By: Sabkikhabar
11-10-2017 08:25

सांता रोजा। अमेरिका के उत्तरी कैलिफोर्निया के जंगलों में सोमवार को फिर भीषण आग लग गई है। तेज हवाओं के चलते आग तेजी से फैलती जा रही है। आग इतनी भयानक है कि डिज्नीलैंड के कैलिफोर्निया एडवेंचर पार्क के ऊपर का आसमान नारंगी रंग का हो गया।
आग से अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 1500 से अधिक मकान खाक हो चुके हैं। करीब 20 हजार लोगों को पलायन करना पड़ा है। कई लोग लापता हैं। मृतकों में 99 और 100 साल का एक दंपती भी शामिल है। 100 से अधिक लोग घायल हैं।
प्रांत में आग लगने की बीते एक दशक की यह सबसे भयावह घटना बताई जा रही है। कैलिफोर्निया डिपार्टमेंट ऑफ फॉरेस्ट्री एंड प्रोटेक्शन के मुताबिक, इस साल जंगलों में आग के 7,484 मामले सामने आए, जिसमें 7.71 एकड़ इलाका जल गया। पांच काउंटी में आपात स्थिति की घोषणा कैलिफोर्निया के गवर्नर जेरी ब्राउन ने वाइन, नेपा, सोनोमा, यूबा और ऑरेंज काउंटी में आपात स्थिति की घोषणा कर दी है।
उन्होंने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से राहत और बचाव कार्य में मदद का आग्रह किया है। कैलिफोर्निया के वन विभाग के अनुसार, सबसे ज्यादा नुकसान सांता रोजा में हुआ है। आग की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि लपटों को अंतरिक्ष से भी देखा गया है।
नेशनल ओशनिक एंड एटमॉसफेरिक एडमिनिस्ट्रेशन ने सैटेलाइट से आग देखे जाने की सूचना दी। कैलिफोर्निया में अग्निशमन विभाग के प्रवक्ता डेनियल बर्लेंट के अनुसार, उत्तरी कैलिफोर्निया के जंगलों में रविवार देर रात आग भड़की। इस दौरान 80 किमी घंटे की गति से चल रहीं तेज हवाओं के चलते आग 73 हजार एकड़ के दायरे में फैल गई। इसे बुझाने के लिए सैकड़ों दमकलकर्मी सोमवार को जूझते रहे। सोनोमा काउंटी के दो अस्पतालों को भी खाली कराना पड़ा है।
दुनिया का एकमात्र विमान 747 सुपर टैंकर बुझा सकता है आग
कैलिफोर्निया के जंगलों में लगी आग को दुनिया का एकमात्र विमान 747 सुपर टैंकर ही बुझा सकता है। यह एक बार में 75 हजार लीटर से अधिक (20 हजार गैलन) पानी गिरा सकता है। कैलिफोर्निया प्रशासन इस विमान की मदद से आग से निपटने की कोशिश कर रहा है।
सोमवार को इसने आग के ऊपर छह चक्कर लगाकर पानी गिराया। दिलचस्प बात यह है कि सुपर टैंकर को जेल, फोम और पानी से महज 30 मिनट में भरा जा सकता है और यह 600 मील प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है।
इसलिए अक्सर लगती है आग
कैलिफोर्निया के दक्षिणी तट से चलने वाली अत्यधिक सूखी हवा के कारण यहां अक्सर आग लगती है। यह सूखी हवा अत्यधिक गर्म होती है। इसी से सूखे जंगलों में आग लग जाती है। विशेषज्ञों के मुताबिक, हवा की रफ्तार तेज होने पर घर्षण से निकली हर चिंगारी शोला बन जाती है।
 
 

Related News
64x64

भोपाल। बीते गुरुवार रात्रि को एक युवक की सर पर पत्थर मारकर हत्या करने के मामले में हबीबगंज पुलिस ने 48 घंटे के अंदर ही आरोपी को गिरफ्तार करने में…

64x64

बिहार में फिल्म पद्मावत की रिलीज पर संशय बरकरार है. ईटीवी से बात करते हुए संस्कृति मंत्री के के ऋषि ने कहा कि फिलहाल कोई फैसला नहीं लिया गया है.…

64x64

भरनो (गुमला)। लापुंग के घघारी धाम से मकर संक्रांति मेला देखकर ऑटो से लौट रहे 12 लोगों की रविवार रात एक बालू लदे ट्रक की टक्कर से मौत हो गई।…

64x64

टीकमगढ़। सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों में बेहतर शिक्षा के लिए प्रदेश सरकार द्वारा अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के छात्रों को दी जा रही छात्रवृत्ति में बड़ा घोटाला सामने आया है।…

64x64

रत्न एवं आभूषण उद्योग ने सरकार से आगामी बजट में सोने पर आयात शुल्क की दर को घटाकर चार प्रतिशत करने की मांग की है। इसके अलावा उद्योग ने माल…

64x64

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि अगर चीन ताकतवर है, तो हम भी कमजोर नहीं हैं। इसके अलावा पाकिस्तान के मुद्दे पर जनरल रावत ने कहा कि…

64x64

भोपाल। स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस पर कल शुक्रवार को मध्य प्रदेश में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया है। राज्य स्तरीय समारोह भोपाल के लाल परेड मैदान में…

64x64

नई दिल्‍ली: पिछले साल 'तुम्‍हारी सुलु' बनी नजर आईं विद्या बालन अब पर्दे पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का किरदार करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. विद्या बालन, पत्रकार-लेखक…