By: Sabkikhabar
12-08-2017 08:33

रायपुर। अकर्मण्य, लापरवाह और भ्रष्टाचार में लिप्त रहने वाले राज्य सरकार के कई अफसरों-कर्मचारियों को नौकरी से बाहर का रास्ता देखना होगा। दरअसल, आईएएस-आईपीएस अफसरों के बाद, अब राज्य सेवा के अफसरों और कर्मचारियों की सर्विस का रिव्यू शुरू कर दिया गया है। समझा जाता है कि इसी महीने के अंत तक अधिकांश विभागों में 20 साल की सेवा या 50 साल की आयु पूरी कर चुके ऐसे अधिकारियों-कर्मचारियों पर गाज गिरे बिना नहीं रहेगी।

मुख्य सचिव ने कमेटियों को दिया निर्देश

पुलिस और स्वास्थ्य महकमे सहित कई और विभागों में सर्विस रिव्यू पूरा हो चुका है। रिटायर किए जाने वाले अफसरों-कर्मचारियों की सूची फाइनल की जा रही है। राज्य सेवा के अधिकारियों में पहली कार्रवाई विभागाध्यक्ष के स्तर पर होगी।

मुख्य सचिव विवेक ढांड ने विभागाध्यक्षों की सर्विस रिव्यू के लिए बनाई गई कमेटियों को निर्देश दिया है कि 18 अगस्त तक वह अपनी रिपोर्ट अवश्य सौंप दें। इसी महीने भ्रष्टाचार के आरोपी कई विभाग प्रमुखों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने की तैयारी है। चार दिनों में दो आईपीएस और दो आईएएस अफसरों की बर्खास्तगी से राज्य सेवा के अफसरों और कर्मचारियों में भी हड़कंप मचा है।

कर्मचारियों में मची खलबली

कर्मचारियों में खासी खलबली है। वह दबी जबान से रिव्यू का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि रिव्यू के बहाने अफसर मनमानी कर रहे हैं। हालांकि अफसरों का कहना है कि मनमानी का सवाल ही नहीं उठता। 20 साल का सीआर देखने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

जिनका सीआर खराब होगा, उन्हीं की नौकरी जाएगी। अफसरों कर्मचारियों के रिव्यू के लिए जिला स्तर तक कमेटियों का गठन किया गया है। प्रदेश के सभी जिलों में अकर्मण्य और भ्रष्ट बाबुओं को घर बिठाने की तैयारी है।

पुलिस अमले में करीब 50 होंगे सेवा से निवृत्त

गृह विभाग के अफसरों ने बताया कि पुलिस की रिव्यू रिपोर्ट बन चुकी है। सूची मुख्यमंत्री के अनुमोदन के लिए गई है। वहां से लौटते ही आदेश जारी हो जाएंगे।

बताया गया है कि पुलिस में एएसपी और डीएसपी रैंक के 5, इंस्पेक्टर रैंक के करीब 10 और सब इंस्पेक्टर तथा एसआई रैंक के 25 से 30 अफसर-कर्मियों की नौकरी जाएगी। गृह विभाग में कुल मिलाकर 50 लोगों को रिटायर किया जाना है।

निचले स्तर तक हो रही पड़ताल

राज्य सेवा के तृतीय वर्ग तक के कर्मचारियों का 20 साल का सर्विस रिकार्ड खंगाला जा रहा है। इससे छोटे कर्मचारी बेहद परेशान हैं। पहली बार हो रही इस कार्रवाई से ऐसे कर्मचारी चिंतित हैं जो किसी न किसी मामले में फंसे हैं। जिलों में कलेक्टर और विभागों के जिला प्रमुखों की कमेटी कर्मचारियों का रिव्यू कर रही है।
 

Related News
64x64

जगदलपुर । ओडिशा से सटे ग्राम पंचायत सौतनार के आश्रित गांव नामा के टंगिया दलम ने नक्सलियों से लोहा लेने का मन बना लिया है। मुखिया सामनाथ की नृशंस हत्या…

64x64

बिलासपुर। जिला व जनपद पंचायत के अफसरों की लापरवाही के चलते जिले के दो हजार आवासहीन गरीब हितग्राहियों के सामने आवास का संकट खड़ा हो गया है। दरअसल इंदिरा आवास…

64x64

रायुपर। छत्तीसगढ़ जूनियर टीम कबड्डी कोच और मैनेजर की लापरवाही से कटक में खेली जा रही नेशनल जूनियर कबड्डी चैंपियनशिप से प्रदेश की बालक वर्ग की टीम बाहर हो गई।…

64x64

बिलासपुर। रेलकर्मी रिटायरमेंट के बाद अब 5 साल संविदा में नौकरी कर सकेंगे। रेलवे बोर्ड ने संविदा का कार्यकाल तीन साल बढ़ा दिया है। हालांकि संविदा नियुक्ति तब होगी जब…

64x64

अंबिकापुर । जिले के पत्थलगांव से बनारस जाने वाले दो ट्रकों को कोतवाली पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक दोनों ट्रकों में मवेशियों को…

64x64

रायपुर । नक्सलियों के खिलाफ की गई कार्रवाई में सुरक्षा बलों का बड़ी सफलता मिली है। सुरक्षा बलों ने छत्तीसगढ़ और तेलंगाना सीमा पर स्थित भद्राद्री जिले की गंगाराम पंचायत…

64x64

रायगढ़ । जिले में सीएएफ की छठवीं बटालियन के एक वाहन में गुरुवार को अचानक आग लग गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आग बहुत ज्यादा भीषण थी, ऐसे…

64x64

जगदलपुर। कहते हैं कि डूबते को तिनका ही सहारा। लेकिन यहां तो ग्यारह साल के कृष्णा की बहादुरी को दाद देनी होगी। छह फीट गहरे गड्ढे में डूब रही बच्ची…