By: Sabkikhabar
19-06-2017 09:02
रायपुर। पांच दिन के भीतर दो किसानों की खुदकुशी की इन घटनाओं के साथ ही छत्तीसगढ़ में किसानों के कर्ज का मुद्दा अब सुलगने लगा है। सरकारी दावों के विपरीत राज्य के छोटे और सीमांत किसान कर्ज के बोझ तले दबे पड़े हैं। किसान नेताओं का कहना है कि सरकारी योजनाओं का लाभ सभी किसानों को नहीं मिलता। ऐसे में उन्हें बाजार, परिचितों या साहूकारों से कर्ज लेना पड़ता है। यही कर्ज उन पर भारी पड़ रहा है। इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो खुदकुशी के आंकड़े बढ़ते जाएंगे। सरकारी आंकड़ों के अनुसार राज्य में 37.46 लाख किसान हैं। इनमें 76 फीसदी लघु व सीमांत श्रेणी में आते हैं। नाबार्ड में पंजीकृत किसानों की संख्या 10 लाख 50 हजार है। मापदंडों के अनुसार केवल इन्हीं किसानों को शून्य फीसदी ब्याज पर कृषि ऋण मिल पाता है। यानी करीब 27 लाख किसान सरकारी ऋण योजना के दायरे से बाहर हैं। ऐसे किसान खुले बाजार या दूसरों से कर्ज लेते हैं। अल्पकालीन लोन ही ब्याज मुक्त किसान नेता संकेत ठाकुर के अनुसार सरकार किसानों को ब्याज मुक्त लोन देती है। यह अल्पकालीन ऋण है, जो खेती करने के लिए दी जाती है, वह भी नाबार्ड में पंजीकृत किसानों को ही दिया जाता है। यह ऋण खाद- बीज आदि खरीदने के लिए दिया जाता है। ट्रैक्टर, कृषि उपकरण सहित अन्य कामों के लिए उन्हें बाजार दर पर कर्ज लेना पड़ता है। निजी बैंकों के हवाले किसान किसान नेताओं के अनुसार खाद-बीज के अलावा अन्य जरूरतों के लिए न केवल छोटे बल्कि बड़े किसान भी निजी बैंकों के हवाले कर दिए गए हैं। जहां ट्रैक्टर सहित अन्य उपकरणों की खरीदी में उन्हें कोई राहत नहीं मिलती। बैंक सामान्य दर पर ही फाइनेंस करते हैं। इसी वजह से सरकार के पास इसका कोई रिकॉर्ड भी नहीं रहता है। खरीफ सीजन में 3200 करोड़ देने की तैयारी सरकार ने खरीफ सीजन में किसानों को 3 हजार 200 करोड़ स्र्पए का ब्याज मुक्त ऋ ण देने का लक्ष्य रखा है। इनका कहना है छत्तीसगढ़ के किसान लोन चुकाने के मामले में दूसरे राज्यों के किसानों से बेहतर हैं। यहां 80 से 85 फीसदी तक लोन किसान लौटा देते हैं। इसकी बड़ी वजह यह है कि यहां पैदावार अच्छी होती है और सरकार जीरो फीसदी ब्याज दर पर लोन उपलब्ध कराती है। मौसम की मार जैसी प्रतिकूल परिस्थिति में ही उन्हें दिक्कत होती है। इसके बावजूद कर्ज वसूली के लिए बैंक तंग नहीं करते।
Related News
64x64

जगदलपुर । ओडिशा से सटे ग्राम पंचायत सौतनार के आश्रित गांव नामा के टंगिया दलम ने नक्सलियों से लोहा लेने का मन बना लिया है। मुखिया सामनाथ की नृशंस हत्या…

64x64

बिलासपुर। जिला व जनपद पंचायत के अफसरों की लापरवाही के चलते जिले के दो हजार आवासहीन गरीब हितग्राहियों के सामने आवास का संकट खड़ा हो गया है। दरअसल इंदिरा आवास…

64x64

रायुपर। छत्तीसगढ़ जूनियर टीम कबड्डी कोच और मैनेजर की लापरवाही से कटक में खेली जा रही नेशनल जूनियर कबड्डी चैंपियनशिप से प्रदेश की बालक वर्ग की टीम बाहर हो गई।…

64x64

बिलासपुर। रेलकर्मी रिटायरमेंट के बाद अब 5 साल संविदा में नौकरी कर सकेंगे। रेलवे बोर्ड ने संविदा का कार्यकाल तीन साल बढ़ा दिया है। हालांकि संविदा नियुक्ति तब होगी जब…

64x64

अंबिकापुर । जिले के पत्थलगांव से बनारस जाने वाले दो ट्रकों को कोतवाली पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक दोनों ट्रकों में मवेशियों को…

64x64

रायपुर । नक्सलियों के खिलाफ की गई कार्रवाई में सुरक्षा बलों का बड़ी सफलता मिली है। सुरक्षा बलों ने छत्तीसगढ़ और तेलंगाना सीमा पर स्थित भद्राद्री जिले की गंगाराम पंचायत…

64x64

रायगढ़ । जिले में सीएएफ की छठवीं बटालियन के एक वाहन में गुरुवार को अचानक आग लग गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आग बहुत ज्यादा भीषण थी, ऐसे…

64x64

जगदलपुर। कहते हैं कि डूबते को तिनका ही सहारा। लेकिन यहां तो ग्यारह साल के कृष्णा की बहादुरी को दाद देनी होगी। छह फीट गहरे गड्ढे में डूब रही बच्ची…