेवलपमेंट कमिटी, रेमयुनेरेशन कमिटी और आॅपरेशन एवं मेंटेनेंस की कुल 8 बैठक हुई। इन महत्त्वपूर्ण बैठकों में से सिर्फ एक बैठक में दिल्ली सरकार के प्रतिनिधि अपनी हाजरी लगा पाए। इसी तरह वर्ष 2016-17 में आॅडिट कमिटी, प्रोपर्टी डेवेलपमेंट और आॅपरेशन एवं मेंटेनेंस कमिटी की कुल 7 बैठक हुई हैं। दुर्भाग्य की बात है कि इनमें से एक भी बैठक में दिल्ली सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले अधिकारी उपस्थित नहीं थे। स्वराज इंडिया का आरोप है कि सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को दुरुस्त करने की चिंता तो दूर, अपने बेहतरीन कार्य प्रणाली के लिए मशहूर दिल्ली मेट्रो जैसे संस्थान को भी बर्बाद करने की योजना चल रही है। आम जनता को गुमराह करने के लिए मेट्रो हमें दे दो का नारा लगा रही है। हम चलाकर दिखाएंगे,जैसे फिल्मी डायलॉग मारने वाले मुख्यमंत्री का दिल्ली मेट्रो के प्रति रवैय्या अब उजागर हो गया है। अपने हिस्से का काम करने में अगर दिल्ली सरकार की इतनी खराब स्थिति और परिणाम है तो किस मुंह से मुख्यमंत्री केजरीवाल दिल्ली मेट्रो के बारे में आज बड़ी-बड़ी बातें करते हैं? स्वराज इंडिया का सवाल है कि क्या मेट्रो रेल पर ध्यान न देने का एक कारण राजधानी दिल्ली में ओला उबर को बढ़ावा देना है? आॅटो परमिट के मामले में भी यह दिखा कि दिल्ली सरकार 10 हजार आॅटो परमिट को किसी न किसी बहाने से लगातार रोकते रही। जब तक कि दिल्ली हाई कोर्ट सख्त नही हुई। क्या मेट्रो के प्रति ऐसा रवैया इसलिए है ताकि निजी परिवहन, फाइनेंसर्स और ओला उबर को फायदा हो?

Related News
64x64

उदयपुर: राजस्थान के उदयपुर जिले में जिला प्रशासन ने साम्प्रदायिक सौहार्द बिगडऩे की आशंका के मद्देनजर निषेधाज्ञा लागू कर आज रात आठ बजे से अगले चौबीस घंटे तक इंटरनेट सेवाएं…

64x64

नई दिल्ली । पिछले दिनों जर्मनी के बॉन में हुए जलवायु परिवर्तन सम्मलेन में भारत ने कार्बन उत्सर्जन को कम करने की अपनी प्रतिबद्धिता दोहराई। साथ ही अक्षय ऊर्जा के…

64x64

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के पहलगाम जिले के एक निजी स्कूल में काम करने वाले एक युगल को स्कूल प्रबंधन ने उनकी शादी के दिन बर्खास्त कर दिया है। स्कूल प्रबंधन…

64x64

केरल के जीशा मर्डर केस में कोर्ट ने दोषी को सजा-ए-मौत देने का फैसला सुनाया है। दोषी अमीरुल इस्लाम को आज सजा सुनाने के लिए आज एर्नाकुलम सेशन कोर्ट लाया…

64x64

गुजरात चुनाव में दूसरे और अंतिम चरण की वोटिंग से ऐन पहले एक और बम फूट गया. बीजेपी के एक एमएलए की ऑडियो क्लिप वायरल हो गई है जिसमें उन्होंने…

64x64

चारा घोटाले के एक और मामले में बिहार के दो पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव और जगन्नाथ मिश्र समेत कुल 31 लोगों के भाग्य का फैसला 23 दिसंबर को होगा.…

64x64

नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) ने टोल प्लाजा पर लगे अपने स्टाफ को निर्देश दिया है कि वे लोग टोल से निकलने वाले सेना के सभी जवानों को खड़े…

64x64

अहमदाबाद : गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे और आखिरी चरण के लिए चुनाव प्रचार का शोर मंगलवार को थम गया. 182 में से 93 सीटों के लिए गुरुवार को वोट…