By: Sabkikhabar
19-06-2017 09:17
इंदौर। आजादी मिले 70 साल होने को आए लेकिन देश में किसानों के लिए अब तक कोई पुख्ता सिस्टम विकसित नहीं हो पाया है। केंद्र से लेकर राज्य तक किसानों के लिए योजनाओं की कमी नहीं है लेकिन इनकी जानकारी और सीधा लाभ किसानों तक आसानी से नहीं पहुंच पाता। ग्रेडिंग की व्यवस्था नहीं फसल के दाम तय होने में उसकी गुणवत्ता अहम मुद्दा होती है। मंडी या बाजार से व्यापारी कम दाम पर अनाज खरीदता है इसकी ग्रेडिंग करता है और क्वालिटी का माल बना कर उसकी पैकिंग करता है और ऊंचे दाम पर बेच देता है। एक क्विंटल फसल की ग्रेडिंग का खर्च सिर्फ 100 रुपए आता है। किसान अगर यह कर ले तो उसकी फसल का भाव 200 से 300 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ सकता है। लेकिन ग्रेडिंग करने वाली मशीनों का खर्च किसानों के बस की बात नहीं है। जानकारी का सिस्टम नहीं हाल ही में मालवा में बारिश हुई और किसानों ने सोयाबीन की बोवनी कर दी। लेकिन अब आसमान से बादल गायब हैं और किसान भगवान भरोसे। यदि किसानों को मौसम की सटीक जानकारी दी जाती तो वह इस संकट से बच सकते थे। लेकिन अब तक हमारे पास मानसून की सूचना साझा करने वाला मजबूत सिस्टम नहीं है । संकट में तुरंत मदद नहीं किसान समय पर नुकसान से उबर पाए इसके लिए जरूरी है कि संकट की घड़ी में उसे तुरंत मदद मिले। किसानों को तुरंत राहत मिले ऐसा तंत्र हम अब तक खड़ा नहीं कर पाए हैं। बीमा योजना के नाम का एक झुनझुना हमेशा थमाया जाता है। ये भी कारगर नहीं है। पाला पड़ने से एक किसान की फसल खराब हो गई। उसने जब बीमा के लिए आवेदन दिया तो जवाब मिला कि सिर्फ जल भराव और मिट्टी कटाव से हुए नुकसान का बीमा दे सकते हैं। किसान को क्या चाहिए -खेतों तक जाने के लिए बारह मासी सड़कें जरूरी हैं। किसान बारिश में सब्जी खेत से घर ला सकेगा तभी बाजार में बिकेगी। -बीज,खाद और यंत्र पर मिलने वाली सबसिडी तुरंत मिले। -मंडी में किसानों को त्वरित पेमेंट की व्यवस्था होनी चाहिए। व्यापारी किसानों को चेक देते हैें इससे रकम खाते में आने में 2 दिन का समय लग जाता है। - यंत्रों के उपयोग का सहकारी सिस्टम विकसित करना होगा। इससे खेती की लागत घटेगी।
Related News
64x64

भोपाल। अभी बिजली के बिल का ऑनस्पॉट बिल तो मिलने लगा है, लेकिन ऑनलाइन भुगतान करने के लिए कंज्यूमर्स को पांच से सात दिन का इंतजार करना होता है। कारण…

64x64

भोपाल। महिला एवं बाल विकास विभाग 'न्यूट्रीशन स्मार्ट विलेज' योजना लेकर आ रहा है। इसके तहत कुपोषण दूर करने ग्रामीण क्षेत्रों में किचन गार्डन तैयार कराए जाएंगे। इनमें जैविक सब्जी…

64x64

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज नदी बचाओ अभियान के अंतर्गत यात्रा निकाल रहे सदगुरु  जग्गी वासुदेव महाराज के साथ विदिशा पहुंचे। इस दौरान सीएम चौहान की धर्मपत्नी साधना सिंह…

64x64

भोपाल। मध्यप्रदेश के सभी छह टाइगर रिजर्व, नेशनल पार्क और अभयारण्य एक अक्टूबर से पर्यटकों के लिए खुल जाएंगे। पार्क खुलने से पहले ही कान्हा और बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में…

64x64

भोपाल। राजधानी भोपाल के जहांगीराबाद इलाके में पुलिस ने तीन ऐसे आरोपियों को गिरफ्तार किया है जो इलाके में चोरी करने की योजना बना रहे थे। आरोपियों से पूछताछ में…

64x64

भोपाल। प्रदेश सरकार ने विकास की गति को बढ़ाने के लिए बाजार से एक बार फिर कर्ज लिया है। पिछले सप्ताह दो हजार करोड़ रुपए भारतीय रिजर्व बैंक के जरिए…

64x64

भोपाल। राजधानी भोपाल के अयोध्या नगर थाना क्षेत्र स्थित सुरभी हाइट्स मल्टी की सातवीं मंजिल से नीचे गिरने के कारण एक प्लम्बर की मौत हो गई। हादसे के समय मृतक…

64x64

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार शहरी क्षेत्रों में पीने के लिए बांधों से लिया जाने वाला पानी नगरीय निकायों को नि:शुल्क देगी। इसके साथ ही निकायों पर जल संसाधन विभाग के बकाया…