By: Sabkikhabar
19-06-2017 07:15
दिल्ली के एक अस्पताल ने एक नवजात को कथित तौर पर मृत घोषित कर दिया. जब अंतिम संस्कार करने क् लिए उसे ले जाया जा रहा था तो उसे जिंदा पाया गया. जब पिता को पता चला कि बच्चा जिंदा है तो उन्होंने तुरंत पीसीआर को फोन किया गया और बच्चे को अपोलो अस्पताल भेजा. जहां से उसे फिर सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया. ये था पूरा मामला दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में एक महिला ने सोमवार सुबह एक शिशु को जन्म दिया. अस्पताल के कर्मचारियों को बच्चे में कोई हरकत नजर नहीं आई. बच्चे के पिता रोहित ने कहा, डॉक्टर ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया था. उन्होंने बच्चे को अंतिम संस्कार के लिए उन्हें दे दिया. जब परिवार सदस्य बच्चे को लेकर घर आए और अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी तो अचानक रोहित की बहन ने बच्चे में कुछ हरकत महसूस की. जब उसे खोला गया तो बच्चे की धड़कन चल रही थी और वह हाथ पैर चला रहा था. पुलिस अधिकारी ने पहले बताया कि बच्चे की मौत हो गई. पर बाद में कहा कि अस्पताल में ऐसा ही एक दूसरा मामला हुआ था जिसकी वजह से ये गलती हो गई. बता दें कि मां की हालत ठीक नहीं थी तो वह अस्पताल में ही भर्ती थी. जब पिता को पता चला कि बच्चा जिंदा है तो उन्होंने तुरंत पीसीआर को फोन किया गया और बच्चे को अपोलो अस्पताल भेजा. जहां से उसे फिर सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया. परिजनों ने खटकटाया पुलिस का दरवाजा इस मामले को लेकर परिवार वालों ने पुलिस का दरवाजा खटखटाया है. इस पर रोहित ने कहा, वे इतने गैर जिम्मेदार कैसे हो सकते हैं और जिंदा बच्चे को मृत घोषित कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि अगर हमने समय रहते वो पैक को नहीं खोला होता तो मेरा बच्चा वास्तव में मर गया होता. हमें सच्चाई कभी पता नहीं चलती. ये अस्पताल की तरफ से बहुत ही बड़ी लापरवाही है. इसके दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए. जांच के दिए गए आदेश सफदरजंग अस्पताल प्रशासन ने मामले की जांच का आदेश दिया है. अस्पताल में चिकित्सा अधीक्षक ए के राय ने बताया, महिला ने 22 हफ्ते पूर्व बच्चे को जन्म दिया. डब्ल्यूएचओ के दिशा-निर्देश के मुताबिक 22 हफ्ते पहले और 500 ग्राम से कम वजन का बच्चा जीवित नहीं रहता. जन्म के बाद बच्चे में कोई हरकत नहीं थी. साथ ही उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा, हमने जांच करने का आदेश दिया है कि क्या बच्चे को मृत घोषित करने और उसे अभिभावकों को सौंपने से पहले इसकी सही से जांच की गई थी या नहीं. बता दें कि एक डॉक्टर के मुताबिक ऐसे बच्चों को मृत घोषित करने के पहले करीब एक घंटे तक निगरानी में रखा जाता है.
Related News
64x64

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की पुण्यतिथि पर शुक्रवार को उन्हें श्रद्धांजलि दी और कहा कि उन्होंने देश के लिए जो महत्वपूर्ण…

64x64

लखनऊ । देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट से कार्यक्रम स्थल रिसालदार पार्क पहुंचे। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद बौद्ध भिक्षु प्रज्ञानंद को पुष्पांजलि अर्पित…

64x64

मुंबई : महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना का गठबंधन फिर संकट में पड़ता नजर आ रहा है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे और युवा सेना के अध्यक्ष आदित्य ठाकरे…

64x64

उदयपुर ... देश भर को हिला कर रख देने वाले राजसमंद निर्मम हत्याकांड के कई दिन बाद स्थिति अभी भी तनावपूर्ण बनी हुई है। लव जिहाद के नाम पर की…

64x64

लंदन। शराब कारोबारी विजय माल्या ने प्रत्यर्पण से बचने के लिए फिर भारतीय जेलों की खराब हालत की अजीबो-गरीब दलील दी है। भारतीय बैंकों का 9,000 करोड़ रुपये कर्ज नहीं…

64x64

नई दिल्ली... भारत में 1980 के दशक में डीरेग्युलेशन और रिफॉर्म्स यानी सुधारों का दौर शुरू होने के बाद से लोगों के बीच आर्थिक असमानता में भारी वृद्धि हुई है।…

64x64

नई दिल्ली: एक पारसी ट्रस्ट ने सदियों पुरानी परंपरा आज तोड़ दी और उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि वह अपने समाज से बाहर विवाह करने वाली पारसी महिला और…

64x64

घोघा (भागलपुर).यहां के एक फैमिली में भाभी को खुद के देवर से प्यार हो गया जिसके बाद फैमिली को टूटने से बचाने के लिए बड़े भाई ने दोनों की शादी…