By: Sabkikhabar
12-10-2017 07:07

नागपुर....  इस बाघिन की कहानी हैरान कर देने वाली है। इस बाघिन का एक शिकारी लगातार पीछा करता रहा। इस शिकारी को सख्त आदेश था कि यदि बाघिन हिंसक हो जाए तो उसे उसी वक्त गोली मार दिया जाए। अपने सफर में बाघिन ने दो इंसानों सहित एक-दो मवेशियों का शिकार भी किया। ऐसे में उस पर जान का खतरा मंडरा रहा था। इसके बावजूद वह 500 किलोमीटर का सफर पूरा कर 'घर' लौट आई।

अब पशु प्रेमियों की तरफ से बॉम्बे हाई कोर्ट में बाघिन को मारने के खिलाफ याचिका दायर की गई है। हाई कोर्ट में इसकी बहस पूरी हो चुकी है। गुरुवार को कोर्ट का फैसला आने की उम्मीद है। बहस में कहा गया कि बाघिन ने इंसानों को मारा है। इसके बाद या तो उसे कैद में रखा जाए या फिर उसे गोली मार दी जाए।

बेहद दुर्गम था सफर
दरअसल इस बाघिन को 10 जुलाई को महाराष्ट्र में चंद्रुपर जिले के दक्षिणी ब्रह्मपुरी इलाके से पकड़ा गया था और उसे 29 जुलाई को हिंगानी जिले स्थित बोर टाइगर रिजर्व लाया गया, लेकिन वह वहां टिक नहीं पाई। जैसे ही बाघिन का बोर टाइगर रिजर्व से निकलने का पता चला, फॉरेस्टर्स की एक टीम उसके पीछे लग गई। इस टीम में एक कुशल शिकारी भी था। बाघिन के शरीर पर एक रेडियो कॉलर लगा था जो शिकारी को लगातार बाघिन का लोकेशन दे रहा था।


बोर टाइगर रिजर्व से ब्रह्मपुरी का सफर बाघिन ने यूं तय किया


बाघिन के लिए 500 किलोमीटर का सफर बेहद दुर्गम था। यह उसके करीब 76 दिनों में पूरा किया। इस रास्ते में कई मैदान, जंगल, पहाड़ियां, नदी-नाले, ऊंची घासों के बीच बने कई दलदल, तमाम सड़कें पड़ती हैं। हैरानी की बात यह है कि रास्ते में व्यस्त 4 लेन का एनएच 6 दो बार पार करना पड़ता है। बाघिन यह कठिन रास्ते पार करके ब्रह्मपुरी लौट आई।

इस सफर में भूख मिटाने के लिए बाघिन ने मवेशी, छोटे शिकार और दो व्यक्तियों को मारा। यह सब फॉरेस्टर्स की एक टीम जो बाघिन का पीछा कर रही थी, उन्होंने मॉनिटर किया। टीम में एक प्रशिक्षित शिकारी भी था जिसने बाघिन को मारने का आदेश दिया था।

इंसानों की जान को खतरा
बाघिन को 10 जुलाई को दक्षिणी ब्रह्मपुरी से पकड़ा गया था क्योंकि वहां उससे कई इंसानों की जान को खतरा था। उसे बोर के जंगलों में दूसरे बाघों के साथ 29 जुलाई को छोड़ दिया गया था। उम्मीद थी कि बाघिन दिए जाने वाले पशु खाएगी और जंगल को ही अपना घर बना लेगी। इससे इंसान की जान को खतरा नहीं होगा। कुछ दिनों बाद यह बाघिन बिना आराम किए बोर के नवरगांव विलेज से वापस आ गई।

Related News
64x64

बेंगलुरु: बेंगलुरु में सोमवार सुबह एक बड़ा हादसा हुआ। शहर के एजिपुरा इलाके में स्थित एक घर में रसोई गैस सिलेंडर में ब्लास्ट हो गया। ब्‍लास्‍ट इतना जबरदस्‍त था कि…

64x64

इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। बाबर, अकबर और औरंगजेब जैसे जो लोग देश के गद्दार थे उन्हें इतिहास में महापुरुष बनाकर पेश किया गया, लेकिन अब…

64x64

देश के सबसे घातक वॉरशिप आईएनएस किल्टन को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा की उपस्थिति में भारतीय नौसेना में कमीशन किया गया है। दुश्मनों की…

64x64

19 साल की युवती के साथ रेप केस में गिरफ्तार हुए 49 साल के जैन मुनि शांतिसागर महाराज को लाजपोर जेल भेजा गया है. यहां कल पहली बार उनकी सलाखों…

64x64

नई दिल्लीः पू्र्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के कार्यक्रम में यूपीए 2 सरकार के दौरान केंद्रीय मंत्री रहते हुए की गई अपनी एक गलती के बारे…

64x64

नई दिल्ली... भारतीय सेना अभी तक नए आधुनिक हथियार और उपकरण की बुनियादी सुविधाओं तक से वंचित है। सैनिकों के प्रयोग करने वाले राइफल, स्नाइपर गन से लेकर हल्के वजन…

64x64

पटना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पटना यात्रा के अगले दिन रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनकी दिल खोलकर तारीफ की। उन्हें साहसी और फ्रंट से लीड करने वाला पीएम…

64x64

पंचकूला हिंसा में शामिल होने के आरोप में आज फिर पुलिस डेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपासना इंसान से पूछताछ कर सकती है। जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार की गई हनीप्रीत…