By: Sabkikhabar
12-08-2017 08:33

रायपुर। अकर्मण्य, लापरवाह और भ्रष्टाचार में लिप्त रहने वाले राज्य सरकार के कई अफसरों-कर्मचारियों को नौकरी से बाहर का रास्ता देखना होगा। दरअसल, आईएएस-आईपीएस अफसरों के बाद, अब राज्य सेवा के अफसरों और कर्मचारियों की सर्विस का रिव्यू शुरू कर दिया गया है। समझा जाता है कि इसी महीने के अंत तक अधिकांश विभागों में 20 साल की सेवा या 50 साल की आयु पूरी कर चुके ऐसे अधिकारियों-कर्मचारियों पर गाज गिरे बिना नहीं रहेगी।

मुख्य सचिव ने कमेटियों को दिया निर्देश

पुलिस और स्वास्थ्य महकमे सहित कई और विभागों में सर्विस रिव्यू पूरा हो चुका है। रिटायर किए जाने वाले अफसरों-कर्मचारियों की सूची फाइनल की जा रही है। राज्य सेवा के अधिकारियों में पहली कार्रवाई विभागाध्यक्ष के स्तर पर होगी।

मुख्य सचिव विवेक ढांड ने विभागाध्यक्षों की सर्विस रिव्यू के लिए बनाई गई कमेटियों को निर्देश दिया है कि 18 अगस्त तक वह अपनी रिपोर्ट अवश्य सौंप दें। इसी महीने भ्रष्टाचार के आरोपी कई विभाग प्रमुखों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने की तैयारी है। चार दिनों में दो आईपीएस और दो आईएएस अफसरों की बर्खास्तगी से राज्य सेवा के अफसरों और कर्मचारियों में भी हड़कंप मचा है।

कर्मचारियों में मची खलबली

कर्मचारियों में खासी खलबली है। वह दबी जबान से रिव्यू का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि रिव्यू के बहाने अफसर मनमानी कर रहे हैं। हालांकि अफसरों का कहना है कि मनमानी का सवाल ही नहीं उठता। 20 साल का सीआर देखने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

जिनका सीआर खराब होगा, उन्हीं की नौकरी जाएगी। अफसरों कर्मचारियों के रिव्यू के लिए जिला स्तर तक कमेटियों का गठन किया गया है। प्रदेश के सभी जिलों में अकर्मण्य और भ्रष्ट बाबुओं को घर बिठाने की तैयारी है।

पुलिस अमले में करीब 50 होंगे सेवा से निवृत्त

गृह विभाग के अफसरों ने बताया कि पुलिस की रिव्यू रिपोर्ट बन चुकी है। सूची मुख्यमंत्री के अनुमोदन के लिए गई है। वहां से लौटते ही आदेश जारी हो जाएंगे।

बताया गया है कि पुलिस में एएसपी और डीएसपी रैंक के 5, इंस्पेक्टर रैंक के करीब 10 और सब इंस्पेक्टर तथा एसआई रैंक के 25 से 30 अफसर-कर्मियों की नौकरी जाएगी। गृह विभाग में कुल मिलाकर 50 लोगों को रिटायर किया जाना है।

निचले स्तर तक हो रही पड़ताल

राज्य सेवा के तृतीय वर्ग तक के कर्मचारियों का 20 साल का सर्विस रिकार्ड खंगाला जा रहा है। इससे छोटे कर्मचारी बेहद परेशान हैं। पहली बार हो रही इस कार्रवाई से ऐसे कर्मचारी चिंतित हैं जो किसी न किसी मामले में फंसे हैं। जिलों में कलेक्टर और विभागों के जिला प्रमुखों की कमेटी कर्मचारियों का रिव्यू कर रही है।
 

Related News
64x64

कांकेर । छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में महाराष्ट्र की सीमा से सटे एक गांव के युवक की नक्सलियों ने अपहरण करने के बाद हत्या कर दी। मिली जानकारी के मुताबिक…

64x64

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कल विश्व युवा कौशल विकास दिवस के अवसर पर राजधानी रायपुर के इंडोर स्टेडियम में छत्तीसगढ़ कौशल ओलंपियाड 2018 के पुरस्कार वितरण समारोह में छत्तीसगढ़…

64x64

चारामा, कांकेर । तेज रफ्तार बस ने सड़क के किनारे खड़े दो युवकों को रौंद दिया। इस हादसे में दोनों युवकों की मौत हो गई, वहीं बस में सवार 25…

64x64

विश्व युवा कौशल विकास दिवस के अवसर पर आयोजित कौशल विकास प्रदर्शनी में रायपुर सहित प्रदेश के सभी पांच राजस्व संभागों के जिलों में युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए…

64x64

रायपुर। राज्य के स्कूलों में कितना मध्यान्ह भोजन (मिड डे मील) परोसा जा रहा है, इसकी जानकारी स्कूल नहीं दे रहे हैं। 42 हजार 904 स्कूलों में सिर्फ तीन हजार…

64x64

 केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री पीयूष गोयल आज रात यहां मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ व्यापार और उद्योग जगत के प्रतिनिधियों से चर्चा के लिए आयोजित संवाद कार्यक्रम में शामिल…

64x64

रायपुर। त्रेता युग के श्रवण कुमार का सम्मान तो नहीं हो पाया था, लेकिन रविवार शाम मैग्नेटो मॉल में कलयुग के श्रवण कुमार का सम्मान बुजुर्गों की चौपाल नामक संस्था…

64x64

 मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि आने वाले समय में बस्तर में स्थापित हो रहा नगरनार स्टील प्लांट बस्तर के विकास की नई इबातर लिखेगा। उन्होंने कहा कि…