By: Sabkikhabar
19-06-2017 09:02
रायपुर। पांच दिन के भीतर दो किसानों की खुदकुशी की इन घटनाओं के साथ ही छत्तीसगढ़ में किसानों के कर्ज का मुद्दा अब सुलगने लगा है। सरकारी दावों के विपरीत राज्य के छोटे और सीमांत किसान कर्ज के बोझ तले दबे पड़े हैं। किसान नेताओं का कहना है कि सरकारी योजनाओं का लाभ सभी किसानों को नहीं मिलता। ऐसे में उन्हें बाजार, परिचितों या साहूकारों से कर्ज लेना पड़ता है। यही कर्ज उन पर भारी पड़ रहा है। इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो खुदकुशी के आंकड़े बढ़ते जाएंगे। सरकारी आंकड़ों के अनुसार राज्य में 37.46 लाख किसान हैं। इनमें 76 फीसदी लघु व सीमांत श्रेणी में आते हैं। नाबार्ड में पंजीकृत किसानों की संख्या 10 लाख 50 हजार है। मापदंडों के अनुसार केवल इन्हीं किसानों को शून्य फीसदी ब्याज पर कृषि ऋण मिल पाता है। यानी करीब 27 लाख किसान सरकारी ऋण योजना के दायरे से बाहर हैं। ऐसे किसान खुले बाजार या दूसरों से कर्ज लेते हैं। अल्पकालीन लोन ही ब्याज मुक्त किसान नेता संकेत ठाकुर के अनुसार सरकार किसानों को ब्याज मुक्त लोन देती है। यह अल्पकालीन ऋण है, जो खेती करने के लिए दी जाती है, वह भी नाबार्ड में पंजीकृत किसानों को ही दिया जाता है। यह ऋण खाद- बीज आदि खरीदने के लिए दिया जाता है। ट्रैक्टर, कृषि उपकरण सहित अन्य कामों के लिए उन्हें बाजार दर पर कर्ज लेना पड़ता है। निजी बैंकों के हवाले किसान किसान नेताओं के अनुसार खाद-बीज के अलावा अन्य जरूरतों के लिए न केवल छोटे बल्कि बड़े किसान भी निजी बैंकों के हवाले कर दिए गए हैं। जहां ट्रैक्टर सहित अन्य उपकरणों की खरीदी में उन्हें कोई राहत नहीं मिलती। बैंक सामान्य दर पर ही फाइनेंस करते हैं। इसी वजह से सरकार के पास इसका कोई रिकॉर्ड भी नहीं रहता है। खरीफ सीजन में 3200 करोड़ देने की तैयारी सरकार ने खरीफ सीजन में किसानों को 3 हजार 200 करोड़ स्र्पए का ब्याज मुक्त ऋ ण देने का लक्ष्य रखा है। इनका कहना है छत्तीसगढ़ के किसान लोन चुकाने के मामले में दूसरे राज्यों के किसानों से बेहतर हैं। यहां 80 से 85 फीसदी तक लोन किसान लौटा देते हैं। इसकी बड़ी वजह यह है कि यहां पैदावार अच्छी होती है और सरकार जीरो फीसदी ब्याज दर पर लोन उपलब्ध कराती है। मौसम की मार जैसी प्रतिकूल परिस्थिति में ही उन्हें दिक्कत होती है। इसके बावजूद कर्ज वसूली के लिए बैंक तंग नहीं करते।
Related News
64x64

जांजगीर-चांपा। नैला के पवन इलेक्ट्रिकल्स में कार्रवाई करत हुए क्राइम ब्रांच में सोमवार को लगभग 50 क्विंटल पटाखे जब्त किए। व्यवसायी ने ये पटाखे अपनी दुकान के पीछे के कमरों…

64x64

रायपुर। राजधानी में लोगों के स्वास्थ्य के साथ लगातार खिलवाड़ की जा रही है। हर 100 चीजों में से 50 मिलावटी निकल रहे हैं। एक बार फिर दीपावली पर मिटावटखोरों…

64x64

रायपुर। पेट्रोल-डीजल और दूसरे पेट्रोलियम पदार्थों पर वैट अधिक रखकर सरकार अपना खजाना भरने में लगी है और जनता की जेब काटी जा रही है। नोटबंदी और जीएसटी के बाद…

64x64

अम्बिकापुर। शहर के पुराना अभिनव टाकीज के पीछे रसूलपुर में एक लकड़ी मिल में भीषण आग लग गई। घटना तड़के हुई। कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

64x64

चिरमिरी में दिवाली से पहले शासकीय उचित मूल्य की दुकानों से खाद्य अधिकारी की वसूली की कलेक्टर से हुई शिकायत :संचालको ने लगाया पैसा मागने का आरोप

चिरमिरी चिरमिरी…

64x64

रायपुर ,‘राजनीति’ का अर्थ है, राज करने की नीति व नियम। परंतु क्या आज के परिदृश्य में राजनीति में कोई नियम हैं? शायद नहीं! आज के मौजूदा हालात में, “येन…

64x64

नेत्री को छत्तीसगढ़ राज्य में बस्तर के नक्सलियों की आँखें निकालनी चाहिए जो वहाँ हमारे निर्दोष जनता, नेता और वीर जवानों को छल से मार रहे हैं।भंसाली

रायपुर ,…

64x64

रायगढ़। कोतरा रोड थाना क्षेत्र के सरायपाली में सुबह एक बच्ची की रोने की आवाज ने लोगों को बैचेन कर दिया। महज कुछ ही घंटे पहले जन्मीं इस बच्ची को…